भागलपुर में रेफरल अस्पताल में कमीशनखोरी का मामला:क्षेत्रीय अपर निदेशक व एसीएमओ ने अस्पताल प्रभारी से मांगा स्पष्टीकरण, पीड़ित ने कहा- न्याय नहीं मिला तो न्यायालय जाऊंगा

भागलपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सुलतानगंज रेफरल अस्पताल में कमीशनखोरी का मामला। - Dainik Bhaskar
सुलतानगंज रेफरल अस्पताल में कमीशनखोरी का मामला।

भागलपुर सुलतानगंज रेफरल अस्पताल में कमीशनखोरी मामले की जांच स्वास्थ्य विभाग के क्षेत्रीय अपर निर्देशक डॉ.अजय कुमार सिंह,आरपीएम अरुण प्रकाश, विजय कुमार, एस्टेनो राजीव नयन, राजू प्रसाद ने की। क्षेत्रीय अपर निर्देशक अजय कुमार सिंह ने राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के ड्राइवर कुमार सागर एंव राकेश कुमार से मामले की जानकारी ली साथ ही लिखित आवेदन लिया। वहीं रेफरल अस्पताल की प्रभारी डॉ.उषा कुमारी,रेफरल अस्पताल के प्रबंधक चंदन कुमार,लेखापाल सुजीत झा से कमीशन खोरी मामले का स्पष्टीकरण मांगा। निदेशक डॉ.अजय कुमार सिंह ने बताया कि मामले की जांच हो रही है।

सुलतानगंज रेफरल अस्पताल में कमीशनखोरी के मामले की जांच करते क्षेत्रीय अपर निदेशक व अन्य
सुलतानगंज रेफरल अस्पताल में कमीशनखोरी के मामले की जांच करते क्षेत्रीय अपर निदेशक व अन्य

सीएस के आदेश पर चार सदस्यीय टीम पहुंची जांच में

सुल्तानगंज रेफरल अस्पताल की प्रभारी के खिलाफ मिले शिकायत की जांच के लिए सीएस ने चार सदस्यी टीम को भेजा। सीएस ने कहा कि प्रभारी की शिकायत पूर्व में कई बार मिल चुकी थी। विभाग को कार्रवाई के लिए चिट्‌ठी भी लिखी गई थी। वहीं चार सदस्यीय टीम रेफरल अस्पताल पहुंचकर जांच की। इस दौरान एसीएमओ डॉ.अंजना कुमारी, एसीएमओ डॉ.दीनानाथ, डीआईओ डॉ.मनोज चौधरी, डिस्ट्रीक्ट मैनेजर विकास कुमार ने सभी बिंदुओं पर जांच की। राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के बेलोरो ड्राइवर सागर कुमार,रबकेश कुमार से कमिशन खोरी का वायरल ऑडियो व खाते की जांच की। साथ ही रेफरल प्रभारी डॉ. उषा कुमारी, प्रबंधक चंदन कुमार,लेखापाल सुजित झा से भी मामले को लेकर पूछताछ की।

वायरल ऑडियो की होगी एक्सपर्ट जांच, पीड़ित ने कहा निष्पक्ष जांच नहीं तो न्यायालय जाएंगे

एसीएमओ डॉ.अंजना कुमारी ने बताया की वायरल ऑडियो की जांच एक्सपर्ट से करवाई जाएगी। साथ ही खाता का भी जांच की गई है। मामले को लेकर आगे की कार्रवाई होगी। साथ ही रेफरल अस्पताल के राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के ड्राइवर कुमार सागर ,रबकेश कुमार ने कहा कि निष्पक्ष जांच नहीं होती हैं तो न्यायालय की शरण में जाऊंगा।

खबरें और भी हैं...