पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

दुखद:आत्महत्याओं में कॉमन यह कि दोनों के पैर जमीन छू रहे थे, डीएसपी बोले-सुसाइड है

भागलपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पति की आत्महत्या के रोती-बिलखती कांग्रेस नेत्री सुनंदा रक्षित। मौके पर अन्य लोग।
  • तातारपुर के गोल कोठी और आदमपुर के जेपी अपार्टमेंट फ्लैट नंबर-301 में घटी घटना

शहर में मंगलवार को हुई दोनों आत्महत्याओं में एक समानता दिखी। मरने वाले आशीष रक्षित और प्रतीक जैन ने अपने-अपने बेडरूम में पंखे के सहारे फांसी लगाई थी। दोनों का पैर जमीन छू रहा था। आशीष रक्षित के पलंग पर कुर्सी भी थी, जिसपर चढ़ कर वे फंदे से झूले। जबकि प्रतीक जैन के पलंग या उसके आसपास कोई कुर्सी-टेबुल नहीं था। प्रतीक का फंदा पंखे में डैना में बंधा था, जो टेढ़ा हो गया था। दोनों घटनाओं की जांच के बाद सिटी डीएसपी राजवंश सिंह ने बताया कि मामला सुसाइड का है। वैसे पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद सही कारण सामने आएगा।

नशे के कारण प्रतीक का व्यवहार बदल गया था, बात-बात पर झगड़ जाता था, सभी परेशान थे

भागलपुर| तातारपुर के गोल कोठी मोहल्ले में नशे के आदी युवा व्यवसायी प्रतीक जैन (32) एल्युमिनियम के व्यवसाय से जुड़े थे, जिसका स्लाइडर खिड़की, दरवाजा आदि बनता है। प्रतीक और उसके घर की देखभाल करने के लिए मात-पिता ने बगल के शंकर यादव को रखवाले के रूप में रखा था। शंकर ने बताया कि वह सुबह पौने दस बजे के करीब प्रतीक के घर पहुंचा तो उसके कमरे का दरवाजा भीतर से बंद था। आवाज देने पर जब प्रतीक ने दरवाजा नहीं खोला तो शंकर ने आसपास के लोगों को बुला लिया। प्रतीक के स्थानीय परिजनों को सूचना दी गई। सिटी डीएसपी राजवंश सिंह, प्रशिक्षु डीएसपी दिवेश कुमार, डॉ. गौरव, विपिन बिहारी, तातारपुर थाने के दारोगा मो. कमाल पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे। दरवाजा तोड़कर फंदे से झूल रहे शव को उतारा गया।

बात-बात पर गुस्सा हो जाता था, पिता की हत्या करने की बात करता था
बहन स्नेहा ने बताया कि पुलिस को बताया कि नशे के कारण प्रतीक का व्यवहार बदल गया था। बात-बात पर गुस्सा हो जाता था और झगड़ लेता था। हद तो तब हो गई, जब वह अपने पिता की हत्या की बात कहने लगा। उसके व्यवहार से सभी परेशान थे। उसकी दोस्ती भी गलत लड़कों के साथ थी, जो उसे नशे को बाध्य करते थे। प्रतीक कभी भी फोन लगाकर हाइपर हो जाता था। सोमवार रात को उसने फोन किया था। रात 11.45 बजे उसका मिस्ड कॉल था। प्रतीक के कमरे में भी कुछ दवा और सिरगेट का पैकेट पड़ा था।

प्रतीक जैन की बहन स्नेहा उर्फ मीनू से घटना की जानकारी लेते सिटी डीएसपी राजवंश सिंह।
प्रतीक जैन की बहन स्नेहा उर्फ मीनू से घटना की जानकारी लेते सिटी डीएसपी राजवंश सिंह।

तेज आवाज में टीवी चला कर फंदे से झूल गए कांग्रेस नेता सुनंदा के दवा कारोबारी पति
भागलपुर |
आदमपुर स्थित जेपी अपार्टमेंट के फ्लैट नंबर-301 में बीमारी से परेशान कांग्रेस नेत्री सुनंदा रक्षित के दवा कारोबारी पति आशीष रक्षित (55)के पुत्र अमित कुमार ने बताया कि पिता के ब्रेन का कोई नस दब गई थी। सिलीगुड़ी से इलाज चल रहा था। उन्हें मिर्गी का भी दौरा आता था। कुछ दिनों से उनका ब्लड शूगर 450 के पार चला गया था। वे डिप्रेशन में रहते थे। मरने की बात करते थे। दो दिन पहले ही डॉक्टर से पिता का चेकअप कराया था। बीमारी से परेशान होकर उन्होंने आत्महत्या कर ली। 
बताया जाता है कि आत्महत्या के समय बेडरूम में तेज आवाज में टीवी चला दिया और दरवाजे को सटा दिया। ताकि चिल्लाने या झटपटाने की आवाज बाहर नहीं जा सके। बहूू घर पर थी उसे लगा कि  ससुर अपने कमरे टीवी देख रहे हैं।

मूल रूप से दुमका के रहने वाले थे आशीष, नगर विधायक ने सांत्वना
आशीष रक्षित और उनका परिवार मूलत: दुमका शहर के बांध पाड़ा, नापित पाड़ा के रहने वाला हैं। आशीष की भाभी अमिता रक्षित भाजपा की नेत्री और दुमका नगर परिषद की दो बार चैयरमेन रह चुकी है। 20-25 सालों से आशीष रक्षित और उनका परिवार भागलपुर में रह रहा है। अपने पीछे भरा-पूरा परिवार छोड़ गए। नगर विधायक अजीत शर्मा कांग्रेसी नेत्री सुनंदा रक्षित के घर पहुंच कर उन्हें व उनके परिजनों को सांत्वना दी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस परिवार दु:ख की इस तरह में सुनंदा और उनके परिजनों के साथ खड़ा है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज कड़ी मेहनत और परीक्षा का समय है। परंतु आप अपने लक्ष्य को प्राप्त करने में सफल रहेंगे। बुजुर्गों का स्नेह व आशीर्वाद आपके जीवन की सबसे बड़ी पूंजी रहेगी। परिवार की सुख-सुविधाओं के प्रति भी आपक...

और पढ़ें