पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

घोटाले का महासृजन:जेल से छूटे कर्मियों काे याेगदान की मंजूरी देने में असमंजस

भागलपुर11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • जेल से आने लगे हैं कर्मचारी, ड्यूटी ज्वाइन करने के लिए दे रहे आवेदन, कुछ और जमानत के लिए कर रहे प्रयास
  • जिला भू-अर्जन कार्यालय के पूर्व नाजिर ने तीन माह पहले दिया था आवेदन, अब तक फैसला नहीं

सृजन घाेटाला उजागर हाेने के करीब चार साल हाेने काे हैं। जिले के अलग-अलग विभागाें के आधा दर्जन से अधिक कर्मचारी सृजन घाेटाले में फंसे हुए हैं। उनमें से कई अभी पटना के बेउर जेल में बंद हैं ताे कुछ जेल से बाहर आ गए हैं।

बाकी भी बाहर निकलने के लिए न्यायिक प्रक्रिया में जुटे हैं। जेल से बाहर आए कर्मी अपना अपने विभाग में याेगदान के लिए आवेदन दे रहे हैं। लेकिन याेगदान की स्वीकृति देने में विभाग के अफसर असमंजस में हैं। इस कारण से कई माह बीत जाने के बाद भी स्वीकृति नहीं दे रहे है। भागलपुर सेंट्रल काे-ऑपरेटिव बैंक के पूर्व एमडी सह पूर्व जिला सहकारिता पदाधिकारी पंकज कुमार झा ने जुलाई 2020 में ही याेगदान के लिए आवेदन दिया था। लेकिन इसकी स्वीकृति दाे फरवरी 2021 काे दी गई।

हालांकि इसके बाद भी उन्हें निलंबन से मुक्त नहीं किया जा सका है। काेतवाली में चल रहे केस के कारण उन्हें फिर निलंबित कर दिया गया। जिला भू-अर्जन कार्यालय के पूर्व नाजिर राकेश झा ने करीब दाे माह पहले ही याेगदान के लिए आवेदन दिया था। लेकिन अब तक याेगदान की स्वीकृति नहीं दी जा सकी है। इस मामले में डीएम से मंतव्य मांगा गया था। लेकिन अब तक काेई निर्णय नहीं लिया जा सका है। न याेगदान की स्वीकृति दी गई है और न ही उसे अस्वीकृत किया गया है।

अलग-अलग विभागाें के आधा दर्जन से अधिक अफसर और कर्मी हैं जेल में
सृजन घाेटाले में जितने कर्मी अभी जेल में हैं, उन सबकी गिरफ्तारी एसआईटी की जांच के दाैरान हुई थी। इनमें जिला नजारत के पूर्व नाजिर अमरेंद्र यादव, जिला परिषद के पूर्व नाजिर राकेश यादव, जिला भू-अर्जन के पूर्व नाजिर राकेश झा, डूडा के क्लर्क, डीआरडीए के क्लर्क अरुण कुमार, पूर्व जिला लाेक शिकायत निवारण पदाधिकारी राजीव रंजन, पूर्व जिला कल्याण पदाधिकारी अरुण कुमार समेत कई अफसर व कर्मी घाेटाले में फंसे हैं। सहकारिता विभाग के भी तीन अफसर व कर्मी भी फंसे हुए हैं।

इनमें से कई अब भी जेल में हैं। जानकारी के मुताबिक पूर्व नाजिर अमरेंद्र यादव और राकेश यादव भी जेल से बाहर निकलने के लिए जमानत के लिए प्रयास कर रहे हैं। ये सब जब बाहर आएंगे ताे याेगदान के लिए प्रयास करेंगे। यही वजह है कि जिला भू-अर्जन कार्यालय के पूर्व नाजिर के याेगदान की स्वीकृति अभी तक नहीं की जा सकी है।

सीबीआई की चल रही जांच, इसलिए याेगदान लेने से हिचक रहे
प्रशासन और विभाग याेगदान की स्वीकृति इसलिए नहीं दे रहा है क्याेंकि घाेटाले की जांच अभी सीबीअाई कर रही है। जिस मामले में वे लाेग जेल गए थे, वे एसआईटी की ओर से किए गए केस थे। लेकिन इसके बाद से सीबीआई ने भी उनलाेगाें के खिलाफ केस किया और उसकी जांच कर रही है। इस कारण अफसर याेगदान पर निर्णय नहीं ले पा रहे हैं। डर है कि याेगदान पर सीबीआई आगे उनलाेगाें काे भी कहीं अपने रडार पर न ले ले।

विभागाें काे आशंका, विभागीय कार्यवाही हाे सकती है प्रभावित
याेगदान नहीं कराने के पीछे विभाग की आशंका यह भी है कि याेगदान के बाद वे विभागीय कार्यवाही प्रभावित कर सकते हैं। क्याेंकि सृजन घाेटाले में फंसे सभी कर्मियाें और अफसराें के खिलाफ विभागीय कार्यवाही भी चल रही है। अफसर उनका सस्पेंशन भी खत्म नहीं कर रहे हैं, क्याेंकि मामला अभी सीबीआई के पास है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थितियां पूर्णतः अनुकूल है। सम्मानजनक स्थितियां बनेंगी। विद्यार्थियों को कैरियर संबंधी किसी समस्या का समाधान मिलने से उत्साह में वृद्धि होगी। आप अपनी किसी कमजोरी पर भी विजय हासिल...

    और पढ़ें