भागलुपर में युवक के सिर में मारी 4 गोली:घर आ रहा था, तभी अपराधियों ने रोका और साइड ले जाकर गोलियों से भूना; परिजन बोले- रंगबाजी नहीं दिया तो हत्या कर दी

भागलपुर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शव को लेकर पोस्टमार्टम के लिए जाते परिजन। - Dainik Bhaskar
शव को लेकर पोस्टमार्टम के लिए जाते परिजन।

भागलपुर में रंगदारी को लेकर गांव के ही बदमाशों ने एक युवक को बुलाकर गोली मारकर हत्या कर दी। मामला नवगछिया के खरीक प्रखण्ड के नदी थाना क्षेत्र के धोरिया गांव की है। मृतक विन्देश्वरी यादव का 25 वर्षीय पुत्र सिंटू यादव बताया जाता है। परिजनों ने बताया कि घटना शुक्रवार रात की है। सिंटू यादव खेत से घर लौट रहे थे, तभी रास्ते मे उसे गांव के ही लक्ष्मी यादव के पुत्र बबलू यादव बाइक से आ रहा था। उसने सिंटू को रोका और अपने साथ ले गया। कुछ दूर ले जाते ही उसे गोलियों से भून डाला। गोलियों की आवाज सुनते ही सिंटू के दोनो भाई पिंटू और फंटू उधर दौड़ पड़े। आनन फानन में परिजनों ने उसे अनुमंडलीय अस्पताल नौगछिया ले गए, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

परिजन बता रहे हैं ये वजह

मृतक के भाई पिंटू यादव ने बताया कि बदमाशों ने चार गोली मारी है। चारों गोली सिर में ही मारी गई है, जिसमें एक आगे से जबकि तीन गोली सर के पीछे में मारी गई है। उनके भाई सिंटू की हत्या करने में बबलू यादव, पप्पू यादव, दिलीप यादव, समेत आधा दर्जन लोग थे। पिंटू यादव ने बताया कि उसके पिता विन्देश्वरी यादव ने जनवरी 2020 में गणेशपुर निवासी संजय शर्मा से साढ़े बेरासी लाख रुपये प्रति कट्ठा की दर से लगभग डेढ़ बीघा जोत का जमीन खरीदा। बबलू यादव और पिंटू यादव उनसे खरीदे गए जमीन के लिए 40 हजार रुपया प्रति कट्ठा जमीन के लिए रंगबाजी की मांग कर रहा था। रंगबाजी नहीं देने पर बदमाशों ने ले जाकर गोली मार दी।

पूर्व मुखिया के बेटे की हत्या से भी जुड़ा है मामला

जानकारी के मुताबिक 2011 में पूर्व मुखिया जगरु पासवान के बेटे अरुण पासवान की हत्या कर दी गयी थी जिसमे पप्पू यादव ने सिंटू यादव का भी नाम लिया था। इस मामले में दोनो जेल भी गए थे। इस वजह से पप्पू यादव और सिंटू यादव में प्रायः तनाव होते रहता था।

सूचना देने के दो घण्टे बाद पहुंची पुलिस-

मृतक के चाचा अरविंद यादव ने बताया कि घटना होते ही उन्होंने घटना की जानकारी नदी थाना को दी लेकिन पुलिस नही आई। फिर करीब आधे घंटे के बाद परिजनों ने नौगछिया एसपी को फोन किया। तब करीब 2 घंटे में नौगछिया और नदी थाना की पुलिस घटनास्थल पर पहुंची और पुलिस में लाश को उठाकर नौगछिया अनुमंडलीय अस्पताल ले आयी। फिर परिजन उसे भागलपुर के मायागंज अस्पताल ले आई। परिजनों ने कहना है कि पुलिस अगर सूचना देने के साथ ही तुरंत आ जाती तो शायद सभी अपराधी पकड़ में आ जाते लेकिन पुलिस की लापरवाही की वजह से सभी बदमाश फरार हो गए।

क्या कहती है पुलिस

नदी थानाध्यक्ष सतीशचन्द्र सिंह ने बताया कि यह हत्या आपसी वर्चस्व की वजह से हुई है। उन्होंने कहा कि मृतक सिंटू पर नदी थाना में लगभग 7 मामले दर्ज हैं। इसके अलावे खरीक थाने में भी हत्या और आर्म्स एक्ट के कई मामले दर्ज हैं। बबलू यादव ,पप्पु यादव पर भी कई मामले दर्ज हैं। ये लोग कई बार जेल भी जा चुके हैं।

खबरें और भी हैं...