खुलासा:रंगाई-पुताई करने वाले धरम ने काजवलीचक के आतिशबाजों से ली थी बम बनाने की ट्रेनिंग

भागलपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
धरम राम ने ली थी ट्रेनिंग। बम बनाने में उड़ गया था उसका हाथ। - Dainik Bhaskar
धरम राम ने ली थी ट्रेनिंग। बम बनाने में उड़ गया था उसका हाथ।

जगदीशपुर के सैदपुर बहियार में गांव के धर्मेंद्र राम और उसके दोस्त से बरामद बम तातारपुर के रामसर मोहल्ला निवासी धरम राम ने बनाया था। धरम रंगाई-पुताई का काम करता है। 15 दिन पहले सैदपुर स्थित अपने ससुराल की छत पर बम बनाने में उसके दाहिने हाथ की हथेली उड़ गई थी। अब उसका साला धर्मेंद्र और उसका दोस्त दो जिंदा बम के साथ गिरफ्तार हुआ है।

पुलिस की जांच में आया है कि धर्मेंद्र और उसके साथी के पास से बरामद बम धरम ने बनाया था। सूत्रों का कहना है कि रामसर मोहल्ला के रहने वाले धरम ने पड़ोस के काजवलीचक के आतिशबाजों से बम बनाने की ट्रेनिंग ली थी। धरम 28 नवंबर को ससुराल की छत पर तीन बम बनाया था। आखिरी बम बांधने में विस्फोट हो गया था, जिसमें धरम जख्मी हो गया था। यह भी बात सामने आई है कि उसने दोनों साला को भी बम बनाने की ट्रेनिंग दे रखी है। पुलिस को जितेंद्र की भी तलाश है।

अब एक साला जिंदा बम के साथ गिरफ्तार, दूसरे की तलाश

धरम ने एक हाथ गंवाई, फिर भी परिजन बम से ही खेल रहे
पुलिस का कहना है कि बम बनाने में जख्मी धरम को एक हाथ गंवाना पड़ा। मायागंज अस्पताल के डॉक्टर ने उसका एक हाथ काट दिया है। धरम को इतना गहरा घाव होने के बाद भी उसके ससुराल वाले बम से खेल कर रहे थे और मौत के सामान को दूसरे स्थान पर शिफ्ट कर रहे थे।

बहनोई के जख्मी होने पर साला ने सुनाई थी झूठी कहानी
बम बनाने में धरम के जख्मी होने के बाद परिजनों ने मायागंज अस्पताल में भर्ती कराया था। उसे साला धर्मेंद्र ही अस्पताल आया था, जो मंगलवार को बम के साथ गिरफ्तार हुआ। तब धर्मेंद्र से पुलिस को बताया था कि पटाखे से बहनोई जख्मी हुआ है। घरवाले धान कटाई में लगे थे, तभी विस्फोट हुआ और जीजा जख्मी हो गया। लेकिन अब धर्मेंद्र के बम के साथ गिरफ्तार होने के बाद पटाखा वाली उसकी झूठी कहानी का पर्दाफाश हो गया है।

खबरें और भी हैं...