अब ऑटोमेटिक मशीन से सफाई:डीआरएम यतेंद्र कुमार ने यार्ड में 1.98 करोड़ की लागत से बने प्लांट का किया उद्घाटन

भागलपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
रेलवे यार्ड में नए ऑटोमेटिक कोच वाशिंग मशीन का उद्घाटन करते डीआरएम। - Dainik Bhaskar
रेलवे यार्ड में नए ऑटोमेटिक कोच वाशिंग मशीन का उद्घाटन करते डीआरएम।
  • x

आजादी 75वें अमृत महोत्सव पर रेलवे यार्ड में 1.98 करोड़ की लागत से लगे ऑटोमेटिक कोच वाशिंग मशीन सोमवार को पूर्व रेलवे के डीआरएम यतेंद्र कुमार उद्घाटन किया। इसके शुरू होने से 24 कोच के बाहरी हिस्से को धोने में सिर्फ आठ मिनट लगेंगे। एसडीईएम एसके तिवारी ने बताया कि ऑटोमेटिक कोच वाशिंग मशीन मुख्य विशेषता यह है की यह कोचों को बाहरी रूप से धोने में सक्षम है। इसे लगाने का मकसद यह है की इससे पानी की बर्बादी नहीं हाेगी। इसमें उपयोग होने वाले पानी को रिसाइकिल कर फिर से उपयोग में लाया जा सकता है। मैनुअल सफाई में प्रति कोच 400 लीटर पानी की खपत होती है, जबकि एसीडब्ल्यूपी के साथ प्रति कोच केवल 300 लीटर पानी की खपत होती है, जिसमें ताजे पानी की मात्रा 60 लीटर होती है। शेष 240 लीटर पानी रिसाइकिल किया होता है। इस मशीन की मदद से प्रतिवर्ष 86.8 लाख लीटर पानी बचत होती है। सफाई के लिए प्रतिदिन 17 कर्मचारी कम लगेंगे। मशीन से सफाई से एक वर्ष में 20.2 लाख रुपये की बचत होगी। स्टाफ को भी काम करने में आसानी होगी।

75 फ्रीडम स्टेशनों में भागलपुर का चयन

खबरें और भी हैं...