राहत की खबर:कोरोना मरीजों के लिए काफी बेड खाली पैनिक न हों, तबियत बिगड़े तो हाें भर्ती

भागलपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सदर अस्पताल के भी सभी बेड पर है ऑक्सीजन की सुविधा - Dainik Bhaskar
सदर अस्पताल के भी सभी बेड पर है ऑक्सीजन की सुविधा
  • मायागंज में 38 तथा सदर अस्पताल के काेविड सेंटर में 96 बेड उपलब्ध

कोरोना मरीजों को बेड और उचित इलाज के लिए जहां हर ओर परेशानी है वहीं भागलपुर के लिए एक अच्छी खबर है। यहां के अस्पतालों में अभी कई बेड खाली है। जिले में ऑक्सीजन का भी पर्याप्त भंडार है। बाजार में दवा भी उपलब्ध है। इसलिए मरीजाें व परिजनाें काे पैनिक हाेने की जरूरत नहीं है। कोविड के लक्षण या शक होने पर तुरंत नजदीकी अस्पताल में टेस्ट कराएं। निगेटिव रिपोर्ट आए तब भी घरों में ही रहें। बेवजह बाहर न जाएं।

पॉजिटिव रिपोर्ट आने पर होम आइसोलेट हाे जाएं। हां, हमेशा टेम्परेचर और ऑक्सीजन लेवल जरूर जांचते रहें। यदि तबियत बिगड़ने लगे तो कोरोना मरीजों के इलाज के लिए बनाए गए अस्पतालों में तुरंत भर्ती हो जाएं। ऑक्सीजन लेवल 93 से कम हाेने पर ही अस्पतालाें में भर्ती हाेने की जरूरत है। पिछले एक हफ्ते में जिले में 1500 से ज्यादा लोग स्वस्थ हुए हैं। साेमवार काे शाम सात बजे की स्थिति के अनुसार काेविड डेडिकेटेड मेडिकल काॅलेज अस्पताल में अभी काेविड मरीजाें के लिए 370 बेड हैं। इनमें 38 बेड खाली है। इमरजेंसी में 15 काेविड सस्पेक्टेड मरीजाें का इलाज चल रहा है। यहां वेंटिलेटर पर 4 मरीज हैं। सदर अस्पताल के काेविड केयर सेंटर में सभी 100 बेड पर ऑक्सीजन की सुविधा है। यहां 96 बेड खाली हैं।

डीएम की अपील- लोग घबराएं नहीं, हालात नियंत्रण में हैं

डीएम सुब्रत सेन ने भागलपुर के आम लोगों से अपील की है कि जिले में हालात पूरी तरह नियंत्रण में है। मरीजों की सुविधा के लिए तीन सरकारी कोविड डेडिकेटेड हॉस्पिटल में व्यवस्था की गई है। जिस मरीज के शरीर के ऑक्सीजन का स्तर 94 फीसदी से अधिक होने के बाद भी बुखार, गला सूखना कब सर्दी शरीर में दर्द स्वाद और सूंघने की शक्ति का कम होना आदि लक्षण दिख रहे हैं तो वे टीटीसी के कोविड केयर सेंटर में भर्ती हो जाएं। जिनके ऑक्सीजन का लेवल 90 से 94 के बीच यदि आ रहा हो तो वह सदर अस्पताल के डेडीकेटेड हेल्थ सेंटर में भर्ती हो जाएं। जिस मरीज के शरीर का ऑक्सीजन लेवल 90 प्रतिशत से कम है तो वे तुरंत मायागंज स्थित डेडिकेटेड कोविड हॉस्पिटल में भर्ती हो जाएं।

हेल्पलाइन नंबर
हेल्पलाइन नंबर

दवा के प्रिंट से ज्यादा पैसे लेने पर प्रशासन को शिकायत करें

कोविड के इलाज में काम आने वाली सारी दवा फिलहाल बाजार में उपलब्ध है। लेम-सी की किल्लत कुछ दुकानों में है। लेकिन घबराएं नहीं, सेलिन खरीद लें। यह भी विटामिन सी ही है। यदि कहीं कोई केमिस्ट प्रिंट से ज्यादा पैसे ले रहे हों या कालाबाजारी की जा रही है तो उसकी शिकायत प्रशासन से करें। संघ भी ऐसे दुकानदारों पर एक्शन लेगा। दुकानदारों से भी अपील है कि इस समय मरीजों की सुविधाओं का पूरा ध्यान रखें। उन्हें दवा उपलब्ध कराएं।
- प्रदीप जैन, संयुक्त सचिव, भागलपुर केमिस्ट एंड ड्रगिस्ट एसाे.

खबरें और भी हैं...