• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Bhagalpur
  • Even After Fasting In Jiutia, Women Queue At The Booth, Waiting 6% More Than Men; 62% Voting In Jagdishpur Block Till 5 Pm, 59% Males And 65% Females Cast Their Votes

पंचायत चुनाव:जिउतिया में उपवास के बाद भी बूथ पर महिलाओं की कतार, की पुरुषों से 6% ज्यादा वेटिंग; जगदीशपुर प्रखंड में शाम 5 बजे तक 62% वोटिंग, 59% पुरुष तो 65% महिलाओं ने डाले वोट

भागलपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जगदीशपुर@ प्राथमिक स्कूल जमनी केंद्र पर वाेट देने के लिए कतार लगी। यहां कीचड़ था, इसलिए केंद्र तक पहुंचने के लिए खेत में चौकी लगानी पड़ी। - Dainik Bhaskar
जगदीशपुर@ प्राथमिक स्कूल जमनी केंद्र पर वाेट देने के लिए कतार लगी। यहां कीचड़ था, इसलिए केंद्र तक पहुंचने के लिए खेत में चौकी लगानी पड़ी।

जिउतिया पर्व के साथ बुधवार काे लोकतंत्र का पर्व भी उत्साह के साथ मना। जगदीशपुर में पंचायत चुनाव का आगाज हाे गया। प्रखंड के 14 पंचायतों में दाे जिला परिषद सदस्य, 14 मुखिया, 14 सरपंच, 18 पंचायत समिति सदस्य, 179 पंचायत सदस्य और 179 पंच के पदाें के लिए 208 बूथाें पर वाेटिंग हुई। सुबह 7 बजे से शाम पांच बजे तक लोगों ने मतदान किए। शांतिपूर्ण माहाैल में मतदान हुआ। प्रखंड में 62% मतदान हुआ।

इसमें महिलाओं ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया। जिउतिया पर्व में उपवास के बाद भी पुरुषाें की तुलना में मतदान केंद्राें पर महिला मतदाताओं की संख्या ज्यादा दिखी। ज्यादातर बूथाें पर महिलाओं की लंबी कतार नजर आई। आलम यह रहा कि शाम तक महिलाओं ने लोकतंत्र के त्योहार में पुरुषों को पीछे छोड़ा और पुरुषाें से 6% ज्यादा मतदान किया।

  • 208 बूथाें पर 406 पदाें के लिए वाेटिंग, केवल 172 केंद्राें पर ही बायाेमेट्रिक मशीन पर अंगूठा लगा हुआ मतदान
  • जमनी सामुदायिक केंद्र पर बने बूथ पर जाने के लिए लाेगाें ने खेत में चाैकी लगाकर बनाया रास्ता, फिर डाले वोट

खाना नहीं बनाना था इसलिए वोटिंग के लिए सुबह ही पहुंच गईं
पुरुषाें का वाेटिंग प्रतिशत 59 फीसदी था, जबकि महिलाओं के मतदान का प्रतिशत 65 फीसदी रहा। जमनी सामुदायिक भवन के बूथ संख्या 10 पर वाेट डालने आईं महिलाओं ने बताया कि जिउतिया में उपवास पर रहने के कारण खाना बनाना नहीं पड़ा।

इसलिए सुबह ही वाेट डालने आ गए। इस बूथ पर जाने के लिए खेत का एक हिस्सा भी पड़ रहा था। जिसमें कीचड़ था, इसलिए मतदान भवन तक पहुंचने के लिए खेत में चाैकी लगाकर रास्ता बनाया गया था, ताकि वाेटराें काे आने-जाने में दिक्कत न हाे।

खबरें और भी हैं...