NTPC कहलगांव का बालिका सशक्तिकरण अभियान कार्यशाला शुरू:10-12 आयु वर्ष की बालिकाएं शामिल, 4 सप्ताह में सुविधा विहिन बालिका बनेगी शिक्षित व सशक्त

भागलपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कार्यक्रम में शामिल बच्चियां। - Dainik Bhaskar
कार्यक्रम में शामिल बच्चियां।

एनटीपीसी बालिकाओं के उत्थान व आत्मनिर्भर बनाने के लिए सहायता प्रदान करती रही है। एनटीपीसी कहलगांव ने 23 मई 2022 को आस-पास के क्षेत्रों की बालिकाओं को सशक्त बनाने के लिए बालिका सशक्तिकरण अभियान प्रारंम्भ किया है। चार सप्ताह तक चलने वाली इस आवासीय कार्यशाला में परियोजना प्रभावित विभिन्न प्राथमिक विद्यालय के 10-12 आयुवर्ग के 120 बालिकाएं हिस्सा ले रही हैं । इस अभियान का मुख्य उदेश्य एनटीपीसी परियोजनाओं के आस-पास के रहने वाली सुविधा विहिन बालिकाओं को हर संभव तरीके से शिक्षित और सशक्त बनाना है।

28 दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला में होगी विभिन्न गतिविधियां

बालिका सशक्तिकरण अभियान 28 दिन का एक आवासीय प्रशिक्षण कार्यशाला है। जिसमें बालिकाओं के व्यक्तित्व एवं प्रतिभा को निखारने के लिए विभिन्न गतिविधियों का आयोजन किया जाएगा। इस कार्यशाला में योग, ड्राईंग-पेन्टिग, नृत्य एवं संगीत, खेलकूद, आत्मरक्षा के लिए ताइक्वाडो व अकादमिक अध्यापन गणित, विज्ञान, अंग्रेजी, सामाजिक विज्ञान एवं कम्प्यूटर शिक्षा का प्रशिक्षण कुशल शिक्षिकाओं द्वारा दिया जाएगा।

बोले कार्यकारी निदेशक : 35 प्रोजेक्ट लोकेशन्स पर इस पहल को बढ़ाने की योजना बनाई

कार्यकारी निदेशक (सीएसआर एवं आर एंड आर) राकेश प्रसाद ने कहा कि एनटीपीसी परियोजना के आसपास गांव की बालिकाओं के उत्थान के प्रयासों के तहत कंपनी ने इस साल लगभग 35 प्रोजेक्ट लोकेशन्स पर इस पहल को बढ़ाने की योजना बनाई है। इसी कड़ी में एनटीपीसी ने इस अभियान के तहत देश भर की बालिकाओं को सशक्त बनाने के साथ ही उन्हें बुनियादी शिक्षा, स्वास्थ्य एवं आत्मरक्षा हेतु जागरुक कर रहा है। इस पहल के माध्यम से एनटीपीसी ने खासतौर पर ग्रामीण क्षेत्रों में फैली रूढ़ीवादी अवधारणाओं को दूर करने और बालिकाओं को समाज की मुख्य धारा में जोड़ने का कार्य करेगी ।

बालिकाओं को गुणवत्तापूर्ण संचारर व साजाजिक कौशल के पर्याप्त अवसर मिले

राकेश प्रसाद ने कहा की बालिका सशक्तीकरण अभियान सुनिश्चित करता है कि इन बच्चों का समग्र विकास हो, उन्हें गुणवत्तापूर्ण संचार एवं सामाजिक कौशल के पर्याप्त अवसर मिलें। यह मिशन विशेष रूप से बालिकाओं में रचनात्मकता, सामाजिक एवं भावनात्मक विकास, मनोवैज्ञानिक विकास को बढ़ावा देता है।

19 जून तक चलेगा कार्यक्रम, बढ़ेगा आत्मनिविशेक

मुख्य महाप्रबंधक (कहलगांव)अरिंदम सिन्हा ने कहा कि बालिका सशक्तिकरण अभियान 19 जून 2022 तक परियोजना के आवासीय परिसर में स्थित हॉस्टल में चलेगा। उन्होनें ने कहा कि यह कार्यशाला का आयोजन एनटीपीसी के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक गुरदीप सिंह का एक स्वप्न था कि हमारी कंपनी बालिका सशक्तिकरण मिशन की दिशा में ग्रामीण बालिकाओं को समाज की मुख्य धारा से जोड़ने, उनके सपनों को एक नया आयाम देने, उनके अंतर्मन में आशा, आत्मविश्वास, कुछ कर गुजरने की ललक जगाने के लिए एक अहम व रचनात्मक भूमिका निभाए और भारत सरकार के “बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ” अभियान में यथोचित योगदान दे सकें. इसी के चलते इस अभियान की शुरूआत की गई है। बालिकाओं के सुखद और सुरक्षित रहने के लिए विशेष इंतजाम किए गए हैं। पूरा होस्टल सीसीटीवी कैमरे की निगरानी में है और सुरक्षा के लिए महिला सुरक्षा गार्ड का प्रबंध किया गया है ।

खबरें और भी हैं...