पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सरकार के दावों की खुली पोल:1000 को रोजगार देने को बनाए 5 प्रोजेक्ट 4 शुरू, एक बंद, 117 को ही मिल सका काम

भागलपुर20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोनाकाल में लौटे प्रवासियों को रोजगार देने के सरकारी दावे खोखले नजर आ रहे हैं। तकरीबन 1000 प्रवासियों को रोजगार देने के लिए उद्योग विभाग ने पांच प्रोजेक्ट बनाए। इनमें चार चालू भी हुए, लेकिन एक बंद हो गए। फुटवेयर क्लस्टर मशीनों के अभाव में शुरू ही नहीं हो सका। नतीजा, महज 117 लोगों को ही रोजगार मिला। आलम यह है कि सैनेटरी पैड और दो रेडिमेड गारमेंट की यूनिट ही चल रही है।

बिहपुर में हनी प्रोसेसिंग यूनिट की शुरुआत हुई तो कोरोना की दूसरी लहर में यह बंद हो गई। अब विभाग 75 लाख से नया क्लस्टर बनाने की योजना तैयार कर रहा है। लेकिन सवाल यह है कि बाकी 883 लोगों को विभाग किस क्लस्टर में रोजगार देगा?

34 महिलाओं का समूह बना रहा है सैनेटरी पैड
जिला उद्योग केंद्र की बियाडा में संचालित सैनेटरी पैड यूनिट और रेडिमेड गारमेंट की दो यूनिट अभी चालू है। सबौर की 34 महिलाओं का समूह सैनेटरी पैड बना रहा है। इसकी मार्केटिंग भी की जा रही है। इसी तरह, जगदीशपुर के बलुआचक में रेडिमेट गारमेंट में 36 और बिहपुर के पंचायत भवन में 20 लोगों को रोजगार दिया गया है। यहां पर शेरवानी व बंडी का निर्माण होना है।

27 प्रवासियों के लिए बिहपुर में खुला हनी प्रोसेसिंग प्लांट बंद
बिहपुर के बभनगामा में हनी प्रोसेसिंग प्लांट भी कोरोनाकाल में चालू हुआ। राज्य सरकार की 10 लाख की मदद से प्रदीप कुमार सिंह की अगुवाई में 27 प्रवासियों का ग्रुप इसे चला रहा है। नवप्रवर्तन योजना से लुधियाना से आधुनिक मशीन लगाई गई हैं। मधुमक्खी पालन एवं शहद उत्पादक प्रसंस्करण व विपणन सहकारी समिति, बभनगामा के नाम से चल रहे इस प्लांट को शहद उपलब्ध कराने के लिए पूर्णिया के बायसी और नवगछिया में बॉक्स लगाया गया।

नारायणपुर में फुटवियर प्रोजेक्ट पाइपलाइन में
नवप्रवर्तन योजना से नारायणपुर में जूते-चप्पल बनाने के लिए जिले में पहला फुटवियर क्लस्टर खोलने की योजना है। करीब 10 लाख से इस क्लस्टर का काम पूरा हो गया। सिर्फ मशीनें आनी बाकी हैं। मशीनें आने के बाद यहां 14 लोगों को रोजगार मिलेगा। उद्योग विभाग के महाप्रबंधक रामशरण राम ने बताया कि मशीन की खरीद के लिए टेंडर फाइनल है।

रोजगार परक प्रोजेक्ट इसी साल होगा लांच

प्रवासियों के रोजगार के लिए 75 लाख रुपए जिला प्रशासन से जल्द मिलने हैं। इनके इस्तेमाल के लिए दूसरे क्लस्टर पर विचार हाे रहा है। लॉकडाउन खत्म होने के बाद प्रवासियों का एक अन्य ग्रुप बनेगा। रोजगारपरक प्रोजेक्ट इसी साल लांच होगा। - रामशरण राम, जीएम, उद्योग विभाग

खबरें और भी हैं...