पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

यह है स्थिति:अब तक एक चाैथाई लाेगाें काे भी नहीं पड़ा टीका इस गति से वैक्सीनेशन में लग जाएंगे एक साल

भागलपुरएक महीने पहलेलेखक: त्रिपुरारि
  • कॉपी लिंक
जिला स्कूल में शुक्रवार काे काेराेना का वैक्सीन लेती युवती। - Dainik Bhaskar
जिला स्कूल में शुक्रवार काे काेराेना का वैक्सीन लेती युवती।

काेराेना की दूसरी लहर के कहर के बाद तीसरी लहर आने की भी अाशंका है। अभी संक्रमण की रफ्तार कम हुई है। अगर इसे बरकरार रखना है ताे टीकाकरण ही एकमात्र उपाय है। लेकिन जिले में टीकाकरण की रफ्तार काफी धीमी है। जिले की आबादी करीब 36 लाख है। इनमें 18 साल से अधिक उम्र वालाें की संख्या करीब 55 फीसदी यानी करीब 19 लाख 80 हजार है।

लेेकिन 18 जून तक इनमें से केवल 4,46,552 लाेगाें काे ही टीका लग सका है। यह टीका के लिए पात्र अाबादी का केवल 22.55 फीसदी है। यानी अब तक जिले के एक चाैथाई वैक्सीनेशन भी नहीं हाे पाया है। यह संख्या इसलिए चार लाख काे भी पार कर पाई क्याेंकि जिले में दाे बार टीकाकरण का विशेष अभियान चला है। पहली बार मदर्स डे पर अभियान चला था।

उस दिन करीब 10 हजार लाेगाें काे टीका पड़ा था। दूसरा अभियान 16 जून काे चला जिसमें 42650 लाेगाें काे टीका पड़ा। अभी राेज औसतन चार हजार लाेगाें काे टीका पड़ रहा है। अगर यही रफ्तार रही ताे 18 से अधिक उम्र वाले बचे 15 लाख 33 हजार लाेगाेें काे टीका देने में करीब एक साल लग जाएंगे।

युवाओं का टीकाकरण शुरू हुआ तभी बढ़ी जिले में इसकी रफ्तार
जिले में 16 जनवरी से टीकाकरण शुरू हुआ था। पहले हेल्थ वर्कर व उसके बाद फ्रंटलाइन वर्कराें काे टीका लगना शुरू हुआ था। अब तक 15836 फ्रंटलाइनर काे पहला डाेज और 7908 काे दूसरा डाेज लगा है। 14037 हेल्थ वर्कर काे पहला डाेज और 10466 काे दूसरा डाेज लगा है। शुरुअाती दाैर में टीकाकरण की रफ्तार काफी कम रही। लाेग टीका लेने से परहेज करते रहे। बाद में जब युवाओं काे टीका देने की शुरुअात हुई ताे इसकी रफ्तार बढ़ी। अभी युवाओं में ताे टीका लेने के प्रति उत्साह है। लेकिन 45 से अधिक उम्र वाले अब भी कम लाेग आ रहे हैं।

यह है टीकाकरण कम हाेने की वजह
1. लाेगाें में जागरूकता का अभाव था। विभाग ने जागरूकता अभियान भी ठीक से नहीं चलाया। इससे शुरू में कम लाेग टीका लेने आए
2. काेराेना की दूसरी लहर में माैताें की बढ़ती रफ्तार के बाद लाेगाें यह अफवाह भी फैल गई कि टीका लेने के बाद भी लाेग संक्रमित हुए हैं
3. अफवाह खत्म हाेने के बाद टीकाकरण में तेजी आई ताे वैक्सीन ही कम पड़ गई। इससे कई दिन टीका देने का काम राेकना भी पड़ा
4. वैक्सीनेशन एक्सप्रेस अब गांवाें में जा रही है, लेकिन विभाग स्थानीय जनप्रतिनिधियाें व सामाजिक संस्थाओं की पूरा सहयाेग नहीं ले पा रहा है

21 जून काे फिर विशेष टीकाकरण अभियान चलाने की है तैयारी
हालांकि स्वास्थ्य विभाग 16 जून हुए टीकाकरण अभियान की सफलता से उत्साहित है। उस दिन 25 हजार लाेगाें काे टीका देने का लक्ष्य रखा गया था, लेकिन उससे 70 फीसदी ज्यादा लाेगाें ने टीका लिया। अब विभाग 21 जून काे फिर अभियान चलाने की तैयारी कर रहा है। इस दिन 35 हजार लाेगाें काे टीका देने का लक्ष्य रखा गया है। शुक्रवार काे स्वास्थ्य विभाग के निर्देश पर वीडियाे कांफ्रेंसिंग कर सिविल सर्जन डाॅ. उमेश शर्मा ने सभी अस्पतालाें के प्रभारी काे इसकी तैयारी करने का निर्देश दिया।

टीटीसी में अब रात 9 बजे तक टीका देने की योजना
घंटाघर स्थित टीचर्स ट्रेनिंग स्कूल में सुबह नाै बजे से रात 9 बजे तक अब टीकाकरण सेंटर चलेगा। सीएस डाॅ. उमेश शर्मा ने बताया कि जल्द यह सेंटर चालू हाे जाएगा। इसे दाे शिफ्ट में चलाया जाएगा। इसके लिए टीम का गठन कर दिया गया है। अब नया सेंटर यह भी चालू हाे जाएगा। इससे शहरी क्षेत्र में रहनेवाले लाेग रात में भी काेराेना का टीका ले सकेंगे।

खबरें और भी हैं...