पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

विवाद:बिना प्रोग्रामिंग सॉफ्टवेयर के लगाया इंडियन पेसमेकर, हंगामा

भागलपुर5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पल्स हॉस्पिटल के बाहर हंगामा करते परिजन। - Dainik Bhaskar
पल्स हॉस्पिटल के बाहर हंगामा करते परिजन।
  • पल्स हॉस्पिटल में हृदय रोगी को लगाया था 1.25 लाख का पेसमेकर

पल्स हॉस्पिटल में गुरुवार दोपहर एक हृदय मरीज को जबरन डिस्चार्ज करने पर परिजनों ने जमकर हंगामा मचाया। परिजनों ने आरोप लगाया कि 19 मार्च को अस्पताल में 1.25 लाख में इंडियन पेसमेकर लगवाया। 4 दिन पहले मरीज काे चक्कर आया तो फिर अस्पताल लाए। डॉक्टरों ने बिना ठीक किए ही जबरन डिस्चार्ज कर दिया। परिजनों के इस आरोप के साथ हंगामा मचाया तो पुलिस बुलानी पड़ी। हालांकि परिजन वहां से निकल गए। मरीज के बेटे अमृत ने सीएस को पत्र लिखकर जांच की मांग की है। इधर, मरीज की हालत जानने को देर शाम दूसरे क्लीनिक में परिजन ले गए

लेकिन खबर लिखे जाने तक रिपोर्ट नहीं मिल सकी थी। इधर, डॉ. सुशील ठाकुर ने बताया, इंडियन पेसमेर की प्राेग्रामिंग वाला साॅफ्टवेयर हमारे पास नहीं है। पहले ही हमने कहा था, 2.50 लाख वाला विदेशी पेसमेकर लगाते हैं। परिजन नहीं माने। तीन दिन हमने फ्री में इलाज किया। मरीज ठीक है। परिजन हंगामा कर रहे थे इसलिए पुलिस बुलाई।

ये है मामला
अलीगंज महेशपुर के 60 वर्षीय गणेश प्रसाद साह काे हार्ट अटैक आने पर 19 मार्च काे पल्स हाॅस्पिटल में भर्ती कराया था। उन्हें यहां सवा लाख में इंडियन पेसमेकर लगाया। डॉ. सुशील ठाकुर ने पेसमेकर लगाने के दौरान कहा था कि इसके बाद कोई परेशानी नहीं होगी। लेकिन चार दिन पहले ही गणेश को घर में चक्कर आने लगे। परिजन दोबारा उन्हें अस्पताल ले गए। भर्ती किया तो डॉक्टरों ने पेसमेकर के पाइप खुलने की बात कही।

पीएमसीएच ले जाने को कहा। परिजनों ने आपत्ति ली तो कहा, मरीज अब ठीक है। इस पर परिजनों ने विरोध किया तो डॉक्टर की पत्नी ने भी कहा, आप लोगों ने तीन दिन से पैसा जमा नहीं किया। ले जाइए। बात बढ़ी तो मामला पुलिस तक पहुंच गया।

कराएंगे मामले की जांच
अभी शिकायत नहीं मिली है। आवेदन दिया होगा तो जांच कराएंगे। पल्स हॉस्पिटल की कई बार-बार आ रही हैं।
- डाॅ. उमेश शर्मा, सिविल सर्जन

खबरें और भी हैं...