धोखाधड़ी:खुद को बांका की सांसद बता स्टेशन के वीआईपी वेटिंग रूम में ठहरने पहुंची कटोरिया की महिला

भागलपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
स्टेशन प्रबंधक के कक्ष में आयशा व उसके पास से मिली सांसद लिखी मुहर। - Dainik Bhaskar
स्टेशन प्रबंधक के कक्ष में आयशा व उसके पास से मिली सांसद लिखी मुहर।
  • एक दिन पहले भी आई थी, तब रेलवे कर्मचारियों ने रूम दे दिया था

खुद को बांका की सांसद बता कटोरिया के घरमोरा की रहने वाली आयशा खातून बुधवार को भागलपुर रेलवे स्टेशन के वीआईपी रूम में ठहरने के लिए पहुंच गई। वह पहले भी यहां आई थी और रेलवे के कर्मचारियों को बताया था कि वह बांका की सांसद है और कमरा नहीं देने पर प्रधानमंत्री को फोन कर देने की धमकी दे रही थी। कर्मचारियों ने उसे वीआईपी वेटिंग रूम में ठहरने की इजाजत दे दी थी। वह फिर बुधवार को स्टेशन पहुंची और वीआईपी वेटिंग रूम में ठहरने की बात करने लगी। लेकिन उसे इस बार वहां रुकने की अनुमति नहीं दी गई। हालांकि वह देर रात तक स्टेशन प्रबंधक के कक्ष में बैठी रही। इस दौरान वह बार-बार खुद को सांसद बताती रही।

उसके पास से उसका आधार कार्ड, एक बड़ी पार्टी की सदस्यता का पत्र और भागलपुर श्रम कार्यालय के नाम लिखा हुआ आवेदन मिला है। श्रम विभाग ने उसका आवेदन बांका के श्रम आयुक्त को फॉरवर्ड किया है। महिला के पास प्रधानमंत्री को लिखा एक पत्र भी मिला। पत्र में उसने लिखा है कि उसे सांसद रहते हुए भी आवास का आवंटन और वेतन का भुगतान नहीं हुआ है। आधार कार्ड पर उसके पति का नाम जाकिर अंसारी है। एक पत्र में उसने खुद को सांसद के साथ विधायक भी दिखाया है। इससे पहले मंगलवार को उसे वीआईपी वेटिंग रूम में ठहरने की इजाजत देने की सूचना आरपीएफ इंस्पेक्टर और एसीएम को भी दी गई थी। लेकिन किसी ने उससे पूछताछ नहीं की।

खबरें और भी हैं...