लोगों को हो रहीं दिक्कतें:गुल हो रही बत्ती, बार-बार बंद हो रहे वाटर वर्क्स के मोटर, घंटाघर के पास पानी सप्लाई बाधित

भागलपुर10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
वार्ड 36 स्थित पंप हाउस का मोटर भी दाे की बजाय घंटाभर ही चला। - Dainik Bhaskar
वार्ड 36 स्थित पंप हाउस का मोटर भी दाे की बजाय घंटाभर ही चला।

बिजली की कटौती से वाटर वर्क्स से होने वाला पानी सप्लाई संकट में आ गया है। रुक-रुक कर बिजली गुल होे से बार-बार बाेरिंग बंद हाे रहा है और सप्लाई बाधित हो रही है। इससे घंटाघर पानी टंकी के पास गुरुवार सुबह 10 बजे के बीच दाे बार 10-10 मिनट के लिए आपूर्ति बाधित रही। यहां वाटर वर्क्स से पानी पाइप से भेजा जाता है और यहीं से आसपास के दर्जन भर मुहल्लाें में पानी मिलता है।

मानिक सरकार पानी टंकी के पास भी वाटर वर्क्स से कम पानी मिला। इससे आदमपुर, शंकर टाॅकिज के पास, मानिक सरकार, मशाकचक समेत अन्य मुहल्लाें में ढाई घंटे की बजाय सुबह एक घंटे कम पानी मिला। सुरखीकल, तांती टाेला व खंजरपुर इलाके में पाइप में पानी का फाेर्स कम रहा। इससे भी लाेगाें काे दिक्कत हुई। इस इलाके में आने वाले पानी काे वार्ड 24, 25 और 32 में भी चाबी घुमा कर दिया जाता है, इसी तरह वार्ड 26 में भी पानी आता है।

हालांकि वार्ड 25 में वाटर वर्क्स से बिना रुके सीधे पाइप से पानी आता है, इसलिए वहां दिक्कत नहीं हुई। बिजली गुल होने से वार्ड 36 के भीखनपुर में भी नेत्रहीन स्कूल परिसर के बाेरिंग आधे घंटे पहले ही बंद हाे गए। पार्षद प्रमाेद लाल ने बताया, बाेरिंग से करीब आधे घंटे तक इलाके के लाेगाें काे पानी नहीं मिला। जलकल शाखा के इंजीनियर कृष्णा प्रसाद ने बताया, बिजली कटौती से परेशानी हो रही है। बिजली आते ही ऑपरेटर को पानी जमा करने और जहां पानी सप्लाई कम हुआ, वहां मेकअप करने के निर्देश दिए हैं।

बिजली की कटौती से गांवों में भी विषम हैं हालात

सुल्तानगंज : मदरिया पावर ग्रिड से सुल्तानगंज शहर, अकबरनगर, गनगनियां, असरगंज एवं शाहाबाद फीडर को 15-15 मेगावाट बिजली की जरूरत होती है। पांच दिन से पटना सीएलडी से ग्रिड को 7 मेगावाट बिजली मिली है। यह सिर्फ अकबरनगर की ही जरूरत पूरा करता है। बिजली कंपनी के एसडीओ मिथिलेश कुमार मिंटू ने बताया कि कोयले की आपूर्ति कम होने से उत्पादन प्रभावित हुआ है। 1-1 घंटे के रोटेशन पर फीडर को बिजली दी जा रही है।

कहलगांव: पहले कहलगांव, सन्हौला, पीरपैंती फीडरों को 30 मेगावाट बिजली मिली थी। सप्ताहभर से शाम पांच बजे कहलगांव पीएसएस को आपूर्ति नहीं की जा रही। दो घंटे तक यहां बिजली गुल रहती है। कभी 15 तो कभी 20 मेगावाट ही बिजली दी जा रही है।

नवगछिया : बिजली कंपनी ने कार्यपालक पदाधिकारी इंदु कश्यप ने बताया, नवगछिया के 7 पीएसएस रोटेशन में चल रहे हैं। अभी 15 मेगावार्ट बिजली मिल रही है। खपत 45 मेगावाट है।

खरीक : रोज शाम में कटौती हो रही है। रात 11 बजे तक आंखमिचौली चल रही है। इससे बच्चों की पढ़ाई प्रभावित हाे रही है। त्योहार में ज्यादा परेशानी हाे रही है। जेई युवराज कुमार ने बताया, बिजली कम मिलने के कारण रोटेशन में सप्लाई कर रहे हैं।

पीरपैंती : पूरे प्रखंड में महज 9 घंटे ही बिजली मिल रही है। जूनियर इंजीनियर ने बताया कि पीरपैंती में 25 मेगावाट खपत है, लेकिन 5 मेगावाट बिजली ही मिल रही है।

शाहकुंड : प्रखंड में 24 घंटे में 7 से 8 घंटे तक आपूर्ति बाधित रहती है। इससे लोगों को परेशानी हाे रही है। छात्रों की पढ़ाई, किसानों की सिंचाई व दैनिक कार्य बाधित हो रहे हैं। जूनियर इंजीनियर आशीष कुमार ने बताया कि शाम 7 बजे से 11 बजे तक आपूर्ति न मिलने से परेशानी हो रही है।

बिहपुर : पूरे प्रखंड में 7 से 8 घंटे बिजली की आपूर्ति हो रही है। शाम 5 बजे से रात 9 बजे तक रोज बिजली गुल हो रही है।

खबरें और भी हैं...