मेधा सॉफ्ट पोर्टल पर होगी छात्रों की सूची:प्राइमरी और मिडिल स्कूलों के छात्रों की इंट्री की होगी सूची, डीपीओ को भेजा गया पत्र

भागलपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सांकेतिक तस्वीर। - Dainik Bhaskar
सांकेतिक तस्वीर।

वित्तीय वर्ष 2021-22 में प्रारंभिक विद्यालयों द्वारा मेधा सॉफ्ट पोर्टल पर इंट्री की गई सूची का सत्यापन व अनुमोदन करने के बाद ही छात्र-छात्राओं को पोशाक, छात्रवृत्ति समेत अन्य योजनाओं का लाभ मिलेगा। वहीं, माध्यमिक व उच्च माध्यमिक विद्यालयों के विद्यार्थियों को भी सूची सत्यापन व अनुमोदन के बाद योजनाओं की राशि मिलेगी। लाभुक छात्र-छात्राओं को विभिन्न योजनाओं की राशि का भुगतान सीधे उनके बैंक खाते में किया जाएगा।

सूची के सत्यापन व अनुमोदन को लेकर शिक्षा विभाग डीबीटी कोषांग के विशेष सचिव सह नोडल पदाधिकारी ने डीईओ व योजना लेखा के डीपीओ को पत्र भेज निर्देश दिया है। प्राथमिक व मध्य विद्यालयों के मामले में एचएम 75 फीसदी उपस्थिति के अनुसार यस व नो के रूप में चिह्नित करने के बाद सूची का प्रिंट आउट निकलवा कर बीईओ कार्यालय में व माध्यमिक एवं उच्च माध्यमिक विद्यालयों के मामले में माध्यमिक शिक्षा डीपीओ के पास सत्यापन व अनुमोदन को उपलब्ध कराएंगे। नोडल पदाधिकारी सह विशेष सचिव ने लाभुक छात्र-छात्राओं की इंट्री व उनका प्रखंड व जिलास्तर पर सत्यापन का कार्य 31 जनवरी तक पूरा करने का निर्देश दिया गया है।

सीधे लाभुक छात्र-छात्राओं के खाते में भेजी जाएगी राशि

मेधा सॉफ्ट पोर्टल पर इंट्री की गई छात्र-छात्राओं की सूची का प्रिंट आउट निकालकर प्रधानाध्यापक एक प्रति स्कूल में रखेंगे और दूसरी प्रति सत्यापन के लिए संबंधित अधिकारी को उपलब्ध कराएंगे। बीईओ व माध्यमिक शिक्षा के डीपीओ दूसरी प्रति को मेधा सॉफ्ट के मोबाइल एप के माध्यम से स्कूल के प्रिंट आउट में संरक्षित क्यूआर कोड को स्कैन करते हुए अपने कार्यालय में प्राप्त करेंगे। इसके बाद प्राप्त प्रति व ऑनलाइन इंट्री का मिलान करते हुए बीईओ अपने प्रखंड के सभी प्राथमिक व मध्य विद्यालयों के लाभुकों की सूची को और माध्यमिक शिक्षा के डीपीओ माध्यमिक व उच्च माध्यमिक विद्यालयों की सूची सत्यापित करते हुए उन्हें ऑनलाइन अपने मेधा सॉफ्ट लॉगिन आईडी के माध्यम से योजना लेखा के डीपीओ लॉगिन पर भेजेंगे।

प्राप्त सूची का योजना लेखा के डीपीओ करेंगे अनुमोदन

प्राथमिक व मध्य विद्यालयों के लाभुकों की सूची को और माध्यमिक शिक्षा के डीपीओ माध्यमिक व उच्च माध्यमिक विद्यालयों से प्राप्त सूची को योजना लेखा के डीपीओ अंतिम रूप से अपने डिटिजल हस्ताक्षर के माध्यम से अनुमोदित करेंगे। इसके बाद ही विद्यालयों की सूची को डीबीटी के लिए वैध माना जाएगा। डीपीओ द्वारा अनुमोदन करने के बाद राज्य मुख्यालय स्तर पर डीडीओ द्वारा डिजिटल हस्ताक्षर का उपयोग कर मुख्यालय स्तर पर संधारित खाते से राशि सीधे लाभुक छात्र-छात्राओं के खाते में भेजी जाएगी।