पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

मैं जैन मंदिर राेड:नेताजी कृपया मेरे नाम पर वाेट मांगना बंद कीजिए, क्याेंकि जनता सब जानती है

भागलपुर15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • दाे मंत्री, दाे मेयर और चार नगर आयुक्त दाैड़ाते रह गए कागजी घाेड़े, लेकिन मैं नाले के पानी में ही डूबा हूं
  • शिलान्यास के 38 दिन बीत जाने के बाद भी शुरू नहीं हुआ निर्माण का काम

नेता जी, मैं जैन मंदिर राेड हूं। मेरे नाम पर वाेट मांगना बंद कर दीजिए। मैं आठ साल से नाले के पानी में डूबा हूं। इस बीच दाे नगर विकास मंत्री, दाे मेयर और चार नगर आयुक्त बदल गए, लेकिन मेरी हालत काे ठीक नहीं कर पाए। आठ सितम्बर को नाला और सड़क निर्माण के लिए शिलान्यास भी हुआ, लेकिन 38 दिन बीत जाने के बाद भी मैं खुद के ठीक हाेने की बाट जाेह रहा हूं।

नाले के पाने से गुजरने वाले लाेगाें के सब्र का बांध भी शुक्रवार काे टूट गया। अब वह कर रहे हैं कि वे इस बार वाेटिंग नहीं करेंगे। जैन मंदिर के पास लाेगाें ने बैनर भी टांग दिया है। अब भी आप लाेग चेतिये और वर्क ऑर्डर करा दीजिए ताकि यहां काम शुरू हाे सके।

नेताजी, इस बार दशलक्षण पर्व पर श्रद्धालुओं काे जैन मंदिर में दर्शन के लिए नाले के गंदे पानी के बीच से ही जाना पड़ा। पिछले आठ साल से 3500 फीट नाला और 1300 फीट राेड बनाने का प्रयास हाे रहा है। दाे नगर विकास मंत्री, दाे मेयर और चार नगर आयुक्त इसके लिए कागजी घाेड़े दाैड़ाते ही रह गए, लेकिन अब तक यहां काम शुरू नहीं हाे पाया है। 2012 से अब तक राेड व नाला बनाने के लिए पांच बार टेंडर हुए। इसकी लागत 40 लाख से बढ़कर 2 कराेड़ 20 लाख तक पहुंच गयी है।
मंत्री के निर्देश पर शुरू हुई गंदा पानी निकालने की व्यवस्था खत्म
चार साल पहले तत्कालीन नगर विकास मंत्री महेश्वर हजारी खुद जैन मंदिर राेड में पहुंचे थे। जलजमाव के कारण ईंट पर पैर रखकर वह मंदिर परिसर पहुंचे थे। उन्हाेंने तत्कालीन नगर आयुक्त अवनीश कुमार काे एक माह के अंदर यहां नाला निर्माण शुरू कराने का निर्देश दिया था। वर्तमान नगर विकास मंत्री सुरेश कुमार शर्मा ने यहां की हालत देखकर तत्काल राेड पर जमे पानी काे हटाने का निर्देश दिया था। इसके बाद कुछ दिन पंपिंग सेट लगाकर गंदे पानी काे हटाया गया, बाद में निगम ने यह व्यवस्था भी खत्म कर दी।

पूर्व नगर आयुक्त बिहारी लाल दास, अवनीश कुमार सिंह, श्याम बिहारी मीणा व वर्तमान नगर आयुक्त जे. प्रियदर्शिनी तक के नाला व राेड निर्माण के प्रयास किया। अंत में टेंडर फाइनल हुआ है। शिलान्यास भी हाे गया है। लेकिन काम शुरू नहीं हाे पाया है। स्थानीय श्रद्धालुओं काे मंदिर में दर्शन करने नहीं आ पाते हैं।

एजेंसी तय हाे गई ताे निर्माण में देर क्याें?
2012 से अब तक जैन मंदिर राेड में सड़क व नाला बनाने के लिए पांच बार टेंडर हुए। एक बार टेंडर फाइनल हाेने के बाद मामला हाईकाेर्ट में चला गया। दाे साल तक निर्णय नहीं हुआ। अब टेंडर हाे गया है और एजेंसी भी तय हाे गयी है। फिर निर्माण में देर क्याें? 40 लाख से शुरू हुई याेजना अब दाे कराेड़ 20 लाख तक पहुंच गयी है। शुरुआत में 100 मीटर नाला निर्माण की याेजना बनी।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज आप अपने अंदर भरपूर विश्वास व ऊर्जा महसूस करेंगे। आर्थिक पक्ष मजबूत होगा। तथा अपने सभी कार्यों को समय पर पूरा करने की भी कोशिश करेंगे। किसी नजदीकी रिश्तेदार के घर जाने की भी योजना बनेगी। तथ...

और पढ़ें