पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोविड के आंकड़ों से खिलवाड़:अब मायागंज ने माना- पहले जो संख्या बताई, उससे दोगुनी कोराेना से मौतें

भागलपुर18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • भास्कर में प्रकाशित खबर के बाद विभाग ने खुद की जांच और सामने आई हकीकत

कोरोना की दूसरी लहर में हुई मौत के आंकड़ों पर आखिरकार स्वास्थ्य विभाग बैकफुट पर आ गया। मौतों को छिपाने वाले विभाग ने यह मान लिया कि जिले में 99 मौतें नहीं हुईं। मायागंज में भी 81 मौतें सिर्फ तीन माह मार्च, अप्रैल और मई में नहीं हुई हैं। दैनिक भास्कर में रविवार को प्रकाशित खबर में मौतों के आंकड़े की गड़बड़ी की खबर प्रकाशित होने के बाद ताबड़तोड़ रविवार को ही मेडिकल कॉलेज अस्पताल प्रबंधन (मायागंज) ने नया आंकड़ा जारी कर दिया। इस नए रिकॉर्ड के अनुसार, मायागंज 154 माैत हाेने की बात मान ली। यह आंकड़ा मायागंज ने स्वास्थ्य विभाग को दे दिया है। इसमें सिविल सर्जन डॉ. उमेश शर्मा ने 140 मौतों का आंकड़ा तैयार कर लिया है। विभाग का कहना है कि मौत के आंकड़े की तलाश की जा रही है। यह संख्या अभी और बढ़ेगी।

दरअसल, मायागंज अस्पताल प्रबंधन ने मार्च, अप्रैल और मई में 81 मौतों की जानकारी दी थी। स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना की दूसरी लहर के बीच पूरे जिले में 99 मौत होने की बात कही थी। लेकिन भास्कर में मौत की जानकारी छिपाने की खबर उजागर होते ही पूरा महकमा बैकफुट पर आ गया। ताबड़तोड़ जिम्मेदारों ने मौतों का विश्लेषण शुरू कर दिया और रविवार को नया आंकड़ा मायागंज अस्पताल प्रबंधन ने जारी कर दिया।

शनिवार को मायागंज ने 81 मौतें बताई थी, अब कहा- 154 हुईं

अभी ऑडिट पूरी नहीं, चल रही है तलाश
सिविल सर्जन डॉ. उमेश शर्मा ने बताया, मौत के आंकड़ों की ऑडिट अभी पूरी नहीं हुई है। अब तक 140 मौतों की रिपोर्टिंग हुई है। कोरोना से मरने वालों के परिजनों से कोरोना पॉजिटिव सर्टिफिकेट मांगे जा रहे हैं। सीएस ने बताया, परिजनों की और रिपोर्ट आते ही मौतों की संख्या और बढ़ सकती है। इस पर काम चल रहा है।

81 मौतों के आंकड़े में हुई बढ़ोतरी के बाद मायागंज अस्पताल ने माना कि अभी भी कोरोना से हुई मौतों का फाइनल आंकड़ा उनके पास नहीं है। सीएस ने भी कहा- ऑडिट जारी है। अभी रिकॉर्ड मैच हो रहे हैं। मौत के आंकड़े और बढ़ सकते हैं।

हमने 154 मौतों का मिलान कर लिया है। कोरोना पॉजिटिव मरीजों की रिपोर्ट से यह डाटा मैच हो गया है। अभी और भी रिपोर्ट की मैचिंग हुई मौतों से की जा रही है। परिजन जैसे-जैसे रिपोर्ट लेकर आ रहे हैं, मिलान किया जा रहा है।
- डॉ. असीम कुमार दास, अधीक्षक, मायागंज अस्पताल

खबरें और भी हैं...