• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Bhagalpur
  • PG Studies In TB chest May Get Stuck Due To Lack Of Faculty, The Good Thing Is That In PSM Three Seats Are Allowed For PG Studies, Increased Seats In Medicine And Pharmacology

एनएमसी की टीम ने किया मेडिकल काॅलेज का निरीक्षण:फैकल्टी की कमी से अटक सकती है टीबी-चेस्ट में पीजी की पढ़ाई, अच्छी बात यह रही कि पीएसएम में तीन सीटाें पर पीजी की पढ़ाई की मिली इजाजत, मेडिसिन व फाॅर्माकोलॉजी में बढ़ी सीटें

भागलपुर15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मायागंज में अधीक्षक और डॉक्टरों के साथ बैठक करते एनएमसी सदस्य डाॅ. अरविंद त्रिवेदी। - Dainik Bhaskar
मायागंज में अधीक्षक और डॉक्टरों के साथ बैठक करते एनएमसी सदस्य डाॅ. अरविंद त्रिवेदी।

जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज अस्पताल में टीबी एवं चेस्ट विभाग में पीजी की पढ़ाई शुरू करने से पहले कसौटी पर परखने को सहारनपुर मेडिकल काॅलेज के प्रिंसिपल सह एनएमसी सदस्य डाॅ. अरविंद त्रिवेदी पहुंचे। उन्होंने ओपीडी टीबी जांच सेंटर, कल्चर लैब व इंडाेर के एमडीआर टीबी सेंटर काे देखा।

नाैलखा स्थित काॅलेज परिसर में डाॅक्टराें का फिजिकल वेरिफिकेशन किया। टीम के सदस्य संसाधनाें से संतुष्ट हुए पर एक असिस्टेंट प्राेफेसर व एक सीनियर रेजिडेंट की कमी मिली। इससे पीजी की पढ़ाई में अड़ंगा लग सकता है। हालांकि शाम 7 बजे सदस्य ने रिपाेर्ट भी काॅलेज की बेहतरी के लिए बनाकर काउंसिल काे ईमेल कर दिया।

पिछली बार भी 2020 में फैकल्टी की कमी व डीएलसीओ मशीन सांसाें की बीमारी की जांच करने के लिए नहीं थे, पर इस बार यह कमी दूर कर ली गई। निरीक्षण के बाद अधीक्षक डाॅ. असीम कुमार दास व टीबी चेस्ट विभाग के एचओडी डाॅ. डीपी सिंह, डाॅ. शांतनु घाेष व अन्य डाॅक्टराें के साथ उन्हाेंने बैठक भी की। काॅलेज प्रिंसिपल डाॅ. हेमंत सिन्हा की माैजूदगी में रिपाेर्ट बनाई गई।

ओपीडी में टीबी जांच सेंटर में टेक्नीशियन इंद्रजीत से मशीन के प्रोसेस पूछे। रोज होने वाली जांच की संख्या भी पूछी। इंद्रजीत ने कहा, ट्रू नेट मशीन से रोज 10 से 15 और सीबी नेट से 5-8 जांच हाेती है। महीने में दाेनाें मिलाकर करीब 500 मरीजाें की जांच होती है। ओपीडी में रोज 80 से 90 मरीजाें काे डाॅक्टर चेक करते हैं, इस पर सदस्य ने कहा, यहां भीड़ बहुत है, इसलिए पीजी की पढ़ाई शुरू करने में दिक्कत नहीं है। काॅलेज के प्रिंसिपल डाॅ. सिन्हा ने बताया, बिहार में टीबी चेस्ट में पीजी की पढ़ाई नहीं हाेती है, सिर्फ पीएमसीएच में टीबी में डिप्लाेमा की पढ़ाई हाेती है।

इधर, दो विभागों में मिली अनुमति
काॅलेज काे एनएमसी ने एक साथ दाे विभागाें में पीजी की पढ़ाई के लिए सीट बढ़ाने व पीएसएम में तीन सीटाें पर एडमिशन की अनुमति दी गई है। प्रिंसिपल ने बताया, पीएसएम यानी कम्युनिटी डिजिज में तीन सीटाें पर पहली बार अनुमति मिली है। वहीं मेडिसिन में 9 सीट से 12 सीट और फाॅर्माक्लाेजी में 2 से 4 सीट कर दिया गया है।

कुल 14 विभागाें में आठ में एनएमसी का विजिट हाे चुका है, अभी 6 विभाग और बाकी हैं, जिसका निरीक्षण बाकी है। इसमें ईएनटी, स्कीन, पीएमआर, मानसिक राेग व दाे अन्य विभाग शामिल हैं। हालांकि पीएमआर के लिए भी फैकल्टी की कमी से परमिशन में दिक्कत आ सकती है, इसके लिए सरकार काे पत्र भेजकर डाॅक्टर तैनात करने की मांग प्रबंधन ने की है।

खबरें और भी हैं...