• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Bhagalpur
  • Private People Write FIR In The Police Station, Private Drivers Are Operating Walkie talkies, The Danger Of Leaking Information

गोपनीय सूचनाओं के लीक:थाने में प्राइवेट लोग लिखते हैं एफआईआर, निजी ड्राइवर ऑपरेट कर रहे वॉकी-टॉकी, सूचनाएं लीक हाेने का खतरा

भागलपुरएक महीने पहलेलेखक: राकेश पुराेहितवार
  • कॉपी लिंक
विश्वविद्यालय थाने में काम करता प्राइवेट आदमी। अब इसे हटा दिया गया है। - Dainik Bhaskar
विश्वविद्यालय थाने में काम करता प्राइवेट आदमी। अब इसे हटा दिया गया है।

शहर के थाने प्राइवेट ड्राइवर और लोगों के भरोसे चल रहे हैं। स्थित यह है कि प्राइवेट ड्राइवर और लोग ही एफआईआर भरने से लेकर थाने का सरकारी वॉकी-टॉकी तक ऑपरेट करते हैं। इससे वायरलेस पर चलने वाली गोपनीय सूचनाओं के लीक होने की आशंका है। थाने में बैठ कर पुलिसकर्मी की तरह प्राइवेट लोग काम करते हैं, जिनको थानेदारों का शह प्राप्त रहता है।

ये प्राइवेट लोग खुद को पुलिसवाला बता कर लोगों पर धौंस भी जमाते हैं। अभी कुछ दिन पहले तक विवि थाने में प्राइवेट आदमी से काम लिया जा रहा था। पुलिस मुख्यालय ने थाने में प्राइवेट ड्राइवर को रखने पर रोक लगा दी है। क्योंकि कई बार गोपनीय सूचनाएं लीक हो जाती हैं। फिर भी शहर के कई थानों में प्राइवेट ड्राइवर से काम लिया जा रहा है। बरारी, विवि, जीरोमाइल, तिलकामांझी आदि थानों में प्राइवेट ड्राइवर काम कर रहे हैं।

गश्ती के दौरान थाने के 2 निजी ड्राइवर की हो चुकी है हत्या

हबीबपुर थाने के 2 प्राइवेट ड्राइवर की हत्या हो चुकी है। एक वर्ष पहले शेख अफसार की बदमाशों ने गश्ती के दौरान दाऊदबाट चौक के पास गोली मारकर हत्या कर दी थी। अफसार 8 माह से थाने की गाड़ी चला रहा था। पेट्रोलिंग के साथ एक बाइक को जब्त कर थाने ला रहा था, इसी दौरान बदमाशों ने उसकी गोली मारकर हत्या कर दी थी और बाइक लूट ली थी।

इसके अलावा 8 जून, 2016 को अपराधियों ने हबीबपुर थाने के प्राइवेट ड्राइवर हीरू की गोली मारकर हत्या कर दी थी। हीरू नमाज पढ़ कर रात्रि गश्ती के लिए थाना आ रहा था। इसी दौरान घात लगाए अपराधियों ने उसे गोली मारी थी। कई बदमाशों की गिरफ्तारी में हीरू ने अहम भूमिका निभाई थी, इस कारण उसकी हत्या कर दी गई थी। दोनों प्राइवेट ड्राइवरों की हत्या के बाद उनकी परिजनों को किसी तरह का मुआवजा भी नहीं मिला।

वसूली करते गिरफ्तार हुआ था प्राइवेट ड्राइवर
पूर्व में बरारी थाने का प्राइवेट ड्राइवर और तत्कालीन थानेदार का कथित रिश्तेदार ट्रक के ड्राइवर और मालिक से वसूली मामले में गिरफ्तार भी हो चुका है। इस मामले में तत्कालीन थानेदार दोषी पाए गए थे और जमादार को नौकरी से बर्खास्त कर दिया गया था।

प्राइवेट लाेगाें से थाने में काम लेने की कराएंगे जांच
विवि थाने में प्राइवेट आदमी से काम लेने का मामला सामने आने के बाद उस व्यक्ति के थाने में प्रवेश पर राेक लगा दी है। अगर थानों में प्राइवेट ड्राइवर से काम लिया जा रहा है तो इसकी जांच कराएंगे। किसी भी सूरत में प्राइवेट ड्राइवर और गैर पुलिसकर्मी से थानों का काम नहीं कराना है।
- निताशा गुड़िया, एसएसपी

खबरें और भी हैं...