पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कार्रवाई:जाली रेलवे पास पर रिजर्वेशन टिकट बनाता पकड़ाया जिले का गौरव

भागलपुर /खगड़िया ​​​​​​​​​​​​​​5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • फूफा के भाई के पास पर राजधानी एक्स. का कटा रहा था टिकट, फर्जी पास की पुष्टि होते युवक को जीआरपी के हवाले किया
  • काेलकाता के चीफ विजिलेंस इंस्पेक्टर और रेलवे बोर्ड ने क्लियर कर दिया उक्त नंबर का कोई पास रेलवे बोर्ड से नहीं किया गया जारी

भागलपुर रिजर्वेशन काउंटर पर जाली रेलवे पास पर राजधानी एक्सप्रेस का टिकट बनवा रहे खगड़िया के युवक को रेल पुलिस ने गिरफ्तार किया है। युवक की पहचान गोगरी कुंडी निवासी राजीव यादव के 24 वर्षीय पुत्र गौरव कुमार के रूप में हुई। जीआरपी ने गौरव को न्यायालय में पेश किया। जहां से उसे 14 दिनों के लिए न्यायिक हिरासत में लेते हुए जेल भेज दिया गया। मामले में आरपीएफ के एएसआई विवेक प्रकाश की तहरीर पर जीआरपी थाना में एफआईआर दर्ज की गई है। युवक नवगछिया से नई दिल्ली के लिए राजधानी एक्सप्रेस में थ्री-एसी कोच में दो बर्थ का रिजर्वेशन कराने का प्रयास कर रहा था।

विजिलेंस व रेलवे बोर्ड ने पास काे फर्जी बताया तब हुई एफआईआर
मामला सोमवार दोपहर का है। गौरव रिजर्वेशन काउंटर पर डॉ. स्वर्गेश कुमार के नाम पर फर्जी कंप्लीमेंटरी पास (नंबर 273666) लेकर पहुंचा था। वह पास पर नवगछिया से नई दिल्ली तक की यात्रा के लिए राजधानी एक्सप्रेस में टिकट कटाना चाह रहा था। काउंटर कर्मी को पास पर शक हुआ तो उन्होंने चीफ रिजर्वेशन सुपरवाइजर (सीआरएस) संजीव कुमार गुप्ता को पूरी जानकारी दी। फिर सीआरएस ने पूरे मामले की जानकारी काेलकाता स्थित चीफ विजिलेंस इंस्पेक्टर और रेलवे बोर्ड को दी। बोर्ड ने क्लियर कर दिया कि इस नंबर का कोई पास रेलवे बोर्ड से जारी नहीं किया गया है। यह फर्जी है। इसके बाद सीआरएस ने आरपीएफ पोस्ट को इस संबंध में मेमो देकर युवक को सुपुर्द कर दिया।

लीची बगान में रहता है युवक के फूफा का भाई
आरपीएफ के एएसआई ने युवक से पूरे मामले की पूछताछ की तो उसने बताया कि भागलपुर में ही उसके फूफा का भाई डॉ. स्वर्गेश कुमार लीची बगान मोहल्ला में रहता है। करीब तीन साल से वे उन्हें जान रहे हैं। गौरव ने बताया, उसने सोमवार दोपहर करीब डेढ़ बजे डॉ. स्वर्गेश को फोन किया था तो डाॅ. स्वर्गेश ने कहा कि मेरा पास मेरे घर पर रखा है। उसे लेकर राजधानी एक्सप्रेस का नवगछिया से नई दिल्ली तक का टिकट भागलपुर काउंटर से बनवा लो। गौरव ने डॉ. स्वर्गेश के यहां जाकर पास लिया और उसे लेकर टिकट बनवाने आ गया। जहां जांच में पास को फर्जी बताया गया। थानेदार अरविंद कुमार ने बताया कि मामले की जांच का जिम्मा एसआई अजीत कुमार को दिया गया है। डॉ. स्वर्गेश कुमार के नाम से कहां-कहां फर्जीवाड़ा किया गया है, इसकी जानकारी जुटाई जा रही है। डॉ. स्वर्गेश को भी जांच में लाया जाएगा।

25 फरवरी 2021 को रेलवे बोर्ड के सचिव के दस्तखत से जारी है पास
डॉ. स्वर्गेश कुमार के नाम से जारी फर्जी पास रेलवे बोर्ड के सचिव के दस्तखत से जारी है। 25 फरवरी 2021 को यह पास जारी किया गया है और इसकी वैद्यता 24 फरवरी 2023 बताई गई है। डॉ. स्वर्गेश के फर्जी पास पर उनके अलावा एक अतिरिक्त व्यक्ति को साथ लेकर मेट्रो छोड़कर राजधानी व शताब्दी एक्सप्रेस मेें चलने की अनुमति थी। डॉ. स्वर्गेश खुद को शूटिंग चैंपियन बताते हुए इंडियन रेलवे का एक्स-अवार्डी प्लेयर का पदधारक बताया है। पास का पीपी ऑर्डर नंबर 1680/2021/आरबी अंकित है। पास पर 4 मई 2021 को दो बार यात्रा की अनुमति देने संबंधी किसी स्टेशन मास्टर का दस्तखत भी है। लेकिन उस स्टेशन का मुहर नहीं है।

एक आईपीएस भी गौरव को छोड़ने की कर रहे थे पैरवी
गौरव की गिरफ्तारी के बाद इलाके में काफी पहले नौकरी कर चुके एक आईपीएस अधिकारी ने भी उसे छोड़ने के लिए पैरवी की थी। आईपीएस ने रेल पुलिस को मामले में सनहा दर्ज करने को कहा था लेकिन जीआरपी ने सारी बातों को अनसुना कर एफआईआर दर्ज कर ली। साथ ही भागलपुर जिले में तैनात एक सीनियर आईपीएस अधिकारी को भी पैरवी के लिए फोन किया गया था।

खबरें और भी हैं...