पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

महामारी में महापाप:मृत मरीज के नाम पर पल्स हॉस्पिटल के मैनेजर ने खरीदा रेमडेसिविर, दो पकड़ाए

भागलपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • पटना व भागलपुर में इंजेक्शन की कालाबाजारी का हुआ खुलासा
  • पटना में 50 हजार में रेमडेसिविर बेच रहा रेनबो अस्पताल का निदेशक और साला गिरफ्तार

काेराेना मरीजाें के लिए रेमडेसिविर इंजेक्शन की मांग बढ़ते ही धंधेबाजों ने इसकी कालाबाजारी शुरू कर दी। भागलपुर में पल्स हॉस्पिटल का मैनेजर राहुल ठाकुर एक कोरोना संक्रमित की मौत के बाद उनके नाम पर रेमडेसिविर खरीदता पकड़ाया। दूसरी ओर पटना में रेनबो अस्पताल का डायरेक्टर डॉ. अशफाक और उसका साला मो. अल्ताफ को गिरफ्तार किया गया। इंजेक्शन की कालाबाजारी में पहली बार भागलपुर में किसी को पकड़ा गया है, जबकि पटना में पहली बार एक डॉक्टर इस खेल से जुड़ा मिला।

भागलपुर मेंे पल्स हॉस्पिटल के मैनेजर राहुल ने रेमडेसिविर खरीदने के लिए राज्य सरकार के पोर्टल पर ऑनलाइन अप्लाई किया था। वहां से मंजूरी के बाद गुरुवार शाम महादेव टॉकीज के सामने अधिकृत मुकुल ट्रेडर्स में इंजेक्शन लेने पहुंचा। राज्य सरकार से मिले रेमडेसिविर इंजेक्शन मुकुल ट्रेडर्स को ही रखने के लिए अधिकृत किया गया है। मुकुल ट्रेडर्स के व्यवस्थापक को राहुल ठाकुर पर शक हुआ ताे इंजेक्शन देने के बाद उसने औषधि नियंत्रण विभाग को इसकी सूचना दे दी। थोड़ी देर बाद ड्रग इंस्पेक्टर दयानंद प्रसाद मुकुल ट्रेडर्स में जांच करने पहुंच गए। सभी साक्ष्य जुटाए और राहुल ठाकुर से पूछताछ को पल्स हॉस्पिटल पहुंच गए। यहां पहुंचते ही धंधेबाज राहुल ठाकुर का पूरा कारनामा सामने आ गया। पता चला, जिस मरीज एनके भगत के नाम पर इंजेक्शन खरीदी गई है, उनकी मौत गुरुवार सुबह ही हो गई थी। इसके बाद ड्रग इंस्पेक्टर ने डीएम और एसएसपी को कालाबाजारी की सूचना दे दी।

पूछताछ में मैनेजर ने कबूला ब्लैक में बेचने को खरीदी थी

हुल ने पूछताछ में कबूल किया कि उसने ब्लैक में बेचने के लिए दवा खरीदी थी। वह पहली बार ऐसा कर रहा था। राहुल का सहयाेगी अस्पताल का कर्मचारी पिंटू ठाकुर भी इस काम में शामिल था। सिटी एसपी पूरण कुमार झा के नेतृत्व में पुलिस भी पल्स हॉस्पिटल पहुंची। मैनेजर राहुल और पिंटू ठाकुर को कोतवाली थाने ले गई। ड्रग इंस्पेक्टर ने बताया, राहुल को कोतवाली थाने में मुकुल ट्रेडर्स के व्यवस्थापक का आमना-सामना कराया जाएगा। इसके बाद कार्रवाई होगी। पल्स हॉस्पिटल काे सील भी किया जा सकता है।

खबरें और भी हैं...