पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

विधायक गाेपाल मंडल की बढ़ेगी मुश्किल:रेल पुलिस ने जांच के लिए तेजस राजधानी से लिया सीसीटीवी फुटेज, विधायक गाेपाल मंडल पर दाे गैरजमानतीय धारा

भागलपुर19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
विधायक गाेपाल मंडल - Dainik Bhaskar
विधायक गाेपाल मंडल

तेजस राजधानी एक्सप्रेस में जदयू विधायक गाेपाल मंडल के गंजी-अंडरवियर में घूमने और एक यात्री से बदसलूकी का केस दर्ज हाेने के बाद आरा रेल पुलिस ने जांच शुरू कर दी है। आरा जीआरपी ने केस दर्ज कराने वाले प्रह्लाद पासवान से संपर्क कर घटना की जानकारी ली है।

जहानाबाद के प्रह्लाद अभी दिल्ली में इलाज करा रहे हैं। थानेदार शाहनवाज खान ने बताया कि उन्हें आरा जीआरपी आकर बयान दर्ज कराने काे कहा गया है। उस काेच में विधायक के आसपास की बर्थ पर सफर करने वाले यात्रियाें से भी जानकारी ली जाएगी। सूत्राें के अनुसार, ट्रेन के दिल्ली से लाैटने के बाद ए1 काेच से 2 सितंबर की रात का 16 जीबी का फुटेज निकाला गया है।

पुलिस इस फुटेज से भी विधायक पर लगे आराेपाें की जांच करेगी। प्रह्लाद ने आराेप लगाया है कि विधायक और उनके लाेग नशे में थे। उन्हाेंने चेन और अंगूठी छीन ली। जातिसूचक शब्द कहकर अपमानित किया। गंदा पानी पिलाया।

चाेरी करने का भी लगाया आराेप
विधायक और उनके लाेगाें पर आईपीसी की धारा 504, 290, 379 और 34 के तहत कांड संख्या 76/21 दर्ज किया गया है। इसके अलावा 3 (आर)(एस) एससी-एसटी (अत्याचार निवारण) अधिनियम के तहत केस हुआ है। पटना हाईकाेर्ट के वकील प्रभात भारद्वाज ने बताया कि धारा 504 जमानतीय पर दाे साल की सजा का प्रावधान है।

धरा 290 भी जमानतीय धारा है और इसमें 200 रुपए का आर्थिक दंड है। धारा 379 (चाेरी) गैर जमानतीय है। इसमें 3 साल की सजा का प्रावधान है। 3 (आर)(एस) एससी-एसटी (अत्याचार निवारण) अधिनियम गैर जमानतीय धारा है। इसमें 6 माह से 7 साल तक की सजा का प्रावधान है। जब कई लाेग किसी सामान्य इरादे से काेई अपराध करते हैं तब आईपीसी की धारा 34 लगाई जाती है। इसमें सजा का काेई प्रावधान नहीं है।

खबरें और भी हैं...