पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

9वीं से 12वीं की परीक्षा में 30% पूछे जाएंगे सवाल:सीबीएसई स्कूलों में पढ़ाया जाएगा रियल लाइफ सिचुएशन, स्पेशल एजुकेटर कराएंगे तैयारी

भागलपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो
  • शहर के स्कूलों में इस तरह की पढ़ाई की अब तक नहीं है कोई व्यवस्था
  • इसमें छात्राें काे रियल लाइफ सिचुएशन दिए जाएंगे

सीबीएसई अब छात्राें से कंपीटेंसी बेस्ड सवाल पूछेगा। सत्र 2021-22 से छात्राें से कंपीटेंसी बेस्ड सवाल पूछे जाएंगे। ये बदलाव नाैवीं से बारहवीं के छात्र-छात्राओं के लिए हाेगा। इसमें छात्राें से रियल लाइफ सिचुएशंस पूछे जाएंगे। सवालाें के पैटर्न में आने वाले बदलाव काे लेकर शहर के सीबीएसई स्कूलाें से अपनी तैयारियां शुरू कर दी हैं।

रियल लाइफ सिचुएशन के लिए छात्र-छात्राओं की तैयारी करने के लिए स्पेशल एजुकेटर रखेंगे। वहीं कुछ स्कूनां में काउंसेलर रखने पर भी विचार हाे रहा है। सीबीएसई आगे 20 फीसद कंपीटेंसी बेस्ड सवाल पूछेगी। 20 फीसद ऑब्जेक्टिव सवाल हाेंगे ताे 60 फीसद शार्ट और लांग आंसर सवाल पूछे जाएंगे।

सीबीएसई स्कूल अभी जानकारी कर रहे हैं इकट्ठा

सीबीएसई स्कूल फिलहाल नए पैटर्न काे लेकर जानकारियां इटक्ठा कर रहे हैं। अभी दसवीं के छात्राें काे ग्यावहीं में प्रमाेट करने के लिए इंटरनल शिक्षकाें की कमेटी बनाई जा रही है। इसके बाद सत्र 2021-22 में बदले पैटर्न के अुनसार छात्राें के तैयारी कराने के लिए भी सुझाव ले रहे हैं। सीबीएसई के सिटी काे-ऑर्डिनेटर आरसी शर्मा ने बताया कि इस नए पैटर्न के अनुसार बच्चाें काे तैयारी करवाने के लि स्पेशल एजुकेटर रखे जाएंगे। कुछ कुछ विषयाें में स्पेशल स्पेशल एजुकेटर रखे भी गए हैं।

कंटेपररी टाॅपिक पर ऐसे हाेंगे प्रश्न

इसमें छात्राें काे रियल लाइफ सिचुएशन दिए जाएंगे। एक्सपर्ट की मानें ताे इसमें ऐसे सवाल किए जा सकते हैं जाे कंटेपररी टाॅपिक पर बेस्ड हाे। करंट सिचुएशन जैसे काेराेना का इम्पेक्ट, सिविलाइजेशन काे काेराेना के असर से कितना नुकसान है। अभी महामारी के समय किस चीज पर अधिक ध्यान देने की जरूरत हाेगी। सवाल ये भी हाे सकता है कि लाेगाें काे कैसे एजुकेट करें, सिविल एडमिनिस्ट्रेशन में अभी के हाल काे देखते हुए क्या बदलाव किए जा सकते हैं। एक्सपर्ट केके सिन्हा ने कहा कि अभी कई तरह के सवाल पूछ जाते हैं। इसमें स्किल टाइप, इनाेवेटिव टाइप, एप्लीकेशन टाइप शामिल हैं ।

खबरें और भी हैं...