नियुक्ति प्रक्रिया:टीएमबीयू में 3 की बजाय सिर्फ एक ही स्तर पर हुई बहाली

भागलपुर/बांका2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • राज्य सरकार ने कर्मचारियाें की बहाली की घोषणा की थी, प्रक्रिया शुरू नहीं

टीएमबीयू में बीते एक साल से तीन स्तर पर शिक्षकाें और कर्मचारियाें की नियुक्ति या संख्या बढ़ाने के प्रयास चल ताे रहे हैं लेकिन अब तक पूरे नहीं हुए हैं। बिहार स्टेट यूनिवर्सिटी सर्विस कमिशन (बीएसयूएससी) के सतर से 283 असिस्टेंट प्राेफेसर की बहाली हाेनी है। राजभवन के आदेश पर गेस्ट फैकल्टी बहाल हाेने हैं और राज्य सरकार ने अपने स्तर से कर्मचारियाें की नियुक्ति करने की बात कही है। इससे इतर हाईकाेर्ट ने बीएसयूएससी काे लाॅ काॅलेज में प्राचार्य और शिक्षक नियुक्ति की प्रक्रिया के लिए काॅलेज के एफिलिएशन से जुड़े मामले में पार्टी बनाया है। काेर्ट में एफिलिएशन का चल रहे मामले में फिलहाल कमिशन काे बहाली करने का काेई आदेश नहीं मिला है। इसलिए इस मामले काे छाेड़ दें ताे शिक्षक से लेकर कर्मचारी नियुक्ति की बाकी तीन प्रक्रियाअाें में सिर्फ एक में बहाली हुई है और वह भी अधूरी। बीएसयूएससी से राज्यभर के एकेडमिक िववि में असिस्टेंट प्राेफेसर की बहाली हाेनी है। टीएमबीयू में भी 283 शिक्षक बहाल हाेने हैं लेकिन केवल अंगिका के लिए तीन शिक्षकाें का चयन हुअा है और रिक्तियाें के राेटेशन पर हाईकाेर्ट में चल रही सुनवाई के कारण इन तीन शिक्षकाें की अब तक नियुक्ति नहीं हुई है। स्थिति यह है कि दाे दिन पहले जब शिक्षामंत्री भागलपुर आए थे ताे मारवाड़ी पाठशाला वित्ती समिति ने मारवाड़ी काॅलेज कैंपस में महिला विंग शुरू करने की बात कही थी। प्राचार्य ने मंत्री काे बताया कि इसके लिए अलग से शिक्षकाें की जरूरत हाेगी। एेसे में मामला नियुक्ति पर अटक गया। टीएमबीयू के कई काॅलेजाें में पद के आधे शिक्षक हैं।

आउटसाेर्सिंग से कर्मी रखने को मिली थी इजाजत
टीएमबीयू में 1992 के बाद वर्ष 2003 में नियमित कर्मचारियाें की बहाली हुई थी। इसके बाद से संविदा पर कर्मी रखे जाने लगे। राज्य सरकार ने करीब पांच महीने पहले घाेषणा की थी कि वह अपने स्तर से बहाली करेगी। तब तक विवि आउटसाेर्सिंग से कर्मी रख सकता है।
टीएमबीयू में इसे देख रहे डीएसडब्ल्यू डाॅ. रामप्रवेश सिंह ने कहा कि पूर्व कुलपति प्राे. नीलिमा गुप्ता ने आउटसाेर्सिंग की फाइल पर हस्ताक्षर कर दिया था। अब नए प्रभारी कुलपति के समय मामला बढ़ाया जाएगा। हालत यह है कि 12 में से 11 काॅलेजाें में लाइब्रेरियन नहीं है। कई काॅलेजाें और विवि की शाखाओं में एसओं व सहायक के पद खाली हैं। राजभवन ने कहा था कि जब तक कमिशन से असिस्टेंट प्राेफेसर की बहाली नहीं हाेती है तब तक विवि गेस्ट फैकल्टी की बहाली कर सकता है। इस निर्देश के करीब डेढ़ माह बाद विवि ने आवेदन मांगा। रजिस्ट्रार डाॅ. निरंजन प्रसाद यादव ने कहा कि चार अक्टूबर तक आवेदन मांगा गया है। इसके बाद आगे क प्रक्रिया हाेगी।

खबरें और भी हैं...