• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Bhagalpur
  • The Dacoits Had Also Brought The Injection Of Helplessness And The Rope, So That They Could Tie The Businessman, But They Sweated Seeing Courage.

यूबी ज्वेलर्स में सरेशाम डकैती की वारदात:बेहाेशी का इंजेक्शन व रस्सी भी लाए थे डकैत, ताकि व्यवसायी को बांध सकें पर हिम्मत देख छूटे पसीने

भागलपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पिस्तौल की बट से जख्मी ज्वेलरी दुकान का स्टाफ मो. अशरफ। - Dainik Bhaskar
पिस्तौल की बट से जख्मी ज्वेलरी दुकान का स्टाफ मो. अशरफ।
  • कार से आए थे बदमाश, दुकान के पास गली में लगा रखी थी, वारदात के बाद दाे पैदल व एक टेंपाे से भागे

जीरोमाइल चौक के बसंत विहार कॉलोनी में यूबी ज्वेलर्स में सरेशाम डकैती की वारदात पूर्व नियोजित थी। स्वर्ण व्यवसायी मुरारी पोद्दार के मुताबिक, वारदात में 8 अपराधी शामिल थे और पूरी तैयारी के साथ डाका डालने आए थे। सभी हथियार-गोली से लैस थे। बदमाश अपने साथ बैग में सेलो टेप, बेहोशी का इंजेक्शन, सीरिंज और प्लास्टिक की रस्सी भी लाए थे, ताकि वारदात के दौरान उसे इंजेक्शन देकर बेहोश किया जा सके।

उनका मुंह टेप से बंद कर हाथ-पैर बांधा जा सके। लेकिन स्वर्ण व्यवसायी का हिम्मत देख डकैतों के पसीने छूट गए। बदमाशों की पूरी प्लानिंग फेल हो गई। जब स्वर्ण व्यवसायी ने एक बदमाश के हाथ से पिस्तौल-गोली छीनी और 3 को अकेले दबोच कर आंगन में ले जाने लगे तो सारे लुटेरे हड़बड़ा गए। आनन-फानन में पिस्तौल निकाल कर दूसरे बदमाश ने फायर करने की कोशिश की, लेकिन गोली मिस फायर हो गई।

इसके बाद स्वर्ण व्यवसायी शोर मचाने लगे तो उनकी पत्नी, बच्चे भी घर से बाहर आ गए। डकैतों की लगा कि अब सारे लोग पकड़े जाएंगे। तब दुकान से जो मिला, उसे लूटा और भाग निकले। दुकान के सामने बहादुरपुर जाने वाली गली में डकैतों ने आल्टो कार खड़ी कर रखी थी, जिससे कुछ बदमाश आए थे।

वारदात के बाद 1-2 डकैत उसी कार से भागे। जबकि 2 पैदल ही गिरते-पड़ते फ्लाईओवर के नीचे बाइपास सड़क की ओर भागे, जिनका कुछ लोगों ने पीछा भी किया। जबकि एक पैदल जीरोमाइल चौक पहुंच कर थाने के पास टेम्पो लेकर तिलकामांझी चौक की ओर चला गया। पुलिस ने डकैतों के छोड़े गए बैग से रस्सी, टेप, इंजेक्शन आदि बरामद किये हैं। वहीं छीने हथियार-गोली को भी पुलिस ने जब्त किया है।

ज्वेलरी दुकान का शटर बंद करता अपराधी।
ज्वेलरी दुकान का शटर बंद करता अपराधी।

पैदल भाग रहे बदमाश का लाेगाें ने बाइपास पर पीछा भी किया
ज्वेलरी दुकान में घुसे थे 6 डकैत, 2 बाहर खड़े होकर कर रहे थे रेकी

स्वर्ण व्यवसायी के मुताबिक, 6 डकैत बारी-बारी से दुकान में घुसे। जबकि 2 दुकान के बाहर खड़े होकर रेकी कर रहे थे। वारदात के समय स्वर्ण व्यवसायी गल्ले पर बैठे थे, जबकि उनका स्टाफ ज्वेलरी डिजाइन कर रहा था। सारे बदमाश मास्क लगाए थे। दुकान में घुसते ही डकैतों ने सबसे पहले पिस्तौल सटा कर स्टाफ को कब्जे में ले लिया और केहूंनी से उसका गला दबाए रखा व शटर भी बंद कर दिया।

जबकि तीन ने गल्ले पर बैठे स्वर्ण व्यवसायी को गन प्वाइंट पर लिया और लूटपाट करने लगे। इस बीच विरोध करने पर स्वर्ण व्यवसायी और उनके स्टाफ को बट से मारकर बदमाशों ने जख्मी कर दिया।

लोकल थे सारे बदमाश, जिच्छो, गोपालपुर, मीराचक में छापा, 2 संदिग्ध हिरासत में
पुलिस के मुताबिक, सारे बदमाश लोकल हैं। सीसीटीवी फुटेज के आधार पर पुलिस ने बदमाशों की पहचान कर बहादुरपुर, जिच्छो, गोपालपुर, मीराचक आदि गांवों में छापेमारी भी की। पुलिस ने 2 संदिग्ध को हिरासत में भी लिया है। घटना की जानकारी पाकर सिटी एसपी स्वर्ण प्रभात, सिटी एएसपी पूरन झा, जीरोमाइल थानेदार राज कुमार प्रसाद, दारोगा अरविंद सिंह मौके पर पहुंच मामले की जांच की। सिटी एसपी ने कहा कि अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है।

स्वर्ण व्यवसायी का गला दबाए तीन अपराधी।
स्वर्ण व्यवसायी का गला दबाए तीन अपराधी।

गला नहीं दबाता तो एक-दो डकैतों को तो पकड़ ही लेते
3 साल से जीरोमाइल के बसंत विहार कॉलोनी में सोने-चांदी की दुकान चला रहे हैं। पीछे अपना घर बनाए हैं और आगे ज्वेलरी की दुकान है। शाम में दुकान में स्टाफ के साथ बैठे थे, इसी दौरान 6 नकाबपोश बदमाशों ने धावा बोलकर दुकान से कैश, चांदी, मोबाइल आदि लूट लिये। 3 अपराधियों को मैंने पकड़ लिया था और उन्हें खींच कर अपने घर का आंगन ले जाने लगे।

पिस्तौल सटाया तो उसे भी छीन कर मैंने फेंक दिया। तब तीनों अपराधियों ने मिलकर मेरा गला दबा दिया। अगर गला नहीं दबता तो एक-दो डकैत को ताे जरूर पकड़ लेते। स्टाफ अशरफ काे गन प्वाइंट पर लेकर उसका भी गला दबा दिया था। (जैसा कि पीड़ित स्वर्ण व्यवसायी मुरारी पाेद्दार ने दैनिक भास्कर को बताया)

खबरें और भी हैं...