शिकायत:पूर्व बीडीओ खाता पर राेक लगाने-हटाने का खेलते रहे खेल, हाेता रहा घपला

भागलपुर9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

खरीक प्रखंड की ढाेढ़िया दादपुर पंचायत मेंं याेजनाओं में भारी अनियमितता का कारण अफसर भी रहे। पूर्व बीडीओ बिना अनुमति के बैंक खाता पर राेक लगाते और हटाते रहे और इसका फायदा मुखिया और एजेंसी काे मिलता रहा। नवगछिया अनुमंडलीय लाेक शिकायत निवारण पदाधिकारी के शिकायत करने वाले व्यक्ति सुभाष यादव के केस में दिए गए आदेश के खिलाफ गणेश ट्रेडर्स के संचालक नीरज निरंजन ने डीएम सह द्वितीय अपीलीय प्राधिकार में केस किया। इस मामले में पहली सुनवाई चार दिसंबर 2020 काे हुई। लेकिन इसके बाद 18 दिसंबर और आठ जनवरी काे सुनवाई में अपीलार्थी अनुपस्थित रहे।

हालांकि इस बीच लाेक प्राधिकार सह डीअारडीए डायरेक्टर उपस्थित रहे और उन्हें पूरे मामले की जांच कर रिपाेर्ट देने का निर्देश दिया गया। इस मामले में 15 जनवरी काे सुनवाई हुई। इसमें डीआरडीए डायरेक्टर ने जांच रिपाेर्ट साैंपी। गणेश ट्रेडर्स काे 13.5 लाख, सुहानी इंटरप्राइजेज काे 12 लाख ओर मां तारा इंटरप्राइजेज काे छह का भुगतान किया गया। ॉ

अनुमंडलीय लाेक शिकायत निवारण पदाधिकारी के आदेश और जांच में पकड़ी गईं गड़बड़ियां एक जैसी हैं

1. एजेंसी का दावा हवा-हवाई : पूर्व नवगछिया अनुमंडलीय लाेक शिकायत निवारण पदाधिकारी के अादेश में गणेश ट्रेडर्स के संचालक पर सरकारी राशि के गबन के अाराेप में प्राथमिकी दर्ज करने की अनुशंसा की गई। एजेंसी गणेश ट्रेडर्स ने वर्ष 2015-16 में 2.68 लाख की लाइट लगाने का दावा किया। जबकि वर्तमान में काेई स्ट्रीट लाइट पाेल पर नहीं है।

2. पूर्व मुखिया व सचिव ने नियमाें का किया उल्लंघन : पंचायत ढाेढ़िया दादपुर के पूर्व मुखिया ने सरकार के वित्तीय नियमाें का उल्लंघन और सरकारी काम में फर्जी कंपनियाें के काेटेशन लगाकार राशि गबन करने के आराेप में आदेश में प्राथमिकी दर्ज करने की अनुशंसा की गई है। वित्तीय नियमाें की अनदेखी कर 13.5 लाख रुपए की निकासी पर चापाकल व स्ट्रीट लाइट लगाने पर खर्च किया गया। पूर्व मुखिया काे दाे लाख से अधिक की राशि तक काेटेशन प्राप्त कर किसी सामग्री काे खरीदने का वित्तीय अधिकार था, लेकिन मुखिया व सचिव ने मिलकर 13वें वित्त की राशि की कई याेजना के माध्यम से स्ट्रीट लाइट व चापाकल लगाने और प्रत्येक में दाे लाख रुपए से ऊपर की राशि खर्च की गई। स्ट्रीट लाइट पाेल पर नहीं है और चापाकल लगाने का सरकार का काेई आदेश नहीं था। इसमें गणेश ट्रेडर्स काे 13.48 लाख का अनियमित भुगतान किया गया।

3. पूर्व बीडीओ की भी साजिश में भागीदारी : पूर्व बीडीओ संताेष कुमार मिश्र ने इसमें मुख्य भूमिका निभाई। उन्हाेंने 14वें वित्त ग्राम पंचायत ढाेढ़िया दादपुर के खाते पर समय-समय पर गणेश ट्रेडर्स, मां तारा, सुहानी जैसी एजेंसी काे भुगतान कराने के लिए बैंक ऑफ इंडिया काे पत्र देकर राेक हटाकर भुगतान कराया गया।

4. तीन एजेंसियाें पर प्राथमिकी का आदेश : मां तारा सबाैर, गणेश ट्रेडर्स, सुहानी इंटरप्राइजेज ने फर्जी तरीके से सरकारी राशि खर्च की। उन कंपनियाें ने फर्जी काेटेशन के अाधार पर स्ट्रीट लाइट व चापाकल काे बाजार से दाेगुनी कीमत पर बेची। उन तीनाें कंपनियाें के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने का अादेश दिया गया है।

5. वर्तमान मुखिया पर भी गड़बड़ी का मामला : वर्तमान मुखिया नीलम देवी ने 139 स्ट्रीट लाइट लगवाई। इसकी पुष्टि बीडीअाे की जांच में हुई, इसमें 35 खराब है। जबकि मां तारा अाैर सुहानी इंटरप्राइजेज से 12 हजार रुपए में खरीदी गई। बाजार में कीमत 6 हजार रुपए थी।

खबरें और भी हैं...