पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Bhagalpur
  • The Proposal For Maintenance Was Sent From The Department To The Ministry Of Road Transport And Highways, The File Stuck There

मेंटेनेंस लाॅक सड़क डाउन:मेंटनेंस का प्रस्ताव विभाग से पथ परिवहन व राजमार्ग मंत्रालय काे भेजा, वहां अटकी फाइल

भागलपुर5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मेंटनेंस का प्रस्ताव विभाग से पथ परिवहन व राजमार्ग मंत्रालय काे भेजा, वहां अटकी फाइल - Dainik Bhaskar
मेंटनेंस का प्रस्ताव विभाग से पथ परिवहन व राजमार्ग मंत्रालय काे भेजा, वहां अटकी फाइल

230 कराेड़ से बने बाइपास की हालत फिर बिगड़ने लगी है। 16 किलाेमीटर से अधिक लंबे बाइपास पर आधा दर्जन से अधिक हिस्साें में गिट्टी-अलकतरे की परत उखड़ रही है। जगह-जगह खतरनाक गड्ढे बने हैं। वहां से भारी वाहन गुजरने पर खराब हाे रहे हैं। ऐसे में एक बार फिर बाइपास काे मरम्मत की दरकार है। लेकिन मरम्मत करने वाला काेई नहीं है। निर्माण एजेंसी जीआर इंफ्रा काे दाे साल तक बाइपास का मेंटेनेंस करना था। वह करार फरवरी 2021 में ही खत्म हाे गया। अब तक विभाग तय नहीं कर पाया है कि आगे इसकी देखरेख काैन करेगा।

एनएच के एग्जीक्यूटिव इंजीनियर ने पथ निर्माण विभाग काे प्रस्ताव भेजा है, जिसे विभाग ने पथ परिवहन व राजमार्ग मंत्रालय काे भेजा है। वहां फाइल अटकी है। इस प्रस्ताव में कहा है कि उपलब्ध कागजात के मुताबिक निर्माण एजेंसी से 4 साल तक मेंटनेंस करने का एग्रीमेंट हाेना चाहिए था। लेकिन ऐसा नहीं किया। एग्रीमेंट काे 4 साल किया जाए। यदि यह प्रस्ताव स्वीकार नहीं हुआ तो एग्जीक्यूटिव इंजीनियर ने 70 लाख से मरम्मत का एस्टीमेट तैयार कर रखा है।

13 से मानसून, पर सड़क दुरुस्त हाेने की संभावना नहीं, जानलेवा हो जाएंगे गड्‌ढे
माैसम विभाग ने 13 जून तक मानसून आने की संभावना जताई है। लेकिन इन 3 दिनाें में बाइपास की मरम्मत की संभावना नहीं दिख रही है। ऐसे में बारिश होने से बाइपास की स्थिति और खराब हाेगी। टूटी सड़क और गड्ढाें में पानी जमा हाेने पर जब भारी वाहन गुजरेंगे, ताे गड्ढे और खतरनाक हाे सकते हैं। एनएच के एग्जीक्यूटिव इंजीनियर मनाेरंजन कुमार पांडे ने भी स्वीकारा कि सड़क खराब हाे रही है। लेकिन, फिलहाल मरम्मत काे लेकर उन्हाेंने लाचारी जाहिर की। उन्हाेंने कहा, निर्माण एजेंसी काे 4 साल मेंटनेंस करने के प्रस्ताव काे विभाग के पास भेजा है। वहां से गाइडलाइन मिलने पर ही आगे की रणनीति बनेगी।

यहां सड़क ज्यादा खराब
जीराेमाइल से नाथनगर की अाेर बढ़ने पर कई जगहाें पर खतरनाक गड्ढे हैं। टाेल प्लाजा के पास जिच्छाे में सड़क की परत ऊखड़ गई है। बाइपास थाना के पास एक तरफ सड़क पूरी तरह टूट गई है। अलीगंज के पास सड़क से गिट्टी-अलकतरे की परत उखड़ गई है। दाउदवाट, विशनपुर-जिच्छाे समेत कई जगहाें पर सड़क ध्वस्त है।

बाइपास ठीक नहीं हुआ तो शहर में फिर बढ़ सकता है वाहनों का दबाव
अब लाॅकडाउन में छूट मिली है। 15 जून के बाद इसमें और छूट मिलने के आसार हैं। ऐसे में भारी वाहनाें का दबाव बाइपास पर और बढ़ने की संभावना है। इससे बाइपास की टूट रही सड़क और गड्ढे में फंसने से भारी वाहन खराब हाेेंगे और जाम की स्थिति बनेगी। बाइपास पर जाम लगने से भारी वाहन शहर की सड़काें से भी गुजरने लगते हैं। इससे शहर में भी जाम की स्थिति बनेगी। बता दें कि शहर में लगने वाले जाम से निपटने के लिए लाेग अरसे से बाइपास की मांग कर रहे थे। यह मांग 2019 में पूरी हुई और बाइपास तैयार हुअा। अब बाइपास भी टूट रहा है तो इसका असर शहर में जाम पर पड़ सकता है।

खबरें और भी हैं...