• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Bhagalpur
  • The Road Leading To DIG DM Kothi Is Also Dilapidated, The Road Remained Confined In The Proposal For 4 Years In The Corporation, Now RCD Has Included In The Bypass Scheme

गली-मोहल्ले की छोड़िए:डीआईजी-डीएम कोठी की तरफ जाने वाली सड़क भी जर्जर, निगम में 4 साल से प्रस्ताव में ही सिमटी रही सड़क, अब आरसीडी ने बाइपास याेजना में किया शामिल

भागलपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • विडंबना }

शहर की सड़काें की हालत फिर खराब हाे रही है। गली-माेहल्ले की सड़काें की मरम्मत में लगातार अनदेखी हो रही है। डीआईजी और डीएम काेठी की ओर जाने वाली सड़क भी जर्जर हाे गई है। दाेनाें सड़काें के निर्माण व मरम्मत के लिए 4 साल से प्रयास किए जा रहे हैं। डीएम ने कई बार नगर निगम के अफसराें काे निर्देश दिए।

लेकिन दाे डीएम और दाे नगर आयुक्त का तबादला हाे गया। इसके बाद भी सड़क की मरम्मत नहीं हुई। दाेनाें सड़काें के निर्माण के लिए नगर निगम की स्टैंडिंग कमेटी की बैठक में प्रस्ताव भी लाया गया था। उसकी स्वीकृति भी मिल गई थी। इसके बावजूद इस दिशा में काेई ठाेस पहल नहीं की हुई। अब ये दाेनाें सड़क पथ निर्माण विभाग के जिम्मे चली गई है। इसके लिए आरसीडी ने शहर से गुजर रहे साढ़े चार किलाेमीटर लंबे बाइपास में दाेनाें सड़काें काे शामिल किया है।

बाइपास घंटाघर से आदमपुर, बड़ी खंजरपुर, डीआईजी काेठी, मायागंज अस्पताल से डीएम काेठी हाेते हुए तुलसीनगर से एनएच-80 से जुड़ेगा। इसके तहत ही डीआईजी काेठी के सामने की सड़क और एनएच-80 से तुलसीनगर हाेते हुए डीएम काेठी तक की सड़क शामिल है। पथ निर्माण विभाग के मुताबिक बाइपास के निर्माण लिए डीपीआर बनाकर मुख्यालय काे भेजा है। प्रशासनिक स्वीकृति मिलने के बाद टेंडर होगा। इसके बाद दाेनाें सड़कें बनाई जाएंगी। सब ठीक रहा ताे अक्टूबर के बाद सड़काें का निर्माण शुरू होने की संभावना है।

एक सड़क के किनारे मेडिकल कॉलेज है, तो दूसरे रोड से लोग मायागंज जाते हैं

1. डीआईजी काेठी के सामने की सड़क: डीआईजी काेठी के सामने से गुजरी सड़क वर्षाें से जर्जर है। जबकि वहीं पास में मेडिकल काॅलेज है। इस रास्ते से लाेग खंजरपुर, खिरनीघाट और मायागंज की तरफ जाते हैं। सड़क पूरी तरह से ऊखड़ गई है। बड़े-बड़े पत्थर के टुकड़े सड़क पर बिखरे हैं। बारिश में स्थिति और खराब हाे जाती है।

बाइक से गुजरने पर हादसे की आशंका है। कई रिक्शा पलट चुकी है। चारपहिया वाहन के गुजरने पर उसके खराब हाेने की आशंका रहती है। इसके बाद भी अब तक नगर निगम की ने इसे दुरुस्त नहीं किया। अब पथ निर्माण विभाग से काम हाेने की आस जगी है।

2. तुलसीनगर से डीएम काेठी: एनएच-80 से तुलसीनगर होकर डीएम काेठी को जाने वाली सड़क एक दशक से जर्जर है। बारिश में यहां तालाब बन जाता है। जीराेमाइल से आने वाले इसी से मायागंज जाते हैं। ऊबड़-खाबड़ रोड से दुर्घटना की आशंका है। पूर्व डीएम ने नगर आयुक्त काे इसे दुरुस्त करने को कहा था, पर सड़क जस की तस है।अब यह बाइपास में शामिल है। बाइपास बनने के बीच ही यह बनेगी।

प्रशासनिक स्वीकृति मिलने पर शुरू हाेगा निर्माण

  • डीआईजी काेठी और डीएम काेठी से तुलसीनगर की अाेर जाने वाली सड़क काे बाइपास में शामिल किया गया है। बाइपास के लिए प्रशासनिक स्वीकृति मिलने के बाद टेंडर प्रक्रिया शुरू हाेगी। इसके बाद निर्माण शुरू हाेगा। - नवल किशाेर सिंह, एग्जीक्यूटिव इंजीनियर, पथ निर्माण विभाग
खबरें और भी हैं...