लागि जो फूल आकाश के लिए मिला पुरस्कार:टीएमबीयू के पूर्व छात्र अनमाेल झा काे मैथिली कथा संग्रह के लिए मिला साहित्य अकादमी का बाल साहित्य पुरस्कार

भागलपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मैथिली बाल साहित्य पुरस्कार प्राप्त करते अनमोल झा। - Dainik Bhaskar
मैथिली बाल साहित्य पुरस्कार प्राप्त करते अनमोल झा।

टीएमबीयू के पीजी मैथिली विभाग के पूर्व छात्र डॉ. अनमोल झा को साहित्य अकादमी का बाल साहित्य पुरस्कार मिला है। उन्हें यह पुरस्कार मैथिली कथा संग्रह लागि जाे फूल आकाश के लिए दिया गया था।

पुरस्कार की घाेषणा दिसंबर में हुई थी और 30 जुलाई काे कोलकाता के राष्ट्रीय पुस्तकालय के भाषा भवन सभागार में आयोजित कार्यक्रम में दिया गया

पुरस्कार अकादमी के उपाध्यक्ष माधब कौशिक ने प्रदान किया। अनमाेल झा काे पुरस्कार के ताैर पर 50 हजार रुपये और ताम्र प्रशस्ति पत्र प्रदान किया गया है। यह पुरस्कार अकादमी द्वारा मैथिली सहित 24 भाषाओं में दिया जाता है। इस बार यह 22 भाषाओं में दिया गया है।

टीएमबीयू से किया था पीजी व पीएचडी
मूल रूप से मधुबनी जिले के झंझारपुर प्रखंड के नरुआर गांव के रहने वाले अनमाेल झा स्व. शिव कान्त झा और प्रमिला देवी के पुत्र हैं। अनमोल झा यहां सत्र 2008-2010 में एमए के छात्र थे। 2010 में एमए उत्तीर्ण करने के बाद 2011 में यहीं से प्री-पीएचडी परीक्षा पास कर प्रो. केष्कर ठाकुर और डॉ. रवीन्द्र कुमार चौधरी के निर्देशन में 2016 में पीएचडी किया था। अभी काेलकाता में निजी कंपनी में करते हैं काम
अनमोल झा कोलकाता स्थित एक निजी कंपनी में कार्यरत हैं। उन्हाेंने बताया कि मैथिली में उनकी 12 पुस्तकें प्रकाशित हैं। जिनमें 11 मौलिक पुस्तकें हैं और एक साहित्य अकादमी से अनुवाद है। मौलिक पुस्तकाें में दो बाल कविता संग्रह और नौ लघुकथा संग्रह हैं। वह लगभग 36 सालों से अपनी मातृभाषा मैथिली में लेखन कर रहे हैं। जब वह मैट्रिक के छात्र थे, उसी समय से लेखन कर रहे हैं।
50 हजार रुपए मिलता है नकद पुरस्कार
साहित्य अकादमी बोर्ड के अनुसार मुख्य साहित्य अकादमी पुरस्कार विजेता को एक तांबे की प्लेट, शॉल और एक लाख रुपये दिए जाते हैं। प्रत्येक युवा पुरस्कार और बाल साहित्य पुरस्कार विजेता को एक तांबे की प्लेट और 50 हजार रुपये दिए जाते हैं।

खबरें और भी हैं...