ग्रह योग:मिथिला पंचांग से आज, काशी पंचांग से मकर संक्रांति कल

भागलपुर4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

मकर संक्रांति पर्व को लेकर इस बार पंचांग एकमत नहीं है। ऐसे में इस बार मकर संक्रांति का पर्व 14 और 15 जनवरी दोनों दिन मनाया जाएगा। मिथिला पंचांग को मानने वाले 14 व काशी पंचांग को मानने वाले 15 जनवरी को मकर संक्रांति मनाएंगे। मिथिला पंचांग के अनुसार, 14 जनवरी की रात 8:34 से संक्रांति का पुण्यकाल आरंभ हो जाएगा।

भीखनपुर के रहने वाले पंडित चंद्रकांत पाठक ने बताया कि जब सूर्य धनु से मकर राशि में जाता है तब मकर संक्रांति पर्व मनाया जाता है। लोग इस पर्व को 2 दिन मनाते हैं। लेकिन पंचांग और सूर्य के गति में परिवर्तन होते रहता है। जिसके वजह से पुण्य काल जिस दिन लगता है मकर संक्रांति उस दिन मनाया जाता है। लेकिन लोग परंपरा के मुताबिक 14 जनवरी को भी मकर संक्रांति मनाते हैं। लेकिन पूजा-पाठ, दान-पुण्य पुण्यकाल के मुताबिक ही करना चाहिए।

उन्होंने बताया कि विश्व पंचांग के मुताबिक 14 की रात्रि 8:58 में पुण्य काल लग रहा है, इसलिए इस बार 15 जनवरी को मकर सक्रांति मनाया जाएगा। वहीं शिवशक्ति मंदिर के पुजारी जयनारायण चौबे ने बताया कि लोग परंपरा के अनुसार 14 को मकर सक्रांति मनाते हैं। लेकिन काशी पंचांग के अनुसार पुण्य काल 14 की रात्रि 8.34 मे लग रहा है। इसलिए दान-पुण्य, पूजन का शुभ दिन 15 जनवरी है।मकर संक्रांति के दिन से सूर्य दक्षिणायन से उत्तरायण हो जाएंगे। सूर्य के उत्तरायण होते ही मांगलिक कार्य आरंभ हो जाएंगे।

खबरें और भी हैं...