पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मजदूर महिला के नाम पर फर्जीवाड़ा:भट्‌ठे की मजदूर महिला के खाते में 90 लाख रुपए का ट्रांजेक्शन, गिरफ्तार हुई

घोघा/भागलपुर23 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सरिता देवी। - Dainik Bhaskar
सरिता देवी।
  • ऑक्सीजन-रेमडेसिविर की कालाबाजारी में दिल्ली पुलिस का भागलपुर के घाेघा में छापा
  • ईंट-भट्‌ठे के मुंशी ने खुलवाया था खाता, वही करता था इस्तेमाल

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने शनिवार सुबह कहलगांव के घोघा के पक्कीसराय में छापेमारी कर सरिता देवी को गिरफ्तार किया है। उसे ऑक्सीजन सिलेंडर-रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी के आरोप में पकड़ा है। सरिता सौदागर मंडल की पत्नी है।

पति-पत्नी घोघा के ईंट-भट्‌ठे में मजदूरी करते हैं। दिल्ली पुलिस की जांच में पता चला कि महिला के एचडीएफसी बैंक के खाते में 3 माह में करीब 90 लाख के ट्रांजेक्शन हुए हैं। इसकी जानकारी पति-पत्नी को नहीं है। खाते का उपयोग बेगूसराय का रोशन कर रहा है।

सरिता के अलावा राेशन ने कहलगांव में करीब 20 अन्य महिला-पुरुषों के अलग-अलग बैंकों में खाते खुलवाए हैं। सभी खाते वह खुद ही इस्तेमाल कर रहा है। दिल्ली पुलिस ने ऑक्सीजन सिलेंडर और रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी का केस दर्ज किया था। एक कोरोना पीड़ित को 50 हजार रुपए में ऑक्सीजन सिलेंडर, जबकि ढाई लाख में रेमडेसिविर इंजेक्शन के सभी डोज बेचे थे। राेशन ग्रामीणों के बैंक खातों को किराए पर लेकर हर माह खाताधारक को 1000-1500 रुपए देता था।

नौकरी का लालच देकर 21 ग्रामीणों के खुलवाए थे खाते

सरिता ने बताया, घोघा में एक साल से आरओबी बन रहा है। यहां रोशन मुंशी है। उसने सरिता समेत कई ग्रामीणों को रेलवे में ग्रुप डी में नौकरी लगाने का झांसा देकर उनके नाम पर केनरा बैंक, एचडीएफसी बैंक और यूनियन बैंक में 21 खाते खुलवाए। सभी के आधार कार्ड व फोटो लिए। उनके नाम पर सिम खरीदे। नए नंबरों को खाते से जोड़ा। फिर सभी खाते खुद ही रोशन इस्तेमाल करने लगा।

खबरें और भी हैं...