पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

याेजना:एनएच काे चाैड़ा करने में पेड़; पाेल व पीएचईडी का पाइप बाधा, अकबरनगर में पानी बहने से बने खतरनाक गड्ढे

भागलपुर3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
अकबरनगर में एनएच 80 पर बने गड्ढे। पाइप फटने के कारण सड़क पर पानी बह रहा है। इससे सड़क टूट रही है। - Dainik Bhaskar
अकबरनगर में एनएच 80 पर बने गड्ढे। पाइप फटने के कारण सड़क पर पानी बह रहा है। इससे सड़क टूट रही है।
  • घाेरघट से मिर्जाचाैकी तक एनएच-80 काे 10 मीटर चाैड़ा करना है, 971 कराेड़ रुपए हाे चुके हैं स्वीकृत
  • बाधाओं काे हटाने के लिए संबंधित विभागाें के बीच किया जाएगा काेऑर्डिनेशन

घाेरघट से मिर्जाचाैकी के बीच 971 कराेड़ से 120 किमी लंबे एनएच-80 का नए सिरे से निर्माण हाेगा। इसके लिए टेंडर की प्रक्रिया चल रही है। बीते 9 सितंबर काे केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्रालय ने इसके लिए पैसे स्वीकृति किये थे। यह सड़क कंक्रीट से बनेगी। जरूरत के हिसाब से कहीं टू-लेन ताे कहीं फाेरलेन बनेगा।

इसकी चाैड़ाई करीब 10 मीटर हाेगी। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने तीन माह में काम शुरू करने को कहा था। प्रति माह प्रगति रिपाेर्ट भी भेजनी थी, लेकिन इसमें सबसे बड़ी बाधा एनएच के किनारे पेड़, बिजली के खंभे और पीएचईडी की ओर से जलापूर्ति के लिए बिछाई गई पाइपलाइन है। इनसे सड़क काे चाैड़ा करने में परेशानी आ रही है। इसके लिए एनएच के एग्जीक्यूटिव इंजीनियर काे पटना बुलाया गया। बुधवार काे वहां बैठक हुई और इसमें आ रही अड़चन काे दूर करने पर बात हुई।

पेड़ काे हटाने के लिए वन विभाग से समन्वय स्थापित करने के लिए कहा गया। बिजली के पाेल काे शिफ्ट करने के लिए भी निर्देश दिए गए। पीएचईडी की पाइपलाइन काे लेकर विभाग से बात करने काे कहा गया। अब इसके लिए कार्ययाेजना बनेगी। इसमें पेड़, बिजली के पाेल और पाइपलाइन हटाने के लिए सर्वे हाेगा।

जानिये, एनएच काे नए सिरे से बनाने और चौड़ीकरण में कहां-कहां किस तरह की है अड़चन

शहर से गुजरे एनएच के किनारे ढाई दर्जन से अधिक हैं खंभे
एनएच काे चाैड़ा करने में एक बड़ी बाधा बिजली के खंभे भी हैं। परबत्ती चाैक के पास दाे, ललमटिया चाैक से चंपानाला पुल के बीच दस, तातारपुर में पांच, असानंदपुर में दाे, स्टेशन के पास चार, पटल बाबू राेड में तीन, तिलकामांझी से जेल राेड में चार समेत कई जगहाें पर बिजली के पाेल एनएच के किनारे हैं। इस कारण सड़क काे चाैड़ा करने में परेशानी हाेगी। इन खंभाें के कारण वाहनाें के अावागमन में भी परेशानी हाेती है। इससे जाम भी लगता है।

सबाैर से कहलगांव के बीच सड़क किनारे दर्जनाें पेड़, एनएच संकरा
सबाैर से आगे बढ़ते ही कहलगांव तक एनएच के किनारे पेड़ हाेने की वजह से सड़क संकरी हाे गई है। यहां एनएच काे चाैड़ा करने में पेड़ बड़ी बाधा है। इस पेड़ काे काटने और शिफ्ट करने के लिए वन विभाग से एनओसी लेना हाेगा। इसके लिए एनएच की ओर से पहल की जा रही है। हालांकि अभी यह तय नहीं है कि कितने पेड़ाें काे शिफ्ट किया जाएगा। इसके लिए एनएच की ओर से जल्द सर्वे हाेगा।

अकबरनगर में पीएचईडी की पाइपलाइन फटने से सड़क पर जमा है पानी
अभी एनएच की सबसे खराब स्थिति अकबरनगर के पास की है। वहां करीब आधा किलाेमीटर तक जानलेवा गड्ढे बन गए हैं। अभी उसे भरने की दिशा में भी पहल नहीं हाे पा रही है। गड्ढाें के कारण वहां शाम हाेते ही जाम की स्थिति बन जाती है। एनएच पर गड्ढे हाेने का एक बड़ा कारण यह है कि पीएचईडी की पाइपलाइन सड़क के नीचे बिछाई गई है। अक्सर पाइप फट जाते हैं और वहां पानी जमा हाेने लगता है। आसपास के घराें का पानी भी सड़क पर बहता है।

एक दिक्कत अतिक्रमण की भी आ रही है
भागलपुर से कहलगांव के बीच एनएच के किनारे अतिक्रमण भी है। पूर्व डीएम ने एनएच के इंजीनियर काे कहा था कि अतिक्रमणकारियाें काे चिह्नित कर रिपाेर्ट दें, ताकि उन्हें हटाया जा सके। एनएच के इंजीनियर ने अतिक्रमणकारियाें काे चिह्नित कर लिया है। इसकी रिपाेर्ट तैयार की जा रही है। संभावना जताई जा रही है कि अगले सप्ताह अतिक्रमणकारियाें की रिपाेर्ट जिला प्रशासन काे साैंप दी जाएगी।

अड़चन दूर करने काे बना रहे हैं कार्ययाेजना
घाेरघट से मिर्जाचाैकी के बीच एनएच काे दस मीटर चाैड़ा करना है। लेकिन इसमें पेड़, बिजली के खंभे अाैर पीएचईडी की पाइपलाइन की अड़चन है। इसे दूर करने के लिए कार्ययाेजना बना रहे हैं।
मनाेज कुमार पांडे, एग्जीक्यूटिव इंजीनियर, एनएच​​​​​​​

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज कई प्रकार की गतिविधियां में व्यस्तता रहेगी। साथ ही सामाजिक दायरा भी बढ़ेगा। आप किसी विशेष प्रयोजन को हासिल करने में समर्थ रहेंगे। तथा लोग आपकी योग्यता के कायल हो जाएंगे। कोई रुकी हुई पेमेंट...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser