भास्कर फॉलोअप / लिंग परीक्षण और बेटियों की हत्या करने की सुपारी लेने वाले क्लीनिक चलते रहे बेखौफ

डॉ. पूजा यादव का सेंटर चलता रहा। डॉ. पूजा यादव का सेंटर चलता रहा।
सच्चिदानंद नगर में नीतू करती रही इलाज। सच्चिदानंद नगर में नीतू करती रही इलाज।
X
डॉ. पूजा यादव का सेंटर चलता रहा।डॉ. पूजा यादव का सेंटर चलता रहा।
सच्चिदानंद नगर में नीतू करती रही इलाज।सच्चिदानंद नगर में नीतू करती रही इलाज।

  • दैनिक भास्कर के स्टिंग ऑपरेशन में सामने आए दागदार चेहरे, डीएम ने कहा-जांच होगी, कार्रवाई भी करेंगे पर आईएमए ने साध ली चुप्पी
  • भास्कर में छपे चारों क्लीनिक की जांच के लिए सिविल सर्जन ने दिए आदेश

दैनिक भास्कर

Jul 01, 2020, 04:00 AM IST

भागलपुर. लिंग परीक्षण और गर्भ में बेटियों की हत्या करने की सुपारी लेने वाले शहर के चाराें क्लीनिक व मैटरनिटी हाेम मंगलवार को  धड़ल्ले से चलते रहे। जिम्मेदारों ने जांच व कार्रवाई तो दूर, इस ओर झांका तक नहीं। तिलकामांझी थाने से महज दो-तीन भवनों की दूरी पर चल रहे पूजा मैटरनिटी सेंटर बेखौफ खुला रहा। सच्चिदानंद नगर कॉलोनी में खुद को डॉक्टर बताने वाली नीतू के घर में भी मरीजों का इलाज चलता रहा। तिलकामांझी में डॉ. नेहा भारती की क्लीनिक में रोज की तरह की इलाज हुआ। ऐसी ही हालत मिशन स्कूल के बगल में डाॅ. राेली भारती की क्लिनिक में भी नजर आई। इस बीच दैनिक भास्कर के स्टिंग ऑपरेशन में सामने आए दागदार क्लीनिक, नर्सिंग होम में डॉक्टर व नर्सों की भूमिका के बाद मंगलवार को जिला प्रशासन ने कार्रवाई का दावा किया। एक ओर डीएम  प्रणव कुमार ने साफ कर दिया कि ऐसे संस्थानों पर कार्रवाई होगी। इसकी योजना बनाई जा रही है। दूसरी ओर सिटी एसपी एसके सरोज ने कहा, पुलिस ऐसे मामले में कार्रवाई करेगी, लेकिन इसकी शिकायत थाने में होनी चाहिए। इस बीच सिविल सर्जन डॉ. विजय कुमार सिंह ने कहा, उक्त चारों क्लीनिक की सूची बनाने के निर्देश दिए हैं। टीम जल्द ही ऐसी क्लीनिक की जांच करेगी। इसके बाद संबंधित क्लीनिक संचालकों पर कार्रवाई होगी। इन सबके बीच सवाल फिर भी खड़े हैं। सवाल है कि जांच और कार्रवाई के बीच कब तक उक्त चारों क्लीनिक में गर्भ में मौत देने का खेल चलता रहेगा? जांच में देरी से क्लीनिकों में मौजूद मौत के साक्ष्य के दस्तावेज के गायब होने की जिम्मेदारी कौन लेगा?
जिला प्रशासन करेगा कार्रवाई
धड़ल्ले से हो रहे लिंग परीक्षण की खबर प्रकाशित होने के बाद जिला प्रशासन ने कार्रवाई की योजना बनानी शुरू कर दी है। डीएम प्रणव कुमार ने बताया, हर हाल में ऐसे अल्ट्रासाउंड सेंटर,निजी अस्पताल, क्लीनिकों पर कार्रवाई होगी। इसकी जांच के आदेश दिए हैं। जांच में गड़बड़ी मिलने पर संचालकों पर सख्त कार्रवाई होगी। इतना ही नहीं, निजी अस्पताल व अल्ट्रासाउंड सेंटर में लिंग परीक्षण के साक्ष्य उपलब्ध करवाने पर संबंधित सेंटर पर कार्रवाई होगी। इधर, सिटी एसपी सुशांत कुमार सरोज ने बताया कि लिंग परीक्षण गंभीर अपराध है। अगर कहीं ऐसा होता है तो कार्रवाई होगी, लेकिन इसके लिए पुलिस के पास शिकायत आनी चाहिए। सिविल सर्जन व जिलास्तर पर बने टॉस्क फोर्स के एक्सपर्ट की जांच रिपोर्ट के बाद पुलिस कार्रवाई कर सकती है।
क्लीनिकों की बनेगी सूची, जांच को बनेगी कमेटी : निजी क्लिनिकों में सोनोग्राफी टेस्ट पर सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद अल्ट्रासाउंड कराने के बाद गर्भपात और भ्रूण हत्या के व्यापार पर सिविल सर्जन डॉ. विजय कुमार सिंह ने बताया कि जिन क्लीनिकों की खबर भास्कर में छपी, उसकी सूची बनाने को कहा है। एक टीम जल्द इन क्लीनिकों की जांच करेगी। रिपोर्ट के बाद क्लीनिकों संचालकों पर कानूनी कार्रवाई होगी। 
विरोध में सामने आए संगठन, महिलाएं बोलीं-ऐसे लोगों को मिले फांसी

बेटियों की गर्भ में हत्या करने वाले डॉक्टर, क्लीनिक, मैटरनिटी होम व अल्ट्रासाउंड केंद्रों के खिलाफ शहर की महिला समेत अन्य संगठन सामने आए। सभी ने कहा कि ऐसे डॉक्टरों के लाइसेंस रद्द हो। उनपर हत्या का केस चला फांसी की मांग की। पार्षद प्रीति शेखर ने कहा, हम बेटी काे बचाने-पढ़ाने की बात करते हैं पर ऐसा कुकृत्य हाे रहा है। कानून काे सख्त हाेने की जरूरत है। लायनेस क्लब अध्यक्ष शशि भुवानिया ने फांसी की सजा देने की मांग की। राेटरी पिंक विक्रशमिला पिंक अध्यक्ष किरण गाेस्वामी ने खुद को इसके खिलाफ बताया। डीएम से भी शिकायत की। लायंस क्लब डिस्ट्रिक्ट 322 ई जाेन 24 की चेयरपर्सन सारिका खेतड़ीवाल ने कहा, ऐसे लोगों के लिए फांसी भी कम है। मधुरिमा क्लब उपाध्यक्ष पूनम पांडे ने इसे समाज की खुद से लड़ाई बताई, जबकि महासचिव सुधा पांडे ने उनके लिए कड़ी सजा की मांग की। 
नुक्कड़ नाटक से जागरुक करेगा समवेत : समवेत संस्था नुक्कड़ नाटक कर भ्रुण हत्या के खिलाफ जागरूक करेगा। संस्था की वर्षा ऋतु ने कहा, भ्रूण हत्या पर समाज अभी जागरूक नहीं है। अखिल भारतीय मारवाड़ी महिला सम्मेलन अध्यक्ष शाेभा खेतड़ीवाल ने कहा, डीएम से शिकायत करेंगे। लाइफ स्किल काेच देबज्याेति मुखर्जी ने कहा, हमें इस अपराध के खिलाफ मिलकर लड़ना हाेगा।

आईएमए अब भी खामोश
प्रशासनिक आदेशों के बाद भी इंडियन मेडिकल एसोसिएशन की भागलपुर इकाई खामोश है। अध्यक्ष डॉ. सीएम उपाध्याय ने बताया, अभी संगठन में ऐसी कोई चर्चा नहीं हुई है। निर्णय लेने के बाद बताया जाएगा।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना