• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Bhagalpur
  • Water Logging From The Main Road To The Streets, Now The Water Starts Coming Down, Then The Road Is Covered With Mud, The Rot Is Rising From The Pile Of Garbage.

बारिश से बर्बादी:मेन रोड से गलियाें तक जलजमाव, अब पानी उतरने लगा तो कीचड़ से सनी राह, कूड़े के ढेर से उठ रही सड़ांध

भागलपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
यह तस्वीर सूजागंज रोड की है। यहां जलजमाव के बाद पानी उतरा तो पूरी राह कीचड़ से सन गई। लोगों की आवाजाही मुश्किल हो गई। - Dainik Bhaskar
यह तस्वीर सूजागंज रोड की है। यहां जलजमाव के बाद पानी उतरा तो पूरी राह कीचड़ से सन गई। लोगों की आवाजाही मुश्किल हो गई।
  • दो दिन में हुई 86 एमएम बारिश ने बिगाड़ दी शहर की सूरत, कल के बाद सुधरेगा मौसम

दाे दिनाें में हुई 86 एमएम बारिश ने शहर की सूरत बिगाड़ दी है। जनजीवन पूरी तरह अस्त-व्यस्त हाे गया। लाेगाें की दिनचर्या बिगड़ गई। धान की फसल काे भी भारी क्षति हुई है। काराेबार प्रभावित हुआ है और लोगों की सेहत पर भी असर पड़ रहा है।

एक दिन पहले जहां शहर की मुख्य सड़काें से लेकर गली-माेहल्ले की सड़काें पर नाले का गंदा पानी उफन कर बहता रहा ताे मंगलवार काे पानी उतरने के बाद कीचड़भरी राहों ने मुश्किल बढ़ा दी। बारिश से शहर की सड़कें संकरी हाे गई हैं। सड़क के दाेनाें किनारे पानी या कीचड़ हाेने से चलना-फिरना मुश्किल हो गया है। केवल सड़क बची है और वाहनाें के दबाव से जाम की स्थिति बन रही है। शहर की इस हालत पर नगर निगम पूरी तरह लाचार नजर आ रहा है।

जानिए, बारिश ने शहर के किन-किन इलाकाें की रंगत फीकी कर दी
1.सैंडिस कंपाउंड

सोमवार आधी रात के बाद मूसलाधार बारिश से तिलकमांझी से सैंडिस कंपाउंड के बीच सड़क के एक तरफ पानी भर गया। सड़क से नीचे होने के कारण यह हिस्सा तालाब बन गया। लालबाग माेड़ के पास तेज बहाव के साथ पानी बहने से हादसे का भी खतरा मंडराने लगा। हालांकि मंगलवार काे बारिश नहीं हाेने से पानी उतरने लगा। लेकिन कीचड़ होने से परेशानी कम नहीं हुई। फिसलन की स्थिति बनने से लाेग बचते-संभलते निकले। सड़क पूरी तरह से संकरी हाे गई। इससे दिनभर रुक-रुक कर जाम लगता रहा।

2. डिक्शन माेड़ राेड
उल्टा पुल के नीचे डिक्शन माेड़ की ओर जाने वाले रास्ते जर्जर हाेने से गड्ढा हाे गया है। बारिश में यहां तालाब बन गया। इससे टेंपाे, ई-रिक्शा, बाइक से लेकर बस के गुजरने में भी दिक्कताें का सामना करना पड़ा। ई-रिक्शा पलटने का भी खतरा बन गया। सड़क के तालाब में तब्दील हाेने से पैदल आने-जाने लाेगाें काे भी परेशानी हुई।

3. उल्टा पुल के नीचे
स्टेशन से उल्टा पुल के नीचे लोग नाक-मुंह बंद कर गुजरते नजर आए। एक दिन पहले मूसलाधार बारिश से पानी जमने से सड़क पर कीचड़ फैला। सड़ी-गली सब्जियां राेड पर ही फेंके होने से कचरे का ढेर भी लग गया। इससे दुर्गंध उठने लगी और दाेपहर में धूप निकलने से सड़ांध उठने लगी। इससे लाेगाें काे काफी मुश्किलाें का सामना करना पड़ा।

4. सेतु से हाउसिंग बाेर्ड जाने वाले रास्ते
विक्रमशिला सेतु के पहुंच पथ से हाउसिंग बाेर्ड जाने वाले रास्ते भी बारिश से खतरनाक हाे गए। पहुंच पथ से नीचे उतरने के साथ ढलान पर फिसलन बन गया, हादसे का खतरा बढ़ गया। लाेग जैसे-तेसे बाइक लेकर चढ़ते-उतरते रहे। वहां से नीचे उतरने के साथ सड़क पर जगह-जगह गड्ढे में पानी जमा हाेने से राह मुश्किल हो गई।

सेहत, कारोबार और खेती भी प्रभावित
अधिकतम 29.0 डिग्री और न्यूनतम पारा रहा 25.0 डिग्री

  • मंगलवार को रुक-रुक हुई 67 एमएम बारिश
  • नवंबर के पहले सप्ताह में ठंड दे सकती है दस्तक

1. सेहत : माैसम में हुए बदलाव से सर्दी-खांसी और बुखार के मरीज बढ़ने लगे हैं। मायागंज अस्पताल में मंगलवार काे इमरजेंसी में दाेपहर एक बजे तक 42 मरीजाें काे भर्ती किया। इसमें 6 को बुखार था। ओपीडी मेडिसिन व शिशु विभाग में भी दर्जन भर मरीजाें काे ऐसी ही परेशानी पर तीन दिन की दवा दी गई। इमरजेंसी प्रभारी डाॅ. सुरेश कुमार ने बताया, मरीज बढ़े हैं। उन्हाेंने लोगों से फ्रीज में रखा भाेजन व ठंडा पानी न पीने की अपील की।

2. काराेबार: चेंबर अध्यक्ष अशोक भिवानीवाला ने बताया, बाहर से ग्राहकों का आना बंद रहा। चेंबर के पूर्व अध्यक्ष शैलेंद्र कुमार सर्राफ ने बताया, बारिश से 50% से अधिक कारोबार प्रभावित रहा। शहर के लोग भी सही ढंग से खरीदने काे बाजार नहीं आ सके। दो दिन की बारिश से 10-15 करोड़ का कारोबार प्रभावित हुआ है।

3. कृषि: दो दिन से हो रही बारिश से धान की फसल काे भारी नुकसान हाेने का अनुमान है। जिले में करीब 40% धान की फसल को नुकसान पहुंचा है। बीएयू के वैज्ञानिक विक्रम ने बताया, छोटी वेराइटी के धान को ज्यादा नुकसान हुआ है। बारिश से धान का दाना नहीं बन पाएगा और हवा से झड़ जाएगा।

बारिश में पेड़ गिरा, 3 घंटे तक आवागमन बाधित
बारिश और कटी सड़कों ने ट्रैफिक व्यवस्था ध्वस्त कर दी। पुलिस लाइन रोड में अहले सुबह एक विशाल पेड़ सड़क पर गिर गया। इससे करीब 3 घंटे तक आवागमन बाधित रहा। हालांकि सुबह 10 बजे तक पेड़ हटा कर आवागमन चालू कर दिया। लेकिन कटी सड़कों पर कीचड़ के फिसलन ने पैदल राहगीर और वाहन चालकों की परेशानी बढ़ा दी है। एसएसपी निताशा गुड़िया ने बताया, सड़कों की मरम्मत के लिए संंबंधित विभाग से बात हुई है। पाइप बिछाने के बाद मरम्मत कराने की बात कही गई है।

खबरें और भी हैं...