आठ घटे तक नहीं आई बिजली:20 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से चली हवा ने पैदा किया बिजली संकट, वाटर वर्क्स से एक वक्त ही मिला पानी

भागलपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बरारी के संतनगर में बिजली के तार पर गिरा पेड़। इससे 10 घंटे बिजली कटी रही। वाटर वर्क्स काे भी बिजली नहीं मिल पाई। इस कारण एक पाली में ही शहर को पानी मिला। - Dainik Bhaskar
बरारी के संतनगर में बिजली के तार पर गिरा पेड़। इससे 10 घंटे बिजली कटी रही। वाटर वर्क्स काे भी बिजली नहीं मिल पाई। इस कारण एक पाली में ही शहर को पानी मिला।

शहर में रविवार काे 15 से 20 किलाेमीटर की रफ्तार से चली हवा ने शहर में बिजली व पानी का संकट पैदा कर दिया। तेज हवा से कई जगहाें पर पेड़ गिर गए। इससे बिजली के तार भी टूट गए। कई जगह बिजली के तार पर टहनी गिर गई। कहीं टहनी तार में सटने से फाॅल्ट आ गया। इससे जंफर उड़ते रहे। दिनभर लाेकल फाॅल्ट से बिजली आती-जाती रही। कई माेहल्ले में सात से आठ घंटे तक बिजली गायब रही।

कई माेहल्लाें में हर दस मिनट पर बिजली आती-जाती रही। बरारी के संतनगर के हनुमान घाट रोड में तेज हवा में बिजली के तार पर पेड़ गिर गया। इससे इलाके की बिजली गुल हाे गई। सुबह 11 बजे से देर शाम तक बिजली आपूर्ति बंद रहने से बरारी वाटर वर्क्स से लाेगाें काे एक वक्त का ही पानी मिला। तालाब में जाे पानी जमा था उसे सुबह में दिया गया, लेकिन शाम में पानी देने तक तालाब सूख गए। इस कारण दाेपहर से देर शाम तक लाेगाें काे पानी नहीं मिला।

संतनगर में पेड़ गिरने से वहां से गुजर रहा एक व्यक्ति बाल-बाल बच गया। पास में पानी टंकी की दीवार को क्षति पहुंची। 10 घंटे बाद देर शाम वहां बिजली ठीक हुई। वाहनाें का आवागमन बाधित रहा। कचहरी चाैक के पास भी एक पेड़ गिर गया। माैसम विभाग के मुताबिक 15 से 20 किलाेमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चली है। यानी, हवा की मामलू रफ्तार ने ही बिजली कंपनी के मेंटेनेंस की पाेल खाेल दी।

दिनभर बिजली कंपनी के इंजीनियर फाॅल्ट दूर करने में जुटे रहे। लेकिन सीमित संसाधन के कारण काम में गति नहीं आ सकी और रात में भी बिजली की आंख-मिचाैली जारी रही। बिजली कंपनी के सहायक अभियंता प्रणव कुमार मिश्रा ने बताया कि तेज हवा चलने के कारण कई जगहाें पर तार पर टहनियां व पेड़ गिर गए। कहीं जंफर उड़ गया, हालांकि फाॅल्ट काे दूर कर बिजली की आपूर्ति बहाल करने का प्रयास जारी रहा।

लाेकल फाॅल्ट से पूरे शहर में देर रात तक बिजली की आंख मिचाैली जारी रही

सुबह से गायब बिजली शाम में आई और कुछ मिनट में फिर चली गई
तिलकामांझी के लालबाग माेहल्ले में सुबह 10 बजे से ही बिजली कटी रही। शाम सात बजे आई। इसके बाद कुछ मिनट रहने के बाद भी फिर बिजली कट गई। हालांकि देर शाम के बाद बिजली आती-जाती रही। भीखनपुर के इलाके में भी सुबह से बत्ती गुल रही और शाम में आई। जबकि मानिक सरकार के इलाके में सुबह 10.30 बजे बिजली कटी और शाम साढ़े पांच बजे आई। इसके बाद पांच मिनट के बाद फिर कटी और साढ़े सात बजे तक नहीं आई। इसके बाद रात में बिजली आई, लेकिन इसके बाद भी बिजली की आंख-मिचाैली जारी रही।

घरों में पानी की टंकी हुई खाली
टंकी का पानी खत्म हाेने से लाेग बिजली का इंतजार करते रहे, ताकि बिजली के आने के बाद उसे भरी जा सके। स्विच देते ही बिजली गुल हाे जाती थी। आदमपुर, मायागंज, बड़ी खंजरपुर, छाेटी खंजरपुर, बरारी के अलावा शहर के दक्षिणी इलाके इशाकचक, मिरजानहाट, कमलनगर, शिवपुरी काॅलाेनी, गुड़हट्टा चाैक, माेजाहिदपुर, हबीबपुर समेत कई इलाकाें में लाेग बिजली संकट से जूझते रहे।

घरों में पानी की टंकी हुई खाली
टंकी का पानी खत्म हाेने से लाेग बिजली का इंतजार करते रहे, ताकि बिजली के आने के बाद उसे भरी जा सके। स्विच देते ही बिजली गुल हाे जाती थी। आदमपुर, मायागंज, बड़ी खंजरपुर, छाेटी खंजरपुर, बरारी के अलावा शहर के दक्षिणी इलाके इशाकचक, मिरजानहाट, कमलनगर, शिवपुरी काॅलाेनी, गुड़हट्टा चाैक, माेजाहिदपुर, हबीबपुर समेत कई इलाकाें में लाेग बिजली संकट से जूझते रहे।

वाटर वर्क्स का तालाब सूखा, चालू रहेगा इंटेकवेल
सुबह 11 बजे से देर शाम तक बिजली आपूर्ति बंद रहने से बरारी वाटर वर्क्स से केवल सुबह ही पानी में पानी दिया गया। यहां का तालाब सूख गया है। इससे शहर के 12 वार्डाें में के करीब सवा लाख लाेगाें काे परेशानी हुई। घंटाघर व माणिक सरकार पानी टंकी में भी पानी स्टाेर नहीं हुआ। अब पूरी रात इंटेकवेल चालू रखकर तालाब में पानी स्टाेर हाेगा। जलकल शाखा के इंजीनियर कृष्णा प्रसाद ने बताया कि बिजली आपूर्ति बंद रहने की वजह से सभी तालाबाें का पानी खत्म हाे गया। इसलिए शाम की पाली में पानी की आपूर्ति नहीं हुई। लेकिन रात भर पानी स्टाेर करने के बाद साेमवार की सुबह पानी की आपूर्ति की जाएगी।

खबरें और भी हैं...