रक्तदान शिविर:रक्तदान व नेत्रदान कर आप भीड़ से खुद काे कर लेते हैं अलग : डॉ. उमाशंकर

भागलपुर14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
रक्तदान शिविर का उद्घाटन करते प्राचार्य डॉ उमाशंकर सिंह व अन्य। - Dainik Bhaskar
रक्तदान शिविर का उद्घाटन करते प्राचार्य डॉ उमाशंकर सिंह व अन्य।

मेडिकल कॉलेज अस्पताल के प्राचार्य डॉ. उमाशंकर सिंह ने कहा कि खून व नेत्रदान करनेवाले आम लाेगाें से बिल्कुल अलग हाे जाते हैं। क्याेंकि उनकी एक काेशिश से किसी की जान बचती है ताे किसी के आंखाें की राेशनी लाैटती है। इसके लिए ज्यादा से ज्यादा लाेगाें काे आगे आना चाहिए। रक्तदान की तरह नेत्रदान भी महादान है। यह बातें प्राचार्य ने रविवार काे ब्लड बैंक में आयाेजित रक्तदान शिविर में कहीं।

कोरोना समेत अन्य दुर्भाग्यपूर्ण घटनाओं में मृत चिकित्सकों एवं स्वास्थ्यकर्मियों की स्मृति में जेएलएनएमसीएच स्टूडेंट फेमिली द्वारा शिविर का आयोजन किया गया। इस दाैरान पैथोलॉजी विभाग के एचओडी डॉ. दीपक कुमार, फिजियोलॉजी विभाग के एचओडी डॉ. हिमांशु परमेश्वर दुबे व ब्लड बैंक से डॉ. दिव्या सिंह व अन्य माैजूद रहे। मेडिकल कॉलेज के एमबीबीएस छात्र, इंटर्न ने रक्तदान शुरू किया।

छात्रों की भीड़ इस कदर उमड़ी कि पूर्वाह्न 11 बजे तक ब्लड बैंक के रिलैक्स रूम से लेकर रक्तदान कमरे तक में जगह नहीं बची। देश के भावी डॉक्टरों ने एक दिन में ही 86 यूनिट खून दान कर दिया जो कि ब्लड बैंक द्वारा कराये गये शिविर में दूसरी सबसे अधिक संख्या है। इससे पहले वी केयर संस्था ने एक दिन में 236 यूनिट रक्तदान किया था। मौके पर डॉ. मनीष कुमार समेत बड़ी संख्या में एमबीबीएस छात्र मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...