केस:7 वर्षीय बालिका का पैतालीस वर्षीय विधुर से विवाह, केस

परबत्ता9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 13 मार्च को जबरन करवा दी गई थी शादी

प्रखंड के गोविंदपुर पंचायत अंतर्गत कन्हैयाचक गांव में खजरैठा पंचायत के मथुरापुर की 7 वर्षीय बालिका को शिवरात्रि मेला दिखाने के बहाने मंदिर में ले जाकर 45 वर्षीय विधुर से शादी करा दी गई। इस मामले में बालिका के चचेरे भाई जयप्रकाश चौधरी के आवेदन पर परबत्ता थाना में मामला दर्ज कराया गया है। आरोप है कि इस मासूम बच्ची की शादी चंद पैसे की लोभ में बहला फुसलाकर की गई। परबत्ता थाना में दर्ज कराए गए प्राथमिकी के अनुसार मामला विगत 13 मार्च की है। आवेदक का आरोप है कि कन्हैयाचक गांव निवासी रामविलास मिश्र के पुत्र सुशील मिश्र उम्र 45 वर्ष की शादी कराने में लड़के के छोटे भाई की पत्नी खुशबू कुमारी की भूमिका है। इतना ही नहीं खुशबू देवी की शादी पांच वर्ष पूर्व ही कन्हैयाचक में हुई थी।

उसके पति के बड़े भाई व सुशील मिश्र की पत्नी का देहांत हो गया। जिसके बाद सुशील मिश्र के छोटी भाई की पत्नी खुशबू देवी ने अपने ही मायके की मासूम व नाबालिग लड़की को बहला फुसलाकर शादी कराने की प्रयास में लग गई। विगत 13 मार्च को मेला दिखाने के बहाने वह अपने ससुराल कन्हैयाचक के ही ठाकुरबाड़ी मंदिर में जबरन शादी कर दिया। इस घटना की सूचना जब लड़की के परिजनों व ग्रामीणों को मिली तो उन्होंने कन्हैयाचक गांव पहुंच कर इस विवाह का विरोध किया।

खबरें और भी हैं...