कर्तव्य:बेटी ने दी पिता को मुखाग्नि

परबत्ता24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • झारखंड के देवघर में लंबी बीमारी से हुई एसआई विजय मिश्रा की मौत

परबत्ता प्रखंड के सियादतपुर अगुवानी पंचायत के डुमड़िया बुजुर्ग की मुस्कान कुमारी ने अपने पिता के अंतिम संस्कार में मुखाग्नि देकर पुत्र का फर्ज अदा किया। शनिवार को अगुवानी गंगा घाट पर बिहार पुलिस के एसआई में विजय मिश्रा के निधन के बाद उनकी सबसे छोटी बेटी मुस्कान ने अपने पिता को मुखाग्नि दी। इस शवयात्रा में शामिल डुमरिया बुजुर्ग के लोग इस घटना के गवाह बने। इस घटना को लेकर लोगों में चर्चा है कि अब पुत्र तथा पुत्री में कोई फर्क नहीं है। बेटी ने पिता को मुखाग्नि देकर बेटे का धर्म निभाया। घर में कोई भी पुरुष सदस्य नहीं होने के कारण आसपास के लोगों के सहयोग से दाह संस्कार की व्यवस्था की गई। मिली जानकारी के अनुसार परबत्ता प्रखंड के डुमरिया बुजुर्ग निवासी विजय मिश्रा लंबे समय से बीमार चल रहे थे। शुक्रवार को झारखंड के देवघर में उनका निधन हो गया। बताया जा रहा है कि विजय मिश्रा को छह बेटियां हैं। जिनमें से चार बेटियों का विवाह हो चुका है तथा दो बेटी अविवाहित है। पुत्र नहीं रहने के कारण उनकी सबसे छोटी बेटी मुस्कान ने बेटे का धर्म निभाते हुए पूरे हिंदू रीति-रिवाज के अनुसार शनिवार को अगुवानी घाट पर अपने पिता को मुखाग्नि दी। दाह संस्कार के दौरान मुस्कान के आंसुओं को देखकर सभी उपस्थित लोगों का कलेजा मुंह को आ रहा था। अभाविप के सोशल मीडिया सह संयोजक नवनीत कुमार मिश्र ने कहा कि रुढ़िवादी परपंरा को दरकिनार करते हुए मृतक की पुत्री ने अपने पिता को मुखाग्नि देकर समाज में एक अलग उदाहरण प्रस्तुत किया है। इन रुढियों को लेकर अब धीरे धीरे समाज का रवैया उदार होता जा रहा है।

खबरें और भी हैं...