कार्रवाई:मेडिकल कॉलेज में नामांकन के नाम पर 36 लाख ठगी करने वाले दो ठग को भोपाल एसटीएफ ने किया गिरफ्तार

पूर्णिया5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
भोपाल एसटीएफ के शिकंजे में दोनों ठग। - Dainik Bhaskar
भोपाल एसटीएफ के शिकंजे में दोनों ठग।
  • भोपाल व मुंबई के मेडिकल कॉलेज में एडमिशन के नाम पर की थी ठगी
  • पूर्णिया पुलिस की मदद से शहर के एक होटल से दोनों ठग को किया गिरफ्तार, कोर्ट में पेशी के बाद ट्रांजिट रिमांड पर दोनों को साथ ले गई भोपाल पुलिस

मेडिकल कॉलेज में नामांकन के नाम पर 36 लाख रुपए ठगी करने वाले दो ठग को भोपाल की एसटीएफ टीम ने पूर्णिया पुलिस की मदद से कालीबाड़ी चौक स्थित होटल कौशिकी से शनिवार को गिरफ्तार किया है। दोनों की न्यायालय में पेशी के बाद भोपाल पुलिस उसे ट्रांजिट रिमांड पर अपने साथ ले गई। भोपाल से आई एसटीएफ टीम के कप्तान शशांक सिंह गुर्जर ने बताया कि गिरफ्तार ठगों में पटना सिटी-31 ए नर्मदा ब्लॉक सेक्टर-1 जलालपुर रूपसपुर (पटना सिटी) के संदीप कुमार करवरिया व मधुबनी जिला के नवरतन कॉलोनी निवासी दीपक कुमार सिंह शामिल हैं। उन्होंने बताया कि मध्यप्रदेश के रीवा जिला के मऊगंज निवासी विवेक कुमार मिश्र के आवेदन पर यह कार्रवाई की गई है। उन्होंने बताया कि विवेक मिश्र ने रीवा एसपी को आवेदन देकर कहा है कि गांधी मेडिकल कॉलेज भोपाल व लोकमान्य मेडिकल कॉलेज सायन बॉम्बे में उनके बेटे प्रतीक मिश्र का एडमिशन कराने के नाम पर संदीप करवारिया, देवराज मिश्र, चौहान, पोंटिल व राकेश वर्मा ने 36 लाख रुपए की ठगी की है। विवेक मिश्र ने अपने आवेदन में कहा है कि उक्त ठगों द्वारा गांधी मेडिकल कॉलेज भोपाल व लोकमान्य मेडिकल कॉलेज सायन बॉम्बे में प्रतीक मिश्र का एडमिशन कराने के नाम 36 लाख रुपए की मांग की गई थी। उन्होंने दिल्ली में तीन किस्तों में 34 लाख रुपए देवराज मिश्र, संदीप करवारिया और चौहान को दिए थे। इसमें पहली किस्त में 12 लाख, दूसरी किस्त में 15 लाख और तीसरी किस्त में 7 लाख रुपए दिए गए थे। 34 लाख देने के बाद कुछ ही दिन में इन लोगों ने प्रतीक मिश्र का एडमिशन हो जाने का मोबाइल पर मैसेज भी भेजा। इसके बाद इन लोगों के द्वारा बाकी दो लाख रुपए भी ले लिया गया। इस बारे में गांधी मेडिकल कॉलेज भोपाल व लोकमान्य मेडिकल कॉलेज सायन बॉम्बे में एडमिशन की जानकारी ली गई तो पता चला वहां कोई एडमिशन हुआ ही नहीं है। इसके बाद विवेक मिश्र के द्वारा रीवा एसपी को आवेदन दिया गया।

रीवा के एसपी ने भोपाल एसटीएफ टीम के पास ठगी के मामले को किया था ट्रांसफर

रीवा एसपी ने मामले को गंभीरता से लेते हुए भोपाल एसटीएफ टीम के पास इस केस को ट्रांसफर किया। भोपाल एसटीएफ टीम मामले की जांच के लिए त्वरित एक टीम गठित की। गठित एसटीएफ टीम ने पूर्णिया पुलिस के सहयोग से पूर्णिया भट्ठा कालीबाड़ी चौक स्थित होटल कौशिकी में छापेमारी की। छापेमारी में पटना सिटी के संदीप कुमार करवारिया और मधुबनी जिला के नवरत्न कॉलोनी निवासी दीपक कुमार सिंह को गिरफ्तार किया गया। भोपाल एसटीएफ की टीम ने गिरफ्तार दोनों अभियुक्त को पूर्णिया सीजेएम कोर्ट में पेश किया और 5 दिन के ट्रांजिट रिमांड पर भोपाल लेकर रवाना हो गई।

ठगी करने वालों को पकड़ने आई थी भोपाल पुलिस

मेडिकल कॉलेज में नामांकन के नाम पर ठगी करने वालों की गिरफ्तारी के लिए भोपाल से पुलिस की टीम आई थी। पूर्णिया पुलिस ने मदद की। भोपाल पुलिस ने पूर्णिया पुलिस के सहयोग से होटल कौशिकी से दो लोगों को गिरफ्तार किया। -दया शंकर, एसपी

खबरें और भी हैं...