लोजपा नेता को अगवा कर मांगी 10 लाख की फिरौती:पूर्णिया में विधानसभा चुनाव लड़ चुके अनिल उरांव का अपहरण; गुरुवार दोपहर से नहीं लौटे घर

पूर्णिया7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बिहार विधानसभा 2020 में अनिल उरांव मनिहारी विधानसभा से लोजपा के टिकट पर चुनाव लड़े थे। (फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar
बिहार विधानसभा 2020 में अनिल उरांव मनिहारी विधानसभा से लोजपा के टिकट पर चुनाव लड़े थे। (फाइल फोटो)
  • शहर में सर्किट हाउस के पास गुरुवार दोपहर किसी से मिलने गए थे
  • शुक्रवार सुबह अपहरणकर्ता ने फोन पर ₹10 लाख की मांगी फिरौती

पूर्णिया में लोजपा नेता और मनिहारी विधानसभा प्रत्याशी रहे अनिल उरांव (35) का फिरौती के लिए अपहरण कर लिया गया है। वह गुरुवार दोपहर 2 बजे से जेपी नगर स्थित अपने घर से किसी व्यक्ति से मिलने सर्किट हाउस के पास गए थे। इसके बाद से वह घर नहीं लौटे। शुक्रवार सुबह 7:30 बजे अपहरणकर्ताओं ने अनिल उरांव के घर वालों को फोन कर 10 लाख रुपए की फिरौती मांगी। परिजनों ने इसकी लिखित सूचना केहाट थाना में दी है। इधर, घटना की सूचना मिलते ही केहाट थानेदार ने परिजनों से मुलाकात कर घटना की पूरी जानकारी ली।

लोजपा नेता के घरवालों ने पुलिस को एक अपहरणकर्ता का फोन नंबर भी दिया। थानेदार सुनील कुमार मंडल के अनुसार यह अपहरण का ही मामला प्रतीत हो रहा है। इससे पहले गुरुवार देर रात 11 बजे अनिल उरांव के घरवालों ने गुमशुदगी की लिखित सूचना दी थी। पुलिस मामले की जांच कर रही है। कॉल डिटेलों को खंगाला जा रहा है। कुछ लोगों से पूछताछ की जा रही है।

लोजपा नेता के घर के बाहर तैनात पुलिसकर्मी।
लोजपा नेता के घर के बाहर तैनात पुलिसकर्मी।

बहन बोलीं- गुरुवार 2 बजे भतीजे के साथ घर से निकला था

अनिल उरांव की बहन राज्य महिला आयोग की सदस्य रहीं सीमा ने बताया कि उनके छोटे भाई गुरुवार 2 बजे किसी से मिलने घर से निकले थे। वह हाफ पैंट व टीशर्ट ही पहने हुए थे और अपने भतीजे को बोले कि सर्किट हाउस के गेट पर छोड़ दो। इसके बाद जब वह देर शाम घर नहीं लौटे तो उनकी पत्नी पिंकी कुमारी ने उनके मोबाइल पर फोन किया तो नम्बर स्विच ऑफ बताया। काफी देर खोजबीन के बाद भी जब उनका पता नहीं चला तो थाने में जाकर मामला दर्ज करवाया।

जमीन ब्रोकरी का भी काम करते थे लोजपा नेता

शुक्रवार सुबह एक अनजान नंबर से उनके घर पर फोन आया कि 10 लाख रुपए की व्यवस्था जल्द करें तभी अनिल को छोड़ा जाएगा। स्थानीय लोगों का कहना है कि अनिल उरांव जमीन ब्रोकरी का भी काम करते थे। बिहार विधानसभा 2020 में अनिल मनिहारी विधानसभा से लोजपा के टिकट पर चुनाव भी लड़े थे, लेकिन जीत नहीं मिली। घर पर रिश्तेदार समेत आसपास के लोगों की भीड़ लगी है।

खबरें और भी हैं...