पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Bhagalpur
  • Purnia
  • I Was Positive, The Whole Family Was Infected With Me, The Mother's Langs Were Spoiled By 40% And The Oxygen Level Was 86, But Did Not Get Distracted And Everyone Won The War From Mill Corona.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कोरोना वॉरियर:मैं पॉजिटिव हुई, मेरे साथ पूरा परिवार संक्रमित हो गया, मां का लंग्स तो 40 % तक खराब हो चुका था और ऑक्सीजन लेवल 86 था, लेकिन विचलित नहीं हुई और सभी ने मिल कोरोना से जंग जीती

पूर्णिया12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • गंभीर कोरोना संक्रमण होने के बावजूद अपनी इच्छाशक्ति से कोरोना को हराने वालों की जांबाज कहानियां, लेक्चरर डॉ. नीतू कुमारी ने हिम्मत से खुद और पूरे परिवार को किया स्वस्थ, कहा-घरेलू नुस्खा और जड़ी-बूटियों का भी लिया सहारा

पहले खुद पॉजिटिव होने के बाद परिवार के तीन अन्य सदस्य भी संक्रमित हो गए। इसलिए खुद का ख्याल रखते हुए सभी की सेवा भी करनी थी। डॉ. नीतू ने कहा कि मेरे पॉजिटिव होने के बाद मेरी मां को भी फीवर हो गया। पांच दिन बाद जब पूरे परिवार की जांच करवाई तो मेरे पति व बेटा सहित चारों लोग पॉजिटिव हो गए थे। मैं एकदम घबराई नहीं। मेरी मां रुक्मणी देवी (72) का लंग्स 40 प्रतिशत डैमेज हो गया था। वो कोरोना के दूसरे स्टेज में पहुंच गई थीं, पर उनको मैंने यह बात नहीं बताई। उनकी स्थिति खराब होती जा रही थी। मेरा छह साल का बेटा भी पॉजिटिव था। उसको अलग रखना मेरे लिए सबसे अधिक कठिन था। इस दौरान मेरी तबीयत खराब होती जा रही थी। मां का ऑक्सीजन लेवल 86 तक चला गया।

ऐसे में खुद को संभालते हुए सभी का ध्यान रखना था। मैं कभी नहीं सोचा की इनको टच करेंगे तो मुझे और परेशानी होगी। सब को अलग-अलग बेड पर रखकर सेवा में जुट गई। अंदर से डर तो था ही पर खुद में हिम्मत जुटाई और खुद पॉजिटिव रहते हुए सभी की सेवा करना शुरू कर दी। 14 दिन बाद भी जब मेरी रिपोर्ट निगेटिव नहीं तो थोड़ा डर लगा। पर घरेलू नुस्खा अपना शुरू कर दिया। इस दौरान मेरी मां की तबीयत और खराब होती गई। पर मैं घबराई नहीं। डॉक्टर व अन्य देशी सलाह लेती रही। सभी के आपसी सहयोग से हमलोगों ने कोरोना को मात दे दी।

लेक्चरर डॉ. नीतू कुमारी ने बताया कि ऑक्सीजन के लिए अजवाईन, लौंग, कपूर का दाना पर निलगीरी का तेल ने कमाल किया। मेरी माता जी का ऑक्सीजन लेवल 86 के पास पहुंच गया था। इस दौरान ऑक्सीजन के लिए सदर अस्पताल और बहुत जगह गई पर उपलब्ध नहीं हुआ है। इसके बाद किसी रिलेटिव ने घरेलू नुस्खा अपनाया। इसमें एक चम्मच अजवाइन, चार –पांच लौंग व कपूर का दाना व निलगीरी का तेल एक सूती कपड़ा में बांधकर एक-एक घंटा पर 20 बार सूंघती रही। इससे एक ही दिन में ऑक्सीजन का लेवल 94 हो गया।

इसके बाद दो-तीन दिन तक यह लेवल इतना ही रहा। इसके बाद धीरे-धीरे वह रिकवर होती रही। और सब ठीक हो गया।
(डॉ. नीतू कुमारी पॉलिटेक्निक कॉलेज के फिजिक्स डिपार्टमेंट में लेक्चरर हैं)

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - आर्थिक स्थिति में सुधार लाने के लिए आप अपने प्रयासों में कुछ परिवर्तन लाएंगे और इसमें आपको कामयाबी भी मिलेगी। कुछ समय घर में बागवानी करने तथा बच्चों के साथ व्यतीत करने से मानसिक सुकून मिलेगा...

    और पढ़ें