पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बाढ़ का कहर:महानंदा का बढ़ा जलस्तर, कटाव शुरू कभी भी नदी में समा सकते हैं 350 घर

बैसा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बैसा के कंफलिया पंचायत का असजा शर्मा टोली, जहां कटाव शुरू हो चुका है। 350 घर खतरे की जद में आ गए हैं। - Dainik Bhaskar
बैसा के कंफलिया पंचायत का असजा शर्मा टोली, जहां कटाव शुरू हो चुका है। 350 घर खतरे की जद में आ गए हैं।
  • लगातार बारिश व नेपाल के तराई क्षेत्रों की नदियों के जलस्तर में वृद्धि का असर

पिछले कई दिनों से हो रही बारिश व नेपाल के तराई क्षेत्रों की नदियों के जलस्तर में वृद्धि के कारण प्रखंड क्षेत्र से होकर बहने वाली महानंदा व कनकई नदी में भी पानी बढ़ने लगा है। ग्रामीणों ने बताया कि महानंदा व कनकई नदी का जलस्तर करीब 3 फीट बढ़ा है। महानंदा के जलस्तर में वृद्धि के कारण प्रखंड क्षेत्र के कंफलिया पंचायत अंतर्गत असजा शर्मा टोली के समीप नदी के कटाव का खतरा उत्पन्न हो गया है। इसके कारण 350 घर कभी भी बह सकते हैं।

असजा शर्मा टोली वार्ड-8 के पास से बह रही महानंदा नदी के कटाव को रोकने के लिए विभाग द्वारा अभी तक कटावरोधी कार्य शुरू नहीं किया गया है। स्थानीय ग्रामीण राजमोहन शर्मा, बेलवा शर्मा, सोगेन शर्मा, राजेश शर्मा, पंकज शर्मा, विश्वजीत शर्मा, आनंद शर्मा आदि ने बताया कि गांव के ठीक बगल से महानंदा व कनकई बह रही है। पिछले साल महानंदा का तेज कटाव होने से नदी बिल्कुल गांव को छूकर आगे बढ़ रही है। लोगों ने बताया कि हमारी खेतिहर जमीन तो पहले ही नदी में समा चुकी है। अब कुछ बचा है तो सिर्फ यह जमीन जिस पर हमलोग बसे हैं और घर। अगर यह भी कट जाए तो हमलोग कहां जाएंगे। प्रशासनिक अधिकारी व जनप्रतिनिधि आते तो हैं, लेकिन सिर्फ दिलासा देकर चले जाते हैं।

आनन-फानन में कटाव रोकने का प्रयास होगा केवल खानापूर्ति : ग्रामीणों ने बताया कि आनन-फानन में कटाव रोकने का प्रयास केवल खानापूर्ति होगी। गणेश प्रमाणिक ने कहा कि हमलोग गांव पर आने वाले संभावित खतरे को लेकर पिछले कई महीने से प्रशासन से जल्द कटाव रोधी काम शुरू कराने की मांग कर रहे हैं। प्रशासन गहरी नींद में सोया है। बारिश आने का इंतजार किया जा रहा है। अंजार आलम ने कहा कि जब एक बार अचानक नदी का जलस्तर बढ़ जाएगा तब विभाग की नजर इसपर पड़ेगी और जल निस्तारण विभाग उस वक्त आनन-फानन में बांस के बल्ले तथा बालू भरे बोरी के सहारे उस कटाव को रोकने का प्रयास करेंगे जो हमेशा की तरह नाकाफी साबित होगा। समय रहते काम नहीं करने का फल गांव के लोगों को भुगतना पड़ेगा।

जल्द शुरू किया जाएगा कटावनिरोधी कार्य : जेई
बाढ़ एवं जल निस्सरण विभाग के जेई राजीव कुमार ने बताया कि जल्द ही जांच टीम के साथ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा होगा। इसके बाद कटाव निरोधक कार्य शुरू किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...