गोदभराई दिवस:गर्भवती महिलाओं को दी गई पोषक पदार्थों के सेवन करने की जानकारी

पूर्णिया2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गोदभराई दिवस पर महिला को पोषण की पोटली देते आईसीडीएस कर्मी। - Dainik Bhaskar
गोदभराई दिवस पर महिला को पोषण की पोटली देते आईसीडीएस कर्मी।
  • जन्म के बाद छह महीने तक शिशु को सिर्फ स्तनपान कराना हितकर
  • आंगनबाड़ी केंद्रों पर गोदभराई दिवस का किया गया आयोजन

कोरोना संक्रमण काल में भी आईसीडीएस के द्वारा कोविड गाइडलाइन के नियमों का पालन करते हुए पोषक क्षेत्रों में गृह भ्रमण कर योजनाओं का लाभ पहुंचाया जा रहा है। इसी क्रम में शनिवार को जिले में संचालित सभी परियोजना में आंगनबड़ी केंद्रों पर क्षेत्र की गर्भवती महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान बेहतर खान-पान व नियमित तौर से चिकित्सक से जांच के लिए गोदभराई दिवस का आयोजन किया गया। इस दौरान गर्भवती महिलाओं को पोषण युक्त पोटली देकर उन्हें गर्भावस्था के दौरान पोषणयुक्त पदार्थों के सेवन करने की जानकारी दी गई।
जिला कार्यक्रम पदाधिकारी (डीपीओ) आईसीडीएस राखी कुमारी ने क्षेत्र भ्रमण कर गोदभराई दिवस कार्यक्रम का निरीक्षण किया । निरीक्षण के दौरान डीपीओ द्वारा कसबा प्रखंड में आंगनबाड़ी केंद्रों पर गर्भवती महिलाओं को पोषण युक्त पोटली देकर उन्हें अच्छे खानपान की जानकारी दी गई, जिससे कि गर्भवती महिला और उनके होने वाले बच्चे तंदुरुस्त पैदा हो। गर्भवती महिलाओं को दिए गए पोषण युक्त पोटली में गुड़, चना, हरी पत्तेदार सब्जियां, आयरन की गोलियां, फल आदि शामिल रहे। डीपीओ के कसबा निरीक्षण के दौरान पोषण अभियान की जिला समन्वयक निधि प्रिया, परियोजना सहायक सुधांशु कुमार, महिला पर्यवेक्षिका चंदा कुमारी, पोषण अभियान प्रखंड समन्वयक सुलेखा आदि उपस्थित रहे।
गर्भस्थ शिशु के बेहतर स्वस्थ के लिए महिलाओं को दी गई जरूरी जानकारी : गोदभराई कार्यक्रम के दौरान क्षेत्र की सभी गर्भवती महिलाओं को गर्भस्थ शिशु के बेहतर स्वास्थ्य के लिए पोषण युक्त खानपान की जानकारी दी गई। डीपीओ राखी कुमारी ने कहा सभी गर्भवती महिला और उसके होने वाले बच्चे स्वस्थ और सुरक्षित हों इसके लिए ही आईसीडीएस द्वारा हर माह आंगनवाड़ी केंद्रों पर गोदभराई दिवस का आयोजन किया जाता है। इस दौरान क्षेत्र महिला को पोषणयुक्त पोटली देकर गर्भावस्था के दौरान जरूरी खानपान और सावधानियों की भी जानकारी दी जाती है। डीपीओ ने कहा गोदभराई के मध्यम से सभी आंगनबाड़ी सेविकाएँ अपने क्षेत्र की महिलाओं को पूरे नौ महीने के गर्भकाल में पोषणयुक्त पोषाहार जैसे ताजे फल, हरी सब्जियां आदि खाने की जानकारी देने के साथ नियमित स्वस्थ जांच का भी संदेश देती है जिससे कि गर्भवती महिला और उसके होने वाले बच्चे सुरक्षित एवं स्वस्थ रह सके।
जन्म के बाद छः महीने तक शिशु को सिर्फ स्तनपान कराने का मिला निर्देश : पोषण अभियान की जिला समन्वयक निधि प्रिया ने बताया आंगनबाड़ी केंद्रों पर गोदभराई दिवस का आयोजन कर गर्भवती महिलाओं को माँ और होने वाले बच्चे दोनों को स्वस्थ रखने के प्रति जागरूक किया गया। उन्होंने कहा कि बच्चे के जन्म के एक घंटे के अंदर ही उसे मां के दूध का सेवन कराना चाहिए।यह मां और बच्चे दोनों के अच्छे स्वास्थ्य के लिए आवश्यक है। जन्म के बाद छः महीने तक बच्चे को केवल माँ का ही दूध देना चाहिए।

गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को नियमित चिकित्सक के संपर्क में रहने की मिली सलाह
पोषण अभियान के जिला परियोजना सहायक सुधांशु कुमार ने कहा सभी गर्भवती महिला को गर्भावस्था की पुष्टि के बाद से ही चिकित्सकों के संपर्क में रहना चाहिए और नियमित रूप से अपना चेकअप कराते रहना चाहिए। गर्भावस्था के आखिरी महीनों में महिलाओं को अधिक पोषक तत्व की जरूरत होती है। इसके साथ ही सभी को गर्भावस्था के साथ मिल रहे सरकारी सहायता जैसे प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना, जननी सुरक्षा योजना, मातृ शिशु सुरक्षा कार्ड आदि की जानकारी रखते हुए इसका लाभ उठाना चाहिए। महिलाओं को आंगनबाड़ी सेविकाओं से प्रसव पूर्व देखभाल, एनीमिया की रोकथाम आदि की भी जानकारी लेकर उसके लिए सतर्क रहना चाहिए ताकि वह और होने वाले बच्चे दोनों स्वास्थ्य रहें।

खबरें और भी हैं...