पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

परेशानी:लॉकडाउन में भी लाइन बाजार में लग रहा जाम

पूर्णिया9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • तीन ट्रैफिक पदाधिकारी समेत 70 होमगार्ड रहते हैं तैनात, फिर भी अतिक्रमण हटाना चुनौती

लॉक डाउन के दौरान भी लाइन बाजार व लाइन बजार से रजनी चौक तक जाम की स्थिति बनी रहती है। यातायात पुलिस के रहते भी लॉक डाउन में लाइन बाजार में जाम लगना यातायात पुलिस की कार्यशैली पर सवाल खड़ा करता है। वहीं गिरजा चौक व बस स्टेंड पर भी अधिकांश गाड़ियां सड़क पर हीं लगी रहती हैं। जिस कारण लोगों को जाम का सामना करना पड़ता है। जबकि शहर में जाम से निजात दिलाने के लिए प्रतिदिन तीन ट्रैफिक पुलिस पदाधिकारी सहित 70 होमगार्ड की ड्यूटी पूरे शहर में लगाई जाती है। इसके बाद भी जाम की समस्या बनी रहती है। लाइन बाजार चौक पर भी यातायात पुलिस के जवान ड्यूटी में रहते हैं। इसके बाद भी जाम की समस्या पर कोई ध्यान नहीं दिया जाता है। लाइन बाजार चौक से रजनी चौक जाने वाली गंगा दार्जिलिंग सड़क पर हमेशा लगा रहता है जाम इस लॉक डाउन के दौरान भी लाइन बाजार चौक से रजनी चौक जाने वाली गंगा दार्जिलिंग सड़क पर हमेशा जाम लगा रहना लोगों के लिए परेशानी का सबब बन गया है। यहां सबसे बड़ी समस्या स्थानीय फूटकर दुकानदारों द्वारा सड़क का अतिक्रमण कर दुकान लगाना व सड़क पर की वाहन लगना मुख्य है। लाइन बाजार चौक से रजनी चौक जाने वाली मुख्य सड़क पर पैसेंजर बिठाने के लिए हमेशा ऑटो आदि खड़ी रहती है। गंगा दार्जिलिंग सड़क पर लाइन बाजार से लेकर शिवमंदिर तक सड़क का अतिक्रमण कर सैकड़ों दुकानें लगती है। ठेला अादि के बाद गाड़ियों भी सड़क पर ही लगाई जाती है। लाइन बाजार जैसे व्यस्त बाजार में पार्किग की कोई सुविधा नहीं है। पार्किग नहीं रहने के कारण डॉक्टर से लेकर मरीजों की गाड़ियां सड़क पर ही लगती है। शहर के गिरजा चौक जहां ट्रैफिक पुलिस की हमेशा तैनाती रहती है। वहां से 100 मीटर दूर प्रधान डाक घर के सामने बस पड़ाव बना दिया गया है। सुबह से लेकर शाम तक दो-ती गाड़ियां सड़क के दोनों तरफ लगी रहती है। जिस कारण गिरजा चौक पर जाम की समस्या हमेशा बनी रहती है। यातायात थानाध्यक्ष महेश कुमार यादव ने बताया कि लाइन बाजार में जाम का मुख्य कारण सड़क पर लगने अतिक्रमण है। मजिस्ट्रेट की उपस्थिति में अतिक्रमण हटाने की आवश्कता है।

खबरें और भी हैं...