बैठक:बढ़ते साइबर क्राइम पर रखें नजर, ट्रैफिकिंग एवं मनीलांड्रिंग पर विशेष ध्यान की जरूरत

पूर्णियाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
समीक्षा बैठक में शामिल अधिकारी। - Dainik Bhaskar
समीक्षा बैठक में शामिल अधिकारी।
  • गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से की समीक्षा बैठक

गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव ने वीडियो कांफ्रेंसिंग से जिले की विधि व्यवस्था, कब्रिस्तान व मंदिरों की घेराबंदी, एससी-एसटी अत्याचार, ह्यूमन ट्रैफिकिंग, पास्को एक्ट, जेल मैनेजमेंट समेत अन्य मामलों को लेकर समीक्षा बैठक की। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से आयोजित समीक्षा बैठक के दौरान अपर मुख्य सचिव ने आगामी त्योहारों को लेकर जिले में विधि-व्यवस्था को दुरुस्त रखने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि आने वाले क्रिसमस एवं नए साल को लेकर बॉर्डर एरिया से सटे इलाकों में शराब एवं ड्रग्स की सप्लाई की संभावना रहती है। धंधेबाज इस तरह के अवसर की तलाश में रहते है। इसलिए बॉर्डर एरिया में विशेष ध्यान रखने की जरूरत है। उन्होंने शराब व ड्रग्स की तस्करी को रोकने के लिए लगातार अभियान चलाने का निर्देश दिया। साथ ही साथ उन्होंने ह्यूमन ट्रैफिकिंग एवं मनी लॉन्ड्रिंग पर भी विशेष ध्यान देने का निर्देश दिया। अपर मुख्य सचिव ने बढ़ रहे साइबर क्राइम को लेकर भी चिंता जाहिर की। उन्होंने कहा की साइबर क्राइम अब सुदूर देहाती इलाकों में भी फैल रहा है। इस पर विशेष नजर रखना है। उन्हें टेक्निकल टीम के माध्यम से साइबर अपराधियों पर विशेष नजर रखने का निर्देश दिया। जिलों में बढ़ रहे भू-विवाद के मामले में कमी लाने के लिए अंचलाधिकारी एवं थानाध्यक्ष के माध्यम से थानों में भू-विवाद से संबंधित बैठक की लगातार करवाने का निर्देश दिया। इससे भू- विवादों में कमी आएगी। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से आयोजित समीक्षा बैठक के दौरान जिलाधिकारी राहुल कुमार, एसपी दयाशंकर, उत्पाद अधीक्षक, जिला अल्पसंख्यक पदाधिकारी, सहित अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे।

आयोजित परिचर्चा में उपस्थित अधिकारी।
आयोजित परिचर्चा में उपस्थित अधिकारी।

तालाबों और नदियों के किनारे बांधों पर लगाए जाएंगे फलदार पेड़, नए जलस्रोतों का होगा सृजन

पूर्णिया | हरेक महीने के पहले मंगलवार को जल-जीवन-हरियाली को लेकर कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है। इसी क्रम में मंगलवार को पशु एवं मत्स्य संसाधन विभाग द्वारा जल-जीवन-हरियाली को वर्चुअल माध्यम से परिचर्चा का आयोजन किया गया। परिचर्चा में अपर मुख्य सचिव, प्रधान सचिव एवं संबंधित विभागों के पदाधिकारी शामिल थे। परिचर्चा के दौरान डीआरडीए के संयुक्त निदेशक सुशांतीबारा, नगर आवास विभाग के जसवंत कुमार विद्युत विभाग ब्रेडा के अधिकारियों ने अपने-अपने विभाग में चल रहे जल-जीवन-हरियाली के बारे में विस्तृत चर्चा की।डीआरडीए के संयुक्त निदेशक ने कहा की बताया गया कि सभी विभागों के समन्वय से ही जल-जीवन-हरियाली अभियान पूरा होगा। जल जीवन हरियाली अभियान सरकार की प्राथमिकता में शामिल है। पर्यावरण संरक्षण को लेकर सरकार के द्वारा इस अभियान को शुरू किया गया है।उन्होंने अधिकारियों को नये जल स्रोतों का सृजन करना है। नहर, नदी एवं तालाब को अतिक्रमण से मुक्त कराने का भी निर्देश दिया। जिससे जल स्रोतों का विस्तार हो सके। साथ ही साथ तालाबों एवं नदियों के किनारे बांधों पर फलदार पेड़ लगाने का निर्देश दिया। इससे तालाब एवं नदियों में मछली पालन भी किया जा सके। पशु एवं मत्स्य संसाधन विभाग के द्वारा आयोजित परिचर्चा में समाहरणालय सभागार में डीएम राहुल कुमार, उप विकास आयुक्त, जिला शिक्षा पदाधिकारी, डीपीआरओ, वन विभाग के अधिकारी उपस्थित थे।

खबरें और भी हैं...