पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

विरोध:आईएमए के आह्वान पर डॉक्टरों ने की सांकेतिक हड़ताल, सुबह 8:30 बजे से दोपहर 12:30 बजे तक बंद रही सेवा

पूर्णियाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 4 घंटे ओपीडी बंद, बिना इलाज लौटे दर्जनों मरीज

चिकित्सकों पर हिंसा व बाबा रामदेव के एलोपैथिक चिकित्सकों पर अपमानजनक टिप्पणी के विरोध में आईएमए की सांकेतिक हड़ताल के कारण जिले के दूर-दराज गांवों से आये गरीब मरोजों को बैरंग लौटना पड़ा। सांकेतिक हड़ताल के कारण चिकित्सकों ने सदर अस्पताल का ओपीडी सेवा सुबह 8:30 बजे से दिन के 12:30 बजे तक ठप कर दिया था। इस कारण दर्जनों की संख्या में आये मरीजों को बैरंग लौटना पड़ा। कोरोना महामारी की जांच कराने आये लोगों को भी परेशानी का सामना करना पड़ा। चम्पानगर से आई अनिता देवी ने बताया कि उनकी मां को बुखार, सर्दी, खांसी है।

शुक्रवार की सुबह सदर अस्पताल आई लेकिन ओपीडी बंद रहने के कारण परेशानी बढ़ गई है। उसने बताया कि अब 4 बजे जब ओपीडी खुलेगा, तब डॉक्टर से दिखाकर घर जाउंगी। चिमनीबाजार पुरणदेवी से आई छोटी देवी ने बताया कि वह महिला चिकित्सक से दिखाने आयी थी, लेकिन ओपीडी बंद रहने के कारण वह घर जा रही है। अब दूसरे दिन आएंगे। बेलौरी से आये 60 वर्षीय हरिलाल शर्मा ने बताया कि बरसात के मौसम में ऑटो भाड़ा कर सदर अस्पताल आये थे। ओपीडी बंद रहने के कारण वह वापस घर जा रहे हैं। उसने बताया कि वह गरीब है और प्राइवेट डॉक्टर को दिखाने के लिए उसके पास रुपया भी नहीं है। अब दूसरे दिन आना होगा। ऐसे दर्जनों मरीज ओपीडी के सामने बने शेड में बैठे हुए थे। जिन्होंने बताया कि अब 4 बजे ओपीडी खुलने के बाद डॉक्टर से दिखाकर ही घर जाएंगे।

खबरें और भी हैं...