पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कुव्यवस्था:भागलपुर ले जाने के लिए 3000 रुपए में मिली निजी एंबुलेंस

पूर्णिया19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मेडिकल कालेज से रेफर होने पर प्राइवेट एम्बुलेंस से मरीज को ले जाते परिजन। - Dainik Bhaskar
मेडिकल कालेज से रेफर होने पर प्राइवेट एम्बुलेंस से मरीज को ले जाते परिजन।
  • जिले भर में 102 एम्बुलेंस कर्मियों की हड़ताल का छठा दिन, अब तक नहीं निकला समाधान

जिले भर में 102 एम्बुलेंस कर्मियों के हड़ताल पर जाने के छठें दिन मरीजों की परेशानी कम नहीं हुई। सोमवार को मारपीट में बुरी तरह घायल कसबा के तारानगर की 22 वर्षीय महिला मालती देवी के परिजन मेडिकल कालेज परिसर में एंबुलेंस के लिए छटपटाते रहे। मेडिकल कॉलेज सह अस्पताल के डॉक्टर स्थिति नाजुक बताकर उन्हें भागलपुर रेफर कर दिया था। पेशेंट की स्थिति गंभीर थी, लेकिन सरकारी एम्बुलेंस नहीं मिलने के बाद मेडिकल कॉलेज परिसर में करीब एक घंटे तक निजी एम्बुलेंस का भाड़ा तय करने में समय बीत गया। परिजनों ने बताया कि प्राइवेट एम्बुलेंस वाले 3500 रुपए मांग रहे हैं, गरीब आदमी हैं इतना पैसा नहीं है। वे लोग कम पैसे में एंबुलेंस की व्यवस्था करने के लिए इधर-उधर दौड़ लगाते रहे। तब फिर किसी तरह एक एम्बुलेंस वाले 3000 रुपए में भागलपुर ले जाने के लिए तैयार हुए। इस तरह देरी के कारण मरीज की जान भी जा सकती थी। एम्बुलेंस के अभाव में मरीजों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

सीएस का एनजीओ प्रतिनिधि को वैकल्पिक व्यवस्था करने का निर्देश साबित हो रहा है हवा-हवाई

हड़ताल के कारण जहां मरीज के परिजनों का लगातार आर्थिक शोषण हो रहा है,वहीं अधिकारी सिर्फ बयानबाजी कर खानापूर्ति कर रहे हैं। सीएस का एनजीओ प्रतिनिधि को वैकल्पिक व्यवस्था करने का निर्देश हवा-हवाई साबित हो रहा है। डीपीएम ब्रजेश कुमार सिंह ने बताया कि मरीजों की परेशानी बढ़ी है। इस पर विचार-विमर्श किया जा रहा है। इधर,़102 एंबुलेंस संघ व एनजीओ के बीच दो दिनों से जारी वार्ता का कोई नतीजा सामने नहीं आया है। एम्बुलेंस कर्मियों का कहना है कि जब तक हमारी मांगें पूरी नहीं होगी,तब तक हड़ताल जारी रहेगी।

उम्मीद है आज कर्मियों की हड़ताल खत्म होगी

मरीजों को हो रही परेशानी के लिए जब एनजीओ कर्मी से बात की गई तो के पटना एचआर विकास श्रीवास्तव ने बताया कि कर्मियों से बातचीत चल रही है। इसमें कई मुद्दों पर समझौता भी हुआ है, कुछ पर अभी बात चल ही रही है। उम्मीद है मंगलवार तक कर्मियों की हड़ताल समाप्त हो जाएगी नहीं तो वैकल्पिक व्यवस्था के लिए ऊपर बात की जाएगी।

खबरें और भी हैं...