कार्रवाई:कालाबाजारी, टैगिंग और अधिक दाम में डीएपी बेचने वाले तीन दुकानों का निबंधन निलंबित

पूर्णिया2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • डीएओ ने कहा- डीएपी स्टॉक के बावजूद किसानों को नहीं बेच रहे थे तीनों दुकानदार

जिला कृषि पदाधिकारी ने कालाबाजारी,जमाखोरी, डीएपी खाद के साथ अन्य प्रोडक्ट बेचने व डीएपी खाद को अधिक दाम में बेचने की शिकायत मिलने पर त्वरित करवाई करते हुए जिले के तीन उर्वरक दुकानदारों का निबंधन निलंबित कर दिया है। जिला कृषि पदाधिकारी प्रकाश चंद मिश्र ने बताया जिले में तीन उर्वरक दुकानदार की शिकायत मिली थी कि उर्वरक दुकानदार के द्वारा किसानों को डीएपी खाद के साथ अन्य प्रोडक्ट टैग कर बेच रहे व डीएपी खाद को अधिक दाम में बेच रहे थे। साथ ही साथ किसानों को डीएपी स्टॉक के बावजूद नहीं बेच रहे है। जब इसकी जांच की गई तो जांच प्रतिवेदन में इन सभी बातों का उजागर किया गया था। इसके आलोक में उर्वरक दुकानदारों से जबाव मांगा गया था। जवाब संतोषपूर्ण नहीं होने के कारण तीनों दुकानों का निबंधन का निलंबित कर दिया गया है। इसमें नेशनल खाद बीज भंडार, बेलगछी, डगरुवा, कुणाल ट्रेडर्स ,बरौली बजार रुपौली, किसान खाद बीज भंडार, बेलगछी,डगरुवा शामिल है। उन्होंने बताया कि जिले के भी कालाबाजारी, जमाखोरी, डीएपी खाद के साथ अन्य प्रोडक्ट बेचने व डीएपी खाद को अधिक दाम में बेचने की शिकायत मिलेगी तो उस दुकानदार का लाइसेंस रद्द करते हुए एफआईआर दर्ज किया जाएगा। उन्होंने बताया कि इस काम के लिए जिले चार अनुमंडलीय स्तर पर छापामारी दल बनाया गया है, जो किसी सप्ताह में दो दिन प्रखंडों के उर्वरक दुकानदारों का निरीक्षण करेंगे। साथ ही साथ 10 किसानों से बात करेंगे। छापामारी दल में अनुमंडल कृषि पदाधिकारी सोहन कुमार यादव के साथ देवेंद्र प्रसाद सिंह प्रखंड कृषि पदाधिकारी श्रीनगर, धमदाहा अनुमंडल में, सतीश कुमार सहायक निर्देशक पौधा संरक्षण के साथ प्रखंड कृषि पदाधिकारी रामजीवन सिंह धमदाहा, पूर्णिया सदर अनुमंडल, दीपक कुमार सहायक निर्देशक अभियंत्रण के साथ प्रखंड कृषि पदाधिकारी अजय कुमार सिंह डगरुआ को बनमनखी अनुमंडल, विपिन पोद्दार निर्देशक उद्यान आदि के साथ के साथ छापामारी दल बनाया।

खबरें और भी हैं...