परेशानी:डेढ़ घंटे तक इमरजेंसी में तड़पता रहा मरीज, बिना फर्स्ट ऐड रेफर

पूर्णियाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मरीज के पैर के बहते खून को रुई से बंद करने की कोशिश करते परिजन। - Dainik Bhaskar
मरीज के पैर के बहते खून को रुई से बंद करने की कोशिश करते परिजन।
  • पीएचसी जलालगढ़ में 13 डॉक्टर की तैनाती, हर रोज एक ही डॉक्टर करते हैं इमरजेंसी व ओपीडी में ड्यूटी

प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र जलालगढ़ के इमरजेंसी वार्ड में एक मरीज डेढ़ डेड घंटे से तड़पता रहा लेकिन इमरजेंसी वार्ड में ड्यूटी पर तैनात कर्मी के नहीं रहने के कारण से डॉक्टर ने मरीज का फ़र्स्ट एड किए बिना ही पुर्जा पर हायर सेंटर रेफर कर दिया। मरीज के परिजन सईदुर रहमान ने बताया कि इकरा गांव के मो. अब्दुल करीम जलालगढ़ में मदरसा के समीप छत पर मशीन से लोहे की रॉड काट रहा था। इसी दौरान मशीन हाथ से छूट गया, जिससे दाहिना पैर बुरी तरह कट गया। जिसे ग्रामीणों के सहयोग से प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र जलालगढ़ लाया गया। मरीज को इमरजेंसी वार्ड में डेढ़ घंटे तक दर्द से तड़पता रहा लेकिन मरीज के पैर में हुए जख्म पर टांका तक नहीं किया गया। मरीज के परिजनों ने बताया कि सामने ओपीडी में एक डॉक्टर मरीज को देख रहे थे। जब उनसे मरीज की स्थिति बताई गई तो उन्होंने पर्ची कटवाकर लाने को कहा। पर्ची लाने के बाद डॉक्टर कम्पाउंडर व एएनएम को ढूंढते रहे। जब अस्पताल में कोई नहीं मिला तो डॉक्टर ने कागज पर बिना कुछ इलाज किए ही रेफर लिख दिया। डेढ़ घंटे तक मरीज इमरजेंसी वार्ड के बेड पर पड़ा रहा पैर से ब्लड निकलता रहा। परिजन खुद रुई से पैर का ब्लड बंद करने की कोशिश करने लगे। फिर एक कर्मी ने आकर पैर में रुई लपेट दिया। इसके बाद बाहर से गाड़ी मंगवाकर कर मरीज का इलाज के लिए मेडिकल कॉलेज पूर्णिया लाया गया। परिजनों ने बताया कि प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में मरीज का फ़र्स्ट एड तक नहीं किया गया। डॉक्टरों की ड्यूटी रोस्टर पर नहीं लगाई : प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र जलालगढ़ में 13 डॉक्टर प्रतिनियुक्त हैं, लेकिन एक ही डॉक्टर जिनकी ड्यूटी होती है वही डॉक्टर इमरजेंसी सेवा देखते है और वही डॉक्टर ओपीडी सेवा भी देखते है। इमरजेंसी वार्ड या अस्पताल में डॉक्टरों की ड्यूटी रोस्टर तक नहीं लगाई गई है। जब मरीज के इलाज नहीं होने के जानकारी बीएचएम को दी गई तो बीएचएम उस्मान गनी कक्ष में बैठे परिजनों को बताया कि चलिए देखते हैं। इसके बाद उन्होंने बताया कि वैक्सीनेशन के मेगा कैंप में सबकी ड्यूटी लगाई गई है।

बिना स्टिच रेफर करना गलत, जवाब मांगा जाएगा
मरीज को बिना फ़र्स्ट एड के या बिना स्टिच किए रेफर करना गलत है। इस संबंध में प्रबंधक से जवाब मांगा जाएगा।
डॉ. एसके वर्मा, सिविल सर्जन

खबरें और भी हैं...