अपराध:महादलित युवती से गांव के ही तीन युवकों ने बंधक बना किया दुष्कर्म

कसबाएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
इसी कसबा थाना पहुंचकर पीड़िता की मां ने दिया आवेदन। - Dainik Bhaskar
इसी कसबा थाना पहुंचकर पीड़िता की मां ने दिया आवेदन।
  • पीड़ित की मां ने 3 ग्रामीण पर दर्ज कराया केस, गिरफ्तारी में जुटी पुलिस
  • पुलिस ने युवती का कराया मेडिकल जांच, आरोपी की तलाश जारी

कसबा थाना क्षेत्र में एक 15 वर्षीय महादलित युवती को अगवा कर गांव के ही तीन युवकों ने सामूहिक दुष्कर्म किया। दुष्कर्म के बाद उसे बंधक बना लिया गया, जिसे पुलिस छुड़ाकर लाई। मौके से सभी आरोपी फरार हो गए। हालांकि, पुलिस गैंग रेप की बात से इनकार कर रही है। पुलिस का कहना है कि मुख्य आरोपी के अलावा दो अन्य युवक उसे अगवा करने में मदद कर रहा था। इस मामले को लेकर पीड़ित की मां ने कसबा थाना में गांव के तीन युवकों पर जबरदस्ती अगवा कर उनकी बेटी के साथ सामूहिक दुष्कर्म का आरोप लगाते हुए नामजद मामला दर्ज कराया है। पीड़ित की मां के बयान के आधार पर पुलिस पीड़ित युवती को मेडिकल जांच के लिए सदर अस्पताल भेजा है। घटना के संबंध में जानकारी देते हुए पीड़ित युवती की मां ने बताया कि सोमवार देर रात उनकी बेटी समेत सभी अपने घर में सोए हुए थे। उसी दौरान मो. मुजफ्फर पिता मो. वसिक, मो. नवाजिश पिता मो. तहसीन व मो.अबू बकर पिता मो. आबिद मेरी बेटी को बेहोश करके उठा ले गए। तीनों ने मेरी बेटी के साथ दुष्कर्म किया और फिर उसे बंधक बनाकर रख लिया। सुबह हमलोग बेटी को नहीं देखे तो उसकी खोजबीन किए तो पता चला कि मेरी बेटी को गांव के ही तीन युवकों ने मुजफ्फर के यहां बंधक बनाकर रख लिया है। फिर, आरोपियों ने मेरी बेटी को मुजफ्फर के घर से दूसरी जगह शिफ्ट कर दिया।

पुलिस के पहुंचते ही घर से फरार हो गए सभी आरोपी

पुलिस को दिए आवेदन में पीड़ित की मां ने बताया है कि हमलोग पहुंचे तो मेरी बेटी को छोड़ने से मना करते हुए हमें भगा दिया। हमलोग कसबा थाना पहुंचकर पुलिस को घटना की सारी जानकारी दी। जब तक पुलिस वहां पहुंचती तब तक सभी आरोपी फरार हो गए थे। तब फिर पुलिस के द्वारा मेरी बेटी को छुड़ाया गया। इधर, थानाध्यक्ष पंकज आनंद ने बताया कि पीड़ित के मां के द्वारा मिली सूचना के आधार पर पुलिस मौके पर पहुंची थी। पुलिस लड़की को लेकर उसे मेडिकल जांच के लिए सदर अस्पताल पूर्णिया भेज दिया है। उन्होंने सामूहिक दुष्कर्म की बात को नकारते हुए कहा कि इस मामले में मो. मुजफ्फर को मुख्य आरोपी बनाया गया है। जबकि अन्य दो आरोपी उसके सहयोगी थे, जो लड़की को अगवा करने में उसकी मदद की थी। युवा राजद जिलाध्यक्ष नवीन यादव ने पुलिस से आरोपी की जल्द गिरफ्तारी कर स्पीडी ट्रायल चलाकर फांसी देने की मांग की है।

गिरफ्तारी के लिए की जा रही है छापेमारी
सामूहिक दुष्कर्म की घटना नहीं है। वैसे लड़की को मेडिकल जांच के लिए भेजी गई है। गिरफ्तारी के लिए सभी आरोपियों के ठिकाने पर लगातार छापेमारी की जा रही है। सभी नामजद आरोपी फरार बताए जा रहे हैं।
पंकज आनंद, थानाध्यक्ष, कसबा।

खबरें और भी हैं...